Connect with us

देश-दुनिया

विश्व धरोहर दिवस- भारत की टॉप 13 जगहें

Published

on

दुनिया में ऐसी कई सारी जगहें हैं जो अपनी खास बनावट के साथ ही और भी कई विविधताएं समेटे हुए हैं । जानते हैं इंडिया की ऐसी ही कुछ जगहों के बारे में वर्ल्ड हेरिटेज डे के मौके पर

18 अप्रैल को मनाए जाने वाले विश्व धरोहर दिवस (वर्ल्ड हेरिटेज डे) का मकसद लोगों को दुनिया की सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और प्राकृतिक धरोहरों के प्रति जागरूक करना होता है। दुनिया में ऐसी कई सारी जगहें हैं जो अपनी खास बनावट के साथ ही और भी कई विविधताएं समेटे हुए हैं जिनके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं लेकिन यूनेस्को की हेरिटेज लिस्ट में शामिल होने के बाद इन्हें एक अलग ही पहचान मिली। यूनेस्को के हेरिटेज लिस्ट में कुल 878 जगहें शामिल हैं। लेकिन आज हम यहां भारत की खास 15 जगहों और उनकी खासियत के बारे में जानेंगे। खूबसूरत ताजमहल से लेकर शानदार हम्पी तक, इंडिया में कुल 37 ऐसी जगहें हैं जिन्हें यूनेस्को ने अपने वर्ल्ड हेरिटेज लिस्ट में शामिल किया है।

ताज महल

भारत की नायाब धरोहरों में शामिल है आगरा का ताज महल। इसकी खूबसूरती को देखने दुनियाभर से लोग आते हैं। मुगल शासक शाहजहां द्वारा बेगम मुमताज की याद में बनावाया गया सफेद संगमरमर का यह मकबरा दुनिया के सात अजूबों में भी शामिल है। पत्थरों पर बारीकी से किया गया नक्काशी का काम इसकी खूबसूरती में चार चांद लगाता है। आगरा खासतौर से ताज महल के लिए ही पूरी दुनिया में मशहूर है।

खजुराहो

खजुराहो में मंदिरों की तीन श्रेणी वेस्टर्न, ईस्टर्न और सदर्न हैं, जिनमें कुल 25 मंदिर हैं। हर मंदिर पर इंसान के जन्म से लेकर मरण तक की कलाकृतियां पत्थरों पर अंकित हैं। परिसर की दीवारों, मंदिर के अंदर-बाहर और गुंबद तक में महीन नक्काशी है। पत्थर पर उकेरी गई यही कलाकृतियां खजुराहो की पहचान हैं, जिसे देखने सात समंदर पार से विदेशी भी आते हैं।

हम्पी

कर्नाटक के बेल्लारी जिले में स्थित ‘हंपी’ को दुनियाभर के सबसे बेहतरीन पर्यटन स्थलों की इस साल की सूची में दूसरा स्थान दिया गया है। यूनेस्को की ‘वैश्विक धरोहर सूची’ में शामिल हंपी 1336 से 1646 के बीच के विजयनगर साम्राज्य की राजधानी था। तुंगभद्रा नदी के तट पर कई मील तक फैला यह प्राचीन नगर 16वीं शताब्दी के दौरान विश्व के सबसे बड़े और समृद्ध नगरों में से एक था। हंपी ऐतिहासिक व धार्मिक धरोहरों का कुंभ है। यहां 1,600 से भी अधिक हिंदू मंदिर, महल, किले और संरक्षित पत्थरों के स्मारक हैं। वास्तुकला के लिहाज से ये सारे स्मारक अनोखे हैं। यहां हिंदू देवी-देवताओं के कई मंदिर भी हैं जिनमें विरुपक्षा, विजय वित्तला, हेमाकुता मंदिर आदि प्रमुख हैं। यहां भगवान गणेश के साथ नरसिंह देव के भी मंदिर हैं।

