Connect with us

देश-दुनिया

परेश रावल और कुशाल टंडन के बाद प्रियांक शर्मा ने की टिक-टॉक को लेकर ये मांग …

Editor

Published

on

सोशल मीडिया पर  ट्रेंड कर रहा हैं.  कई दिग्गज लोगों ने चाइनीज ऐप टिक-टॉक पर बैन लगाने की मांग की हैंl इसमें परेश रावल और कुशाल टंडन भी शामिल हैंl अब परेश रावल के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए प्रियांक शर्मा ने लिखा है कि इस ऐप का फैंस उपयोग करना बंद कर देंl

सोशल मीडिया परविवाद के बाद कई यूजर्स ट्विटर पर ट्रेंड कर रहे हैं। के एसिड हमलों को बढ़ावा देने वाले वीडियो शेयर करने के बाद मामला और तूल पकड़ता जा रहा हैं। अब अभिनेता प्रियांक शर्मा चाहते हैं कि प्रेमिका बेनाफ्शा सूनावाला के होने के बाद भी प्रशंसक ऐप का उपयोग करना बंद कर दें। परेश रावल के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए बिग बॉस के पूर्व प्रतियोगी प्रियांक शर्मा ने ट्वीट किया, ‘ इतने बड़े आर्टिस्ट भी बोल रहे हैं मान जाओ यार थोडा समजोl

ट्वीट में शर्मा ने उल्लेख किया कि परेश रावल जैसे बड़े कलाकार भी टिकटॉक पर प्रतिबंध का समर्थन कर रहे हैं। इसलिए प्रियांक ने प्रशंसकों से आग्रह किया वह इसका उपयोग बंद कर दिया। उन्होंने अपने सभी प्रशंसकों से स्थिति को समझने और एप्लिकेशन को डिलीट करने का अनुरोध किया। गौरतलब हैं कि प्रियांक गर्लफ्रेंड बेनाफ्शा सूनावाला को भूल गए हैं, वह चीनी ऐप का उपयोग भीकरती हैं। दो दिन पहले तक यह डिलीट नहीं हुआ थाl बेनाफ्शा ने अपने डांस का एक वीडियो शेयर किया था। बेनाफ्शा के पास एक ऑफिशियल टिकटॉक अकाउंट है, जिसमें 139.5K फॉलोअर है और लगभग 585.6K लोगों ने उनके अकाउंट को लाइक करते है।

Advertisement
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

देश-दुनिया

बांग्लादेशी महिला के पास दो देश का पासपोर्ट, FIR दर्ज होते ही फरार

Avatar

Published

on

बांग्लादेशी महिला के पास से जांच में दो देश का पासपोर्ट मिलने के बाद कोतवाली पुलिस ने एफआइआर दर्ज कर महिला की तलाश शुरू कर दी है। वहीं एफआइआर की भनक लगते ही बांग्लादेशी महिला फरार हो गई है। बांग्लादेशी महिला 16 साल से दुर्ग के कसारीडीह में रह रही थी। कोतवाली पुलिस के अनुसार आरोपित शबीना नाज मुक्ता मूलत: नया बाजार रंगपुर जिला सैदरपुर बांग्लादेश की रहने वाली है। 16 साल पहले शबीना 15 दिन का वीजा लेकर भारत आई थी।

भारत आने के बाद शबीना दुर्ग कसारीडीह निवासी अपने फूफा के घर आ गई। देखते ही देखते 15 दिन की वैधता भी समाप्त हो गई। वैधता समाप्त होने के बाद शबीना ने इसकी जानकारी न तो क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय को दी और न ही किसी थाने में। शबीना 16 साल तक चुपके से दुर्ग में निवास कर रही थीं।

जांच में हुआ पर्दाफाश

पुलिस ने बताया कि शबीना 16 साल की उम्र में बांग्लादेश से भारत आई थी और दुर्ग के कसारीडीह में अपने फूफा के घर रह रही थी। इसी दौरान शबीना की शादी की उम्र हो गई। जिसके बाद शबीना ने अलमास नाम के युवक से शादी कर ली। शादी के बाद शबीना के बच्चे हुए।

