Connect with us

जशपुर

जूदेव समर्थकों के निशाने पर सांसद साय

Published

on

  • जशपुर 12 फरवरी 2019
  • विधानसभा चुनाव में मिली शर्मनाक हार के बाद भी छग भाजपा के अंदर का घमासान नही थम रहा है ।एक दूसरे का टांग खींचकर सत्ता की कुर्सी और पार्टी में ऊंचे पद पर बने रहने की हैंठगिरी और ऐंठन अबतक कम नही हुआ है । लड़ाई के मैदान में बुरी तरह मुँह की खाने के पीछे के कारणों को फिर से दोहराए जाने की कहानी फिर से शुरू हो गयी है ।जिसका पहला एपिसोड रायगढ़ के कोडा तराई में पीएम मोदी के विशाल जनसभा में देखने को मिल गया जब छग में भाजपा को सरकार दिलाने वाले स्व दिलीप सिंह जूदेव के बेटे भाजयुमो के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रबल प्रताप जूदेव को मोदी के मंच पर पार्टी के नेताओं ने बैठने तक की जगह नही दी गयी और जूदेव समर्थकों ने फिर से पार्टी के नेताओं के खिलाफ मोर्चा खोल दिया ।
  • जूदेव समर्थक मानते हैं कि पार्टी के लोग जूदेव परिवार को किनारे करने में लगे हैं और 8 तारीख की घटना इसी साजिश का हिस्सा है।इससे पहले भी कई बार इस परिवार की उपेक्षा सोशल मीडिया और मीडिया में उजागर हो चुकी है ।विधानसभा चुनाव की घोषणा से पूर्व हुए कई पार्टी कार्यक्रमो में स्व दिलीप सिंह जूदेव की तस्वीर नही लगाए जाने को लेकर भी विवाद हो चुके हैं ।अभी कुछ ही दिन पहले लोकसभा चुनाव की तैयारी को लेकर पार्टी की बुलाई गई मेगा बैठक में जूदेव परिवार की बड़ी बहू प्रियम्वदा जूदेव ने नाराजगी जताते हुए बयान दिया था कि बैठक की उन्हें सूचना तक नही दी गयी ।
  • इसी परिवार के सबसे दमदार चेहरा माने जाने वाले चन्द्रपुर के पूर्व विधायक युद्धवीर कई बार खुलकर अपनी नाराजगी जता चुके हैं। माना जा रहा है कि जूदेव परिवार की उपेक्षा के चलते जशपुर जिले में भाजपा विधानसभा चुनाव से पहले ही दो खेमे में बंट चुका है और जशपुर जिले में भाजपा को विधानसभा चुनाव में मिली हार इसी विभाजन की परिणीति है। बताया जाता है कि जूदेव समर्थक खेमे की नाराजगी जशपुर जिले में भाजपा के सूपड़ा साफ होने का सबसे बड़ा कारण है और लोकसभा चुनाव में भी यहां उसी नाराजगी की पुनरावृत्ति होने वाली है।
  • 8 फरवरी को पीएम मोदी की सभा मंच पर प्रबल की उपेक्षा के बाद पहले से ही नाराज चल रहे जूदेव समर्थकों के लिए इस घटना ने आग में घी का काम कर दिया है। जूदेव समर्थक 8 फरवरी के वाकये के लिए केंद्रीय मंत्री विष्णुदेव साय को मान रहे हैं ।इनका कहना है कि प्रबल की उपेक्षा के जिम्मेदार सांसद हैं इसलिए सोशल मीडिया में यह लिखा भी जा रहा है कि विधानसभा की तरह लोकसभा में भी भाजपा हारेगी ।
  • यह भी बताते चलें कि कुछ दिन पहले ही छग जनता पार्टी जूदेव के नाम से स्व दिलीप सिंह जूदेव के दत्तक पुत्र प्रदीप नारायण दीवान ने एक नई पार्टी का गठन भी कर दिया है जिसका नेतृत्व युद्धवीर को सौंपने की तैयारी भी चल रही है ।