अजंता गुफा

अजंता-एलोरा की गुफाएँ महाराष्ट्र के औरंगाबाद शहर के समीप स्थित‍ हैं। ये गुफाएँ बड़ी-बड़ी चट्टानों को काटकर बनाई गई हैं। ये बौद्ध स्मारक गुफाएँ हैं। औरंगाबाद शहर से लगभग 107 किलो मीटर की दूरी पर अजंता की ये गुफाएं पहाड़ को काट कर विशाल घोड़े की नाल के आकार में बनाई गई हैं। इन गुफाओं को वर्ल्ड हेरिटेज साइट के रूप में संरक्षित किया जा रहा है।

काजीरंगा नेशनल पार्क

साल 1905 में ब्रिटिश वायसराय लार्ड कर्जन की पत्नी के रिक्वेस्ट के बाद इसे बनाया गया। काजीरंगा नेशनल पार्क असम की एक बहुत ही बड़ी वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी है। यह खास तौर पर दरियाई घोड़ों के लिए जाना जाता है। इसके अलावा यह टाइगर, हाथी, सांभर, हिरन, भैंस, भालुओं सहित और भी कई प्रकार के पक्षियों के लिए भी फेमस है।

महाबोधि मंदिर

बिहार के बोधगया में स्थित इसी मंदिर के पास पीपल के पेड़ के नीचे महात्मा बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था। अब यहीं से बौद्ध भिक्षुओं की शिक्षा-दीक्षा की शुरुआत होती है। द्रविड़ आर्किटेक्चर के हिसाब से इस मंदिर का निर्माण किया गया है। इस मंदिर की ऊंचाई 180 फीट है। वर्ष 2002 में यूनेस्को द्वारा इस शहर को विश्व विरासत स्थल घोषित किया गया।

फतेहपुर सीकरी

आगरा से महज 39 किमी की दूरी पर बसे फतेहपुर सीकरी की खूबसूरती का अंदाजा यहां आने के बाद ही पता चलता है। 1569 में अकबर द्वारा बनाए गए फतेहपुर सीकरी को 1571 से लेकर 1585 तक मुगलों की राजधानी के तौर पर जाना जाता था। लाल पत्थरों से बनी हुआ फतेहपुर सीकरी हिंदू और इस्लामिक आर्किटेक्चर का एक अनूठा उदाहरण है। पहले इस जगह का नाम फतेहाबाद था जिसे बाद में बदलकर फतेहपुर सीकरी कर दिया गया।

कोणार्क सूर्य मंदिर

ओडिशा में पुरी जिले से लगभग 23 मील की दूरी पर चंद्रभागा नदी के तट पर कोणार्क का सूर्य मंदिर स्थित है। इसकी कल्पना सूर्य के रथ के रूप में की गई है। इसकी संरचना इस प्रकार है कि रथ में 12 जोड़े विशाल पहिए लगे हैं और इसे 7 शक्तिशाली घोड़े खींच रहे हैं। सूर्य का उदयकाल, मंदिर के शिखर के ठीक ऊपर से दिखाई देता है, ऐसा लगता है कि कोई लाल-नारंगी रंग का बड़ा सा गोला शिखर के चारों ओर अपनी किरणें बिखेर रहा है। यह मंदिर अपनी अनूठी वास्तुकला के लिए दुनियाभर में मशहूर है और ऊंचे प्रवेश द्वारों से घिरा है।

रानी की वाव

रानी– की– वाव (रानी की बावड़ी) गुजरात राज्य के पाटण में स्थित है। इसका निर्माण 11वीं सदी में एक राजा की याद के तौर पर करवाया गया था। भारतीय उपमहाद्वीप में बावड़ियों को पानी के भंडारण की प्रणाली माना जाता है। रानी– की– वाव ‘वास्तुशिल्पियों’ की क्षमता को दर्शाता है। यह कुंआ संपत्ति के पश्चिमी किनारे पर बना है और इसमें शाफ्ट बने हैं, इसका व्यास 10 मीटर और गहराई 30 मीटर है। भारतीय उपमहाद्वीप में बावड़ियों को पानी के संसाधन और भंडारण प्रणाली माना जाता है। रानी– की– वाव ‘वास्तुशिल्पियों’ की क्षमता को दर्शाता है। इसका व्यास 10 मीटर और गहराई 30 मीटर है।