बच्चों के बड़े होने के बाद शबीना के पति ने 2019 में बैंकाक घूमने का प्लान बनाया। इसके लिए शबीना के पति ने क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय रायपुर से पोसपोर्ट के लिए आवेदन किया। रायपुर कार्यालय से शबीना व उसके पति का पासपोर्ट भी बन गया। पोसपोर्ट बनने के बाद शबीना अपने पति के साथ बैंकाक जाने के लिए रवाना हो गई।

कोलकाता एयरपोर्ट में अधिकारियों ने पासपोर्ट की जांच की। पासपोर्ट जांच के दौरान अफसरों को संदेह हुआ। संदेह होने पर अफसरों ने शबीना से कड़ाई से पूछताछ की। पूछताछ में शबीना ने बांग्लादेशी नागरिक होने का हवाला दिया और भारतीय पोसपोर्ट बनाने की बात भी कही। जिसके बाद भारत सरकार विदेश मंत्रालय ने क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय रायपुर को पत्र लिखकर जांच करने निर्देशित किया।

छह माह चली जांच

क्षेत्रीय पासपोर्ट कार्यालय रायपुर ने दुर्ग एसपी को मामले की जांच की जिम्मेदारी दी। एसपी ने इसे गंभीरता से लेते हुए मामले की जांच कराई। जांच में कई चौकाने वाले खुलासे हुए। शबीना ने बांग्लादेशी पासपोर्ट रखते हुए भारत का भी पासपोर्ट बनवा लिया। जांच के बाद पुलिस ने शबीना के खिलाफ धारा 420 व पासपोर्ट अधिनियिम 12 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर लिया।

16 साल से शबीना भारत में रह रही हैं, इसकी जानकारी विभागीय अफसरों को लगी और न ही संबंधित थाना क्षेत्र के अधिकारी को। विभागीय अफसरों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। 15 दिन का वीजा अवधि समाप्त होने के बाद भी विभागीय अफसरों ने शबीना की पतासाजी नहीं की, जिसका फायदा उठाते हुए शबीना ने स्थानीय स्तर पर आधार कार्ड, वोटर कार्ड भी बनवा लिया।

Continue Reading

देश-दुनिया

लॉकडाउन में भी ये बिजनेश रहा हिट, सरकार खोलने के लिए देती है 2.5 लाख रुपए

Avatar

Published

on

कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के दौरान प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंद्र ने साल 2020-21 के पहले दो महीने में 100 करोड़ रुपए से ज्यादा की बिक्री की है. जनऔषधि केंद्रों पर सस्ती दवाओं की खरीद से लोगों को कुल 800 करोड़ रुपए की बचत हुई है. बता दें कि आम आदमी पर दवा के खर्च को कम करने के लिए मोदी सरकार ने साल 2015 में प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना शुरू की थी. सरकार का जेनरिक दवाओं का प्रचलन बढ़ाने पर जोर है. इसके लिए सरकार लोगों को जनऔषधि केंद्र खोलने का अवसर भी दे रही है.

90 फीसदी तक सस्ती मिलती मिलती हैं दवाएं

जनऔषधि केंद्रों पर दवाएं औसत बाजार मूल्य की तुलना में 50 से 90 फीसदी सस्ती मिलती हैं. अभी देश भर में 726 जिलों में 6,300 से अधिक जनऔषधि केंद्र हैं. जनऔषधि केंद्र खोलने प्रोसेस भी काफी आसान है. साथ इसे खोलने में ज्यादा खर्चा भी नहीं आता है. आप इसे खोलने के लिए ऑनलाइन आवेदन भी कर सकते हैं. सरकार भी आपकी इसे खोलने में आर्थिक मदद करती है. साथ ही इसे खोलने के लिए आपकी मोटी कमाई भी होती है.