SHARE THIS

छत्तीसगढ़

1885 रिक्त पदों पर अतिथि शिक्षकों के माध्यम से होगी पढ़ाई

Published

on

By

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा बस्तर एवं सरगुजा संभाग में संचालित हाई और हायर सेकेण्डरी स्कूल स्तर की शासकीय शालाओं के अंग्रेजी, गणित, भौतिक, रसायन, जीव विज्ञान एवं वाणिज्य विषय में 1885 रिक्त पदों पर नियमित भर्ती होने तक अतिथि शिक्षकों के माध्यम से पढ़ाई की जाएगी। विभाग द्वारा जारी पूर्व आदेश में सुकमा जिले को जोड़ते हुए संशोधित आदेश जारी किया है….

  • सुकमा जिले में 90 अतिथि शिक्षकों की भर्ती की जाएगी। इसी तारतम्य में सुकमा जिले को जोड़ते हुए संशोधित आदेश जिले में रिक्त अतिथि शिक्षकों के पदों की भर्ती के लिए आंशिक संशोधन किया गया है। कोण्डागांव जिले के लिए 250, कांकेर जिले के लिए 200 और जगदलपुर जिले के लिए 190 अतिथि शिक्षकों की भर्ती की जाएगी। सरगुजा संभाग के सूरजपुर जिले में 205 पदों में से अंग्रेजी के 40, गणित के 45, भौतिक के 25, रसायन के 20, जीव विज्ञान के 45 और वाणिज्य के 30 पद पर व्यवस्था की जाएगी। बलरामपुर जिले में 285 पदों में से अंग्रेजी के 60, गणित के 80, भौतिक के 38, रसायन के 25, जीव विज्ञान के 44 और वाणिज्य के 38 पद पर व्यवस्था की जाएगी। कोरिया जिले में 220 पदों में से अंग्रेजी के 40, गणित के 50, भौतिक के 40, रसायन के 30, जीव विज्ञान के 35 और वाणिज्य के 25 पद पर व्यवस्था की जाएगी।
  • शपुर जिले में 45 पदों में से गणित के 15, भौतिक के20, रसायन के 10 पद पर व्यवस्था की जाएगी। सरगुजा जिले में 175 पदों में से अंग्रेजी के 40, गणित के 60, भौतिक के 30, रसायन के 20, जीव विज्ञान के 17 और वाणिज्य के 8 पद पर अतिथि शिक्षकों की भर्ती की जाएगी। सुकमा जिले में अंग्रेजी विषय के लिए 20, गणित के लिए 25, भौतिक के लिए 10, रसायन के लिए 6, जीव विज्ञान के लिए 20 और वाणिज्य के लिए 9 पद अतिथि शिक्षकों से भरे जाएंगे। कोण्डागांव जिले मंे अंग्रेजी विषय के लिए 58, गणित के लिए 68, भौतिक के लिए 39, रसायन के लिए 20, जीव विज्ञान के लिए 50 और वाणिज्य के लिए 15 पदों पर अतिथि शिक्षकों की भर्ती की जाएगी। कांकेर जिले मंे अंग्रेजी के लिए 20, गणित के लिए 45, भौतिक के लिए 50, रसायन के लिए 20, जीव विज्ञान के लिए 25 और वाणिज्य के लिए 40 पदों पर अतिथि शिक्षकों की भर्ती की जाएगी। जगदलपुर जिले मंे अंग्रेजी के लिए 50, गणित के लिए 50, भौतिक के लिए 15, रसायन के लिए 20, जीव विज्ञान के लिए 34 और वाणिज्य के लिए 21 पदों पर अतिथि शिक्षकों की भर्ती होगी।