चांपानेर पावागढ़ पुरातात्विक उद्यान

इंडो-सारसानिक वास्तुकला के अभूतपूर्व समागम का बेजोड़ नमूना है चांपानेर पावागढ़ पुरातात्विक उद्यान। इंडो सरसानिक वास्तुकला स्थापत्य की एक ऐसी कला है, जिसमें भारतीय इस्लामिक आर्किटेक्चर और हिंदू आर्किटेक्चर को मिलाकर कुछ नया तैयार किया जाता है। इसमें विक्टोरियन वास्तुकला की छाप भी देखने को मिलती है।

भीमबेटका, मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश के भोपाल से 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित भीमबेटका में आज सैकड़ों अद्भुत गुफाएं हैं, जो आदि-मानव द्वारा बनाए गए शैल चित्रों और शैलाश्रयों के लिए के लिए प्रसिद्ध हैं। कहा जाता है कि इनका संबंध ‘मध्य पाषाण’ काल से है। यहां की दीवार, लघुस्तूप, भवन, शुंग-गुप्त कालीन अभिलेख, शंख अभिलेख और परमार कालीन मंदिर हजारों साल पुराने हैं। भीमबेटका का संबंध महाभारत के भीम से माना गया है। यहां की अधिकतर गुफाएं पांडव पुत्र भीम से संबंधित हैं। विंध्य पर्वतमालाओं से घिरी हुई भीमबेटका गुफाओं में प्राकृतिक लाल और सफेद रंगों (कहीं-कहीं पीला और हरा रंग भी प्रयोग हुआ है) से वन्यप्राणियों के शिकार दृश्यों के अलावा घोड़े, हाथी, बाघ आदि के चित्र उकेरे गए हैं।

केवलादेव नेशनल पार्क

राजस्‍थान के भरतपुर जिले में स्‍थ‍ित केवलादेव बेहद खूबसूरत बर्ड सेंचुरी है। इसे केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान के नाम से भी जानते हैं। यहां पर रंगबिरंगे पक्षियों का कलरव पर्यटकों को बहुत भाता है। सर्दी शुरू होते ही यहां पर प्रवासी पक्षि‍यों का आगमन शुरू हो जाता है। इस बर्ड सेंचुरी में अफगानिस्तान, तुर्की, चीन से हजारों किलोमीटर का सफर तय करके पक्षी इस पार्क की शोभा बढ़ाने आते हैं। यहां पर करीब 300 से भी ज्यादा प्रजाति‍यों के पक्षी देखने को मिलते हैं। जिनमें छोटी बतख, जंगली बतख, वेगंस, शोवेलेर्स, पिनटेल बतख, सामान्य बत्तख, लाल कलगी वाली बत्तख शामिल हैं। यह भारत का सबसे बड़ा पक्षी अभयारण्य है। जिसे 1982 में राष्ट्रीय उद्यान और 1985 में यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्‍थल में शामिल किया गया।

नंदा देवी नेशनल पार्क

शानदार पहाड़, चारों ओर फैली हरियाली और उनमें टहलते हुए जीव-जंतु कुछ ऐसा होता है नंदा देवी नेशनल पार्क का नज़ारा। ब्रम्ह कमल और भरल (पहाड़ी बकरी) यहां पार्क की शोभा बढ़ाते हुए मिल जाएंगे। समुद्रतल से 3500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित नंदा देवी नेशनल पार्क, उत्तराखंड में स्थित है। लगभग 630.33 वर्ग किमी में फैला ये उत्तर भारत का सबसे बड़ा पार्क है।