सरकार से मिलती है मदद

Janaushdhi Kendra खोलने पर 2.50 लाख रुपए का खर्च आता है और सरकार इसका पूरा खर्च उठाती है. सरकार से दवाओं की बिक्री पर 20 फीसदी तक मार्जिन मिलता है. हर महीने होने वाली बिक्री पर अलग से 15 फीसदी इंसेंटिव मिलता है. इंसेंटिव की अधिकतम सीमा 10 हजा रुपए महीने तक फिक्स है. यह इंसेंटिव तब तक मिलता है जब तक 2.50 लाख रुपए पूरे न हो जाएं.

कौन खोल सकते हैं जनऔषधि केंद्र?

सरकार ने जेनेरिक मेडिकल स्टोर शुरू करने के लिए तीन तरह की कैटेगरी बनाई है. पहली कैटेगरी के तहत काई भी व्यक्ति, बेरोगार फार्मासिस्ट, डॉक्टर या रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशन स्टोर शुरू कर सकता है. दूसरी कैटेगरी के तहत ट्रस्ट, एनजीओ, प्राइवेट हॉस्पिटल, सोसायटी सेल्फ हेल्प ग्रुप को अवसर मिलेगा. तीसरी कैटेगरी में राज्य सरकारों की तरफ से नॉमिनेट की गई एजेंसीज़ होंगी. इसके लिए 120 स्क्वैयर फीट एरिया में दुकान होनी जरूरी है. स्टोर शुरू करने के लिए सरकार की तरफ से 900 दवाइयां उपलब्ध कराई जाएंगी.

कैसे करें अप्लाई?

स्टोर खोलने के लिए आपके पास रिटेल ड्रग सेल करने का लाइसेंस जन औषधि स्टोर के नाम से होना चाहिए. जो व्यक्ति या एजेंसी स्टोरी खोलना चाहता है, वह http://janaushadhi.gov.in/ पर जाकर फार्म डाउनलोड कर सकता है. एप्लीकेशन को ब्यूरो ऑफ फॉर्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ऑफ इंडिया के जनरल मैनेजर के नाम से भेजना होगा. ब्यूरो ऑफ फॉर्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग ऑफ इंडिया का एड्रेस जनऔषधि की वेबसाइट पर और भी जानकारी उपलब्ध है.

अगर आप खुद आवेदन कर रहे हैं तो अपने आधार व पैन कार्ड की जरूरत होगी. अगर कोई गैर सरकारी संगठन , फार्मासिस्ट, डॉक्टर, और मेडिकल प्रैक्टिशनर जन औषधि केंद्र खोलने के लिए आवेदन करता है तो उसे आधार, पैन, संस्था बनाने का सर्टिफिकेट एवं उसका रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट देना होगा. PMJAY के तहत औषधि केंद्र खोलने के लिए आपके पास कम से कम 120 वर्गफीट की जगह होनी चाहिए.

कितनी होगी कमाई?

जेनेरिक मेडिकल स्टोर के जरिए महीने में जितनी दवाइयों की बिक्री होगी, उसका 20 फीसदी कमीशन के रूप में मिलेगा. इस लिहजा से अगर आपने महीने में 1 लाख रुपये की भी बिक्री की तो उस महीने में आपको 30 हजार रुपये की कमाई हो जाएगी.

Continue Reading

अन्य खबरे

अब इबोला वायरस ने भी दी दस्तक, इस देश में हुईं 5 मौतें

Avatar

Published

on

भुखमरी, टिड्डी प्लेग और खसरा झेल रहे अफ्रीका में अब इबोला वायरस की भी वापसी होती नज़र आ रही है. डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ़ कांगो में इबोला वायरस के नए मामले सामने आए हैं.