  • स्तर संभाग के बीजापुर जिले में 100 पदों में से अंग्रेजी के 4, गणित के 34, भौतिक के 17, रसायन के 10, जीव विज्ञान के 10 और वाणिज्य के 25 पद पर व्यवस्था की जाएगी। दंतेवाड़ा जिले में 65 पदों में से अंग्रेजी के 10, गणित के 19, भौतिक के 11, रसायन के 12, जीव विज्ञान के 5 और वाणिज्य के 8 पद पर व्यवस्था की जाएगी। नारायणपुर जिले में 60 पदों में से अंग्रेजी के 10, गणित के 18, भौतिक के 10, रसायन के 6, जीव विज्ञान के 11 और वाणिज्य के 5 पद पर अतिथि शिक्षकों की भर्ती की जानी है। निर्धारित मापदण्ड अनुसार अतिथि शिक्षक व्यवस्था शाला प्रबंधन एवं विकास समिति द्वारा की जाएगी। रिक्त पदों का विज्ञापन संबंधित जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा जारी किया जाएगा। शैक्षणिक योग्यता संबंधित विषय में द्वितीय श्रेणी स्तानकोत्तर उपाधि एवं बी.एड. होना जरूरी है। इसके अलावा माडा पॉकेट क्षेत्र में 631 पदों में से अंग्रेजी के 122, गणित के 159, भौतिक के 78, रसायन के 91, जीव विज्ञान के 125 और वाणिज्य के 56 पद पर व्यवस्था की जाएगी।
  • बिलासपुर संभाग में 292 पदों में से अंग्रेजी के 49,गणित के 70, भौतिक के 37, रसायन के 42, जीव विज्ञान के 59 और वाणिज्य के 35 पद पर व्यवस्था की जाएगी।  रायपुर संभाग में 211 पदों में से अंग्रेजी के 36, गणित के 49, भौतिक के 28, रसायन के 31, जीव विज्ञान के 49 और वाणिज्य के 18 पद पर व्यवस्था की जाएगी। दुर्ग संभाग में 128 में से अंग्रेजी के 37, गणित के 40, भौतिक के 13, रसायन के 18, जीव विज्ञान के 17 और वाणिज्य के 3 पद पर व्यवस्था की जाएगी। अतिथि शिक्षक की व्यवस्था 30 जुलाई तक की जानी है। चयन के लिए वरीयता क्रम में सर्वप्रथम पूर्व में सेवायें दंे चुके विद्यामितानों को प्राथमिकता दी जाएगी। उसके बाद राजस्व जिला के आवेदकों को प्राथमिकता दी जाएगी। जिले में उम्मीदवार उपलब्ध न होने पर दूसरी प्राथमिकता राजस्व संभाग और अंत में संभाग स्तर पर उम्मीदवार नहीं मिलने पर अतिथि शिक्षक की व्यवस्था का क्षेत्र राज्य स्तर होगा।