SHARE THIS

अन्य खबरे

19 सितंबर से बांग्लादेश और भारत की अंडर-23 क्रिकेट टीमों के बीच वनडे मैच खेला जाएगा

Published

on

By

राजधानी रायपुर के शहीद वीर नारायण सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में 19 सितंबर से बांग्लादेश और भारत की अंडर-23 क्रिकेट टीमों के बीच वनडे मैच खेला जाएगा। सीरीज में कुल पांच वनडे मैच खेले जाएंगे। सभी मैच रायपुर में ही 19, 21, 23, 25 और 27 सितंबर को खेले जाएंगे। भारतीय टीम की कप्तानी प्रियम गर्ग करेंगे। अखिल भारतीय जूनियर चयन समिति के चेयरमैन आशीष कपूर ने मंगलवार को सीरीज के लिए भारतीय टीम की घोषणा की। टीम में छत्तीसगढ़ के किसी भी खिलाड़ी को जगह नहीं मिल सकी है।
प्रियम गर्ग (कप्तान), यशस्वी जायसवाल, माधव कौशिक, बीआर शरत (विकेटकीपर), समर्थ व्यास, आर्यन जुयाल (विकेटकीपर), ऋतिक रॉय चौधरी, कुमार सूरज, अतीत सेठ, शुभांग हेगड़े, रितिक शौकीन, धरुशंत सोनी, अर्शदीप सिंह, कार्तिक त्यागी, हरप्रीत बरार,

SHARE THIS
Continue Reading

देश-दुनिया

योगी सरकार में मंत्रिमंडल का विस्तार इन्हें मिल सकता है प्रमोशन

Published

on

By

  • उत्तरप्रदेश 21 अगस्त 2019
  • योगी सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार आज यानी बुधवार को 11 बजे लखनऊ के राजभवन में होगा. मिली जानकारी के अनुसार इस मंत्रिमंडल विस्तार में 17 नए चेहरे शामिल होंगे, जबकि करीब पांच स्वतंत्र प्रभार वाले मंत्रियों का प्रमोशन होगा. इसके अलावा दो राज्य मंत्रियों को स्वतंत्र प्रभार मिल सकता है. यानी योगी कैबिनेट में कुल 23 से 24 मंत्री आज शपथ ले सकते हैं. नए मंत्रियों की लिस्ट राजभवन भेजी जा चुकी है. इतना ही नहीं करीब 10 मंत्रियों के विभाग भी बदले जाएंगे, जिनमें डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का नाम भी शामिल है.

इन्हें मिलेगा मौका

  • आज लेने वाले संभावित मंत्रियों की लिस्ट में श्रीराम चौहान, नीलिमा कटियार, आनंद शुक्ला, अशोक कटियार, सतीश चंद्र द्विवेदी, चन्द्रिका उपाध्याय, जीएस धर्मेश, महेश चंद्र गुप्ता, विजय कश्यप, विनय शाक्य, रामनरेश अग्निहोत्री, चौधरी उदयभान, दलबहादुर कोरी, कपिल देव अग्रवाल, राम शंकर पटेल और रवीन्द्र जायसवाल और अपना दल के आशीष पटेल का नाम शामिल है.

इन्हें योगी सरकार में मंत्रिमंडल का विस्तार इन्हें मिल सकता है प्रमोशन

  • इसके अलावा करीब चार स्वतंत्र प्रभार मंत्रियों को कैबिनेट मंत्री बनाया जाएगा. इनमें प्रमुख नाम ग्राम्य विकास मंत्री डॉ महेंद्र सिंह, पंचायती राज मंत्री चौदरी भूपेंद्र सिंह, गन्ना विकास मंत्री सुरेश राणा, होमगार्ड व पिछड़ा कल्याण मंत्री अनिर राजभर और परती व भूमि विकास मंत्री उपेंद्र तिवारी का नाम शामिल है. इसके अलावा सूचना राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी और नगर विकास राज्यमंत्री गिरीश यादव को स्वतंत्र प्रभार मिल सकता है. इन सभी को उनके बेहतर प्रदर्शन की वजह से प्रमोशन मिलेगा.