Disclaimer:
हमारे वेबसाइट www.etoinews.com पोर्टल की सामग्री केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और किसी भी जानकारी की सटीकता, पर्याप्तता या पूर्णता की गारंटी नहीं देता है साथ ही किसी भी त्रुटि या चूक के लिए या किसी भी टिप्पणी, प्रतिक्रिया और विज्ञापनों के लिए जिम्मेदार नहीं है। आपको केवल एक सुविधा के रूप में ये न्यूज या लिंक प्रदान कर रहा है और किसी भी समाचार अथवा लिंक को हमारा वेबसाइट समर्थन नहीं करता है।

SHARE THIS
Continue Reading

छत्तीसगढ़

चाय की महक से छत्तीसगढ़ को मिल रही है एक नई पहचान

Published

on

By

  • जशपुर की चाय की महक अब जिला और प्रदेश की सीमा से बाहर निकल कर देश में फैल रही है। चाय विशेषज्ञ यहां उत्पादित हो रही चाय पत्ती को दार्जिलिंग से बेहतर बता रहे हैं। चाय बगान के सफल प्रयोग के बाद अब प्रदेश सरकार ने जशपुर में सरकारी चाय प्रोसेसिंग यूनिट लगाने की पहल की है। यह प्रदेश का पहला सरकारी चाय प्रोसेसिंग यूनिट होगा। इस यूनिट का संचालन सारूडीह स्थित सरकारी चाय बगान को संचालित कर रही महिला स्व सहायता समूह से जुड़ी महिलाएं करेंगी। सरकार का यह कदम महिला सशक्तीकरण की दिशा में भी एक नया कदम माना जा रहा है। वर्ष 2011 में जब सर्वेश्वरी समूह के अघोरेश्वर गुरूपद बाबा संभव राम जी ने जिले के मनोरा तहसील में स्थित सोगड़ा में चाय बगान की शुरूआत प्रयोग के तौर पर किया था तो किसी ने कल्पना भी नहीं किया था कि बाबा का यह सोच जशपुर के साथ प्रदेश को एक नई पहचान और दिशा देगा। सोगड़ा में मिली सफलता से प्रेरित हो कर प्रदेश सरकार ने जशपुर तहसील के ग्राम पंचायत सारूडीह के ढरूआकोना में 11 एकड़ जमीन पर चाय बगान स्थापित किया। इसके लिए इस गांव के 11 किसानों की जमीन को लीज पर इस वायदे के साथ लिया गया था कि उन्हें चाय बगान का मालिक बना कर,जमीन वापस कर दी जाएगी।
  • शुरूआत में गड़बड़ी का शिकार होने के बाद लडखडाते हुए यह सरकारी चाय बगान भी अब अपने मुकाम पर पहुंचता हुआ दिखाई दे रहा है। 11 एकड़ से शुरू हुआ ढरूआकोना का चाय बगान अब 20 एकड़ तक पहुंच चुका है। जशपुर में चाय बगान की सफलता की कहानी से अब पर्यटक इस ओर तेजी से आकर्षित हो रहे हैं। प्रदेश के साथ पडोसी राज्य झारखण्ड, ओडिसा, बिहार के पर्यटकों से बगान बारहों माह गुलजार हो रहा है। जिले के इन चाय बगानों में आ कर पर्यटकों को इसका अहसास ही नहीं होता कि वे छत्तिसगढ़ में ही है। उन्हें इन बगानों में असम और पश्चिम बंगाल के चाय बगान जैसा आनंद मिलता है। पर्यटकों की बढ़ती संख्या को देखते हुए वन विभाग ने इस बगान में पैगोड़ा का निर्माण भी कराया है। इसके उपर बैठ कर पर्यटक चाय की खुश्बू के साथ यहां की हरियाली, प्राकृतिक दृश्य और चहकते हुए पक्षियों को देखने का आनंद लेते हैं। वन विभाग ने सारूडीह के चाय बगान में पांच स्र्पये का प्रवेश शुल्क भी लगा दिया है। इसके साथ ही पर्यटकों के खान-पान की व्यवस्था करने की योजना भी बनाई जा रही है।
  • जिला प्रशासन ने मनोरा के केसरा गांव में अलग से चाय बगान स्थापित करने की योजना तैयार कर ली है। बगान की सफलता के बाद अब प्रदेश सरकार जशपुर के नजदीक ग्राम बालाछापर में चाय प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित किया जा रहा है। इस यूनिट को शुरू करने से पहले टेस्टिंग की तैयारी इन दिनों अंतिम चरण में है। इस यूनिट को स्थापित करने और इसके मेन्टेनेंस के लिए भारत एलायंस कंपनी से एमओयू साइन किया गया है। इस सरकारी यूनिट की खास बात है कि इसका संचालन सारूडीह के सरकारी चाय बगान का संचालन कर रही स्व सहायता समूह द्वारा किया जाएगा। इस समूह का संचालन महिलाओं द्वारा किया जा रहा है। सोगड़ा में पहले से ही एक चाय प्रोसेसिंग यूनिट चालू है। इससे ग्रीन टी और सीटीसी दोनों का उत्पादन किया जा रहा है, लेकिन सारूडीह में महिलाओं द्वारा हाथ से तैयार की जा रही ग्रीन टी की मांग अब भी बनी हुई है। बाहर से आने वाले पर्यटकों को हैंड मेड टी खूब भा रहा है। इस चाय को स्व सहायता समूह से जुड़ी महिलाएं ही तैयार कर रही है। इसके लिए उन्हें असम से आए लोगों से प्रशिक्षण दिलाया गया है। इस चाय के लिए ढरूआकोना में वन विभाग ने एक भट्टी का निर्माण भी किया है।
Disclaimer:
हमारे वेबसाइट www.etoinews.com पोर्टल की सामग्री केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और किसी भी जानकारी की सटीकता, पर्याप्तता या पूर्णता की गारंटी नहीं देता है साथ ही किसी भी त्रुटि या चूक के लिए या किसी भी टिप्पणी, प्रतिक्रिया और विज्ञापनों के लिए जिम्मेदार नहीं है। आपको केवल एक सुविधा के रूप में ये न्यूज या लिंक प्रदान कर रहा है और किसी भी समाचार अथवा लिंक को हमारा वेबसाइट समर्थन नहीं करता है।

SHARE THIS
Continue Reading

छत्तीसगढ़

सौर सुजला का कमाल, ग्रामीण किसान हुआ मालामाल

Published

on

By

  • सौर सुजला योजना के माध्यम से राज्य में सरफेस वाटर को लिफ्ट कर सिंचाई करने पर बल दिया जा रहा है, जिससे अधिक से अधिक भूमिगत जल भविष्य के लिए सुरक्षित रहे और बरसात के रोके गए पानीे तथा नदी एवं नालों के बहते पानी का सदुपयोग कर खेती को उन्नत किया जा सके। जशपुर जिले में किसानों द्वारा अब अपने पड़ती खेतों में मिर्च, टमाटर, खीरा सहित अन्य सब्जियों की खेती की जा रही है और वे आर्थिक रूप से समृद्धि की राह पर चल पड़े है। योजना के अंतर्गत अब तक 4337 सोलर पंप किसानों के खेतों में सिंचाई के लिए लगाए गए है। इसमें से 80 फीसदी से ज्यादा सोलर पंपों के माध्यम से सरफेस वाटर को लिफ्ट कर सिंचाई की जा रही है।
  • जिले के बगीचा ब्लॉक के ग्राम बिमड़ा के कृषक सुधोराम के लिए यह योजना बेहद लाभकारी सिद्ध हुई है। साल भर पहले उन्होंने अपने खेत में सोलर पंप लगाकर खीरे की खेती शुरू की। एक सीजन में ही सुधो राम ने लगभग 4 लाख से अधिक का मुनाफा कमाया है। सुधो राम के खेत के समीप बहने वाली मैनी नदी से पानी लिफ्ट कर अपने खेतों में सिंचाई की व्यवस्था सुनिश्चित की। उल्लेखनीय है कि सौर सुजला योजना के अंतर्गत 3 एवं 5 हार्सपावर के पंप की स्थापना पर औसतन 3 लाख रुपए का व्यय आता है, जिसमें से किसान को मात्र 10 से 25 हजार रुपए ही देेने होते हैं। 
Disclaimer:
हमारे वेबसाइट www.etoinews.com पोर्टल की सामग्री केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और किसी भी जानकारी की सटीकता, पर्याप्तता या पूर्णता की गारंटी नहीं देता है साथ ही किसी भी त्रुटि या चूक के लिए या किसी भी टिप्पणी, प्रतिक्रिया और विज्ञापनों के लिए जिम्मेदार नहीं है। आपको केवल एक सुविधा के रूप में ये न्यूज या लिंक प्रदान कर रहा है और किसी भी समाचार अथवा लिंक को हमारा वेबसाइट समर्थन नहीं करता है।

SHARE THIS
Continue Reading

ब्रेकिंग खबरे !!!!