10 मंत्रियों के बदले जा सकते हैं विभाग

  • यही नहीं करीब 10 मंत्रियों के विभाग को बदले जाने की सूचना है. इनमें स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह समेत कई मंत्रियों के विभाग बदले जा सकते हैं. इसके अलावा ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा केशव प्रसाद मौर्य , सुरेश राणा सतीश महाना समेत अन्य मंत्रियों के विभाग में भी फेरबदल संभव है.

विस्तार से पहले इनका हुआ इस्तीफा

  • हालांकि योगी सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार से पहले कई मंत्रियों ने इस्तीफा भी दे दिया. वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने उम्र का हवाला देते हुए इस्तीफा दिया तो वहीं बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल को ख़राब प्रदर्शन की वजह से इस्तीफा देना पड़ा. इन दोनों के अलावा खनन मंत्री अर्चना पांडेय और सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह को भी इस्तीफा देना पड़ा है. इससे पहले परिवहन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वतंत्र देव सिंह प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद पहले ही इस्तीफा दे चुके हैं. सभी का इस्तीफा मुख्यमंत्री ने स्वीकार कर लिया है.

SHARE THIS
Continue Reading

देश-दुनिया

कश्मीर मुद्दे पर ट्रंप ने फिर मध्यस्थता की पेशकश की कहा वह खदु पीएम मोदी से बात करेंगे

Published

on

By

  • वाशिंगटन 21 अगस्त 2019
  • अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत और पाकिस्तान के बीच लंबे समय से टकराव का मुद्दा रहे कश्मीर की ‘विस्फोटक’ स्थिति पर एक बार फिर मध्यस्थता की पेशकश की है. डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष सप्ताहांत में यह मुद्दा उठायेंगे. अमेरिका ने पीएम नरेंद्र मोदी से कश्मीर में तनाव कम करने के लिये कदम उठाने का अनुरोध किया था. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा, “कश्मीर बेहद जटिल जगह है. यहां हिंदू हैं और मुसलमान भी और मैं नहीं कहूंगा कि उनके बीच काफी मेलजोल है.” उन्होंने कहा, “मध्यस्थता के लिये जो भी बेहतर हो सकेगा, मैं वो करूंगा.”
  • इससे पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से फोन पर बातचीत की था और उन्हें कश्मीर पर भारत के खिलाफ बयानबाजी में एहतियात बरतने को कहा . ट्रम्प ने साथ ही स्थिति को मुश्किल बताया और दोनों पक्षों से संयम बरतने को कहा था. ट्रंप ने, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से सोमवार को फोन पर करीब 30 मिनट बात करने के बाद खान से बात की थी. मोदी ने बातचीत के दौरान पाकिस्तानी नेताओं द्वारा भारत विरोधी हिंसा के लिए उग्र बयानबाजी और उकसावे का मुद्दा उठाया था. व्हाइट हाउस के अनुसार, ट्रम्प ने खान से जम्मू-कश्मीर मामले पर भारत के खिलाफ बयानबाजी में संयम बरतने और तनाव कम करने को लेकर चर्चा की.
  • कश्मीर मुद्दे को लेकर भारत के खिलाफ अपनी मुहिम जारी रखते हुए खान ने रविवार को भारत सरकार को ‘फासीवादी’ और ‘श्रेष्ठतावादी’ करार दिया था तथा कहा था कि यह पाकिस्तान और भारत में अल्पसंख्यकों के लिए खतरा है. उन्होंने यह भी कहा था कि दुनिया को भारत के परमाणु आयुध की सुरक्षा पर भी गौर करना चाहिए क्योंकि यह न केवल क्षेत्र, बल्कि विश्व पर असर डालेगा. व्हाइट हाउस ने कहा कि खान के साथ बातचीत के दौरान, ट्रम्प ने दोनों पक्षों से तनाव बढ़ने से बचने और संयम बरतने की आवश्यकता पर जोर दिया. इसने कहा कि दोनों नेताओं ने अमेरिका-पाकिस्तान आर्थिक एवं व्यापार सहयोग बढ़ाने की दिशा में काम करने पर भी सहमति जतायी थी.
  • डोनाल्ड ट्रंप ने बीते दिनों पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ व्हाइट हाउस में बैठक के दौरान कश्मीर मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के बीच ‘मध्यस्थ’ बनने की पेशकश की थी. हालांकि भारत ने सीधे तौर पर ट्रंप की इस पेशकश को खारिज कर दिया था.