Advertisement

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive3 days ago

पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर(etoi news)20/07/2019 द‍िल्‍ली कांग्रेस की अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित...

Etoi Exclusive6 days ago

सिर्फ एक रुपये लेकर किसने जाधव को फांसी से बचाया ?

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर। जासूसी के केस में बंद कुलभूषण जाधव के मामले में...

Etoi Exclusive2 weeks ago

रोहित-राहुल के शतक की बदौलत भारत की श्रीलंका पर शानदार जीत

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer Post Views: 57 SHARE THIS

Etoi Exclusive4 weeks ago

कौन होगा छत्तीसगढ़ का पीसीसी चीफ ?

आज पुरे प्रदेश के राजनैतिक पंडितों के दिमाग में बहुत से प्रश्न तैर रहें होंगे उनमें से ज्यादा तर प्रश्न...

Etoi Exclusive1 month ago

सुर्ख़ियाँ

etoinews.com के बीते दो घंटे की सुखियाॅ क्या रहीं विशेष खबरे और क्या था उनको खबरो के पीछे और क्या...

Advertisement
Advertisement
July 2019
M T W T F S S
« Jun    
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031  
Advertisement

निधन !!!

अन्य खबरे3 days ago

शो के दौरान हुए मौत, लोग एक्टिंग समझते रहे.

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer भारतीय मूल के स्टैंडअप कॉमेड‍ियन मंजूनाथ नायडू की स्टेज पर परफॉर्म...

निधन1 month ago

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर गिरीश कर्नाड का निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer बॉलीवुड के मशहूर एक्टर गिरीश कर्नाड का सोमवार को 81 साल...

Uncategoried4 months ago

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर आज होगा राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर का सोमवार को अंतिम संस्कार होगा। पैंक्रियाटिक कैंसर से पिछले एक...

निधन5 months ago

पैसों की तंगी झेल रहे बॉलीवुड के खलनायक की मौत, घर में मिली लाश

शक्ति कपूर बोले- काम न मिलने से डिप्रेशन में थे महेश आनंद, सेट पर भी पीते थे शराब Click Here...

निधन6 months ago

निधन – फत्तेचंद अग्रवाल सक्ती

सक्ति (कन्हैया गोयल) 31/01/2019 शक्ति शहर की प्रतिष्ठित फर्म काशीराम फत्तेचंद के संचालक सजन अग्रवाल, पवन अग्रवाल एवं नवलकिशोर अग्रवाल...

दिल्ली6 months ago

पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का 89 साल की उम्र में निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer नई दिल्ली 29 जनवरी 2019 भारत के पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज...

निधन6 months ago

श्रीमती कमला सिंह का निधन

जांजगीर-चाम्पा (हरीश राठौर) 28/01/2029 भैंसदा के प्रतिष्ठित ठाकुर परिवार के स्व. पलटन सिंह की धर्मपत्नी श्रीमती कमला सिंह का 28 जनवरी...

निधन6 months ago

जलसंसाधन विभाग के मुख्य अभियंता विजय श्रीवास्तव पंचतत्व में विलीन

27 जनवरी को आयोजित जेष्ठ पुत्रमयंक का वैवाहिक कार्यक्रम स्थगित बिलासपुर (अमित मिश्रा) 27/01/2019 हसदेव कछार जल संसाधन विभाग बिलासपुर...

निधन6 months ago

रायपुर : श्रीमती माणक बाई ललवाणी (जैन) का निधन

रायपुर,14/01/2019 रायपुर निवासी श्रीमती माणक बाई ललवाणी  (जैन) 95 वर्ष, घर्मपत्नी स्व.पन्नालाल ललवाणी का स्वर्गवास आज हो गया हैं जिनकी...

निधन6 months ago

रायपुर : श्रीमती बिदामी बाई बुरड़ का निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर,14/01/2019 आनन्द नगर विनायक इनक्लेव, रायपुर निवासी श्रीमती बिदामी बाई पत्नी...

Advertisement

Trending

Breaking News