SHARE THIS
Continue Reading

#Chhattisgarh खबरे !!!!

छत्तीसगढ़9 mins ago

आंगनबाडी कार्यकर्ताओ की सेवा समाप्त

                  आंगनबाडी कार्यकर्ताओ की सेवा समाप्त Click Here To Read Astrological Articles...

छत्तीसगढ़31 mins ago

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका के 18 पदों के लिए 30 तक आवेदन

         आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिका के 18 पदों के लिए 30 तक आवेदन Click Here To Read...

छत्तीसगढ़44 mins ago

मंत्रालय के जीएडी सहित कई विभागों के अफसरों का तबादला, देखिये सूची…

                  मंत्रालय के जीएडी सहित कई विभागों के अफसरों का तबादला, देखिये...

छत्तीसगढ़57 mins ago

मुख्यमंत्री ने दी हलषष्ठी की बधाई और शुभकामनाएं

                                  मुख्यमंत्री ने दी...

अन्य खबरे2 hours ago

19 सितंबर से बांग्लादेश और भारत की अंडर-23 क्रिकेट टीमों के बीच वनडे मैच खेला जाएगा

राजधानी रायपुर के शहीद वीर नारायण सिंह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में 19 सितंबर से बांग्लादेश और भारत की अंडर-23 क्रिकेट...

Advertisement

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive22 hours ago

मोहन भागवत के आरक्षण मुद्दे पर किये ट्वीट से मचा बवाल ! जाने आरक्षण आखिर चीज क्या है ?

मोहन भगवत ने ट्विटर पर जारी बयान में कहा कि समाज में सदभावना पूर्वक परस्पर बातचीत के आधार पर सब...

Etoi Exclusive2 days ago

राजीव की काँग्रेस आखिर हांफ क्यों रही है ?

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer गाँधी,नेहरू,शास्त्री, इंदिरा ,राजीव,नरसिंहा राव जैसे दिग्गजों की बिरसा पार्टी  हांफ क्यों...

Etoi Exclusive2 days ago

क्या प्रदेश के मुखिया के सोच के अनुरूप नरवा,गरवा,घुरुआ,बारी पर अमल हो रहा है ?

नरवा,गरवा,घुरुआ,बारी, पर सरकारी अमला ठीक चल रहा है ? या फिर  छत्तीसगढ़ की  इस ब्रांड और ग्रैंड योजना के अमल...

Etoi Exclusive1 week ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें सुबह की सुर्खियाँ 12/08/2019

  Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer     दिनांक 12/08/2019 का पंचांग एवं राशिफल श्रावण सोम...

Etoi Exclusive2 weeks ago

नेशनल कॉन्फ्रेंस ने अनुच्छेद 370 को खत्म करने के मोदी सरकार के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के केंद्र सरकार के फैसले...

Advertisement
August 2019
M T W T F S S
« Jul    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293031  
Advertisement

निधन !!!

Advertisement

Trending