अफ्रीका में कोरोना संक्रमण के डेढ़ लाख से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं और करीब 6000 लोग इस संक्रमण की चपेट में आकर अपनी जान भी गंवा चुके हैं. भुखमरी, टिड्डी प्लेग और खसरा झेल रहे अफ्रीका में अब इबोला वायरस की भी वापसी होती नज़र आ रही है. डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ़ कांगो (DRC) में इबोला वायरस के नए मामले सामने आए हैं. हाल ही में इस देश में इबोला के मामले मिले थे, लेकिन इस बार नए केस जहां ये बीमारी फैली थी उससे एक हज़ार से अधिक किलोमीटर दूर मिले हैं और ये नया क्लस्टर होने की आशंका जाहिर की गयी है.

कांगो के स्वास्थ्य मंत्री इटेनी लोंगोंडो ने बताया कि पश्चिमी शहर म्बानडाका में वायरस से 5 लोगों की मौत हुई है. उन्होंने कहा है कि प्रभावित क्षेत्र की लिए डॉक्टर और दवाइयां रवाना किए गए हैं. डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ़ कांगो अप्रैल में इबोला महामारी के अंत की घोषणा करने ही वाला था कि नए मामले सामने आ गए थे. डीआरसी इबोला के अलावा ख़सरा और कोरोना महामारी से भी जूझ रहा है.

इबोला ने 750 मील का सफ़र कैसे किया?

न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक कांगो के दक्षिणी इलाके में स्थित शहर मेबंका में इबोला वायरस के कई नए मामले सामने आ रहे हैं. यूनिसेफ के मुताबिक सोमवार तक यहां इबोला से 5 लोगों की मौत हो चुकी थी. सिर्फ एक महीने पहले ही कांगो ने देश में इबोला के मामले न होने की और महामारी पर काबू पा लिए जाने कि घोषणा की थी. बेटे 2 सालों में यहां इबोला से 2275 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. हालांकि कांगो स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि स्थिति अभी भी नियंत्रण में है. फ़िलहाल इस बात की छानबीन की जा रही है कि इबोला इतनी दूर कैसे पहुंचा है, क्योंकि पिछले सभी मामले उत्तरी कांगो में मिले थे.

कांगो में भी कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन जारी है. यहां संक्रमण के 3000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं जबकि 71 लोगों की इससे मौत भी हो गयी है. WHO के मुताबिक कांगो और कई अफ्रीकी देश टेस्ट किट और अन्य स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी से जूझ रहे हैं. ऐसे में यहां संक्रमण के मामलों में अचानक तेजी दर्ज की जा सकती है. कांगो में खरसा का भी प्रकोप जारी है और जनवरी 2019 से लेकर अभी तक 3,50,000 लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं जबकि 6500 से ज्यादा की मौत हो चुकी है. कांगो उन अफ्रीकी देशों में से भी है जहां टिड्डियों ने कहर बरपाया हुआ है.

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

छत्तीसगढ़15 mins ago

छत्तीसगढ़: कोरोना क्वारंटाइन सेंटर में बुजुर्ग की मौत… मचा हड़कंप

क्वारंटाइन सेंटर में रहे एक बुजुर्ग की मौत हो गई है। बुजुर्ग की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हुई...

छत्तीसगढ़23 mins ago

चाट-गुपचुप सहित सभी स्ट्रीट फूड की दुकानें खुलेगी, राज्य सरकार ने शर्तों के साथ दी इजाजत…

रायपुर : सड़क किनारे ठेला और दुकान लगाकर खाने-पीने के समान बेचने वालों को भी राज्य सरकार ने दुकान खोलने...

छत्तीसगढ़33 mins ago

राज्य में पहले खुलेंगे मिडिल स्कूल , फिर हाई , हायर सेकेंडरी और अंत में प्रायमरी स्कूल 1 जुलाई से क्रमशः स्कूल खोलने की तैयारी

छत्तीसगढ़ स्कूल शिक्षा विभाग रायपुर – छत्तीसगढ़ में भी केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की तर्ज पर क्रमशः मिडिल स्कूल,हाई...

छत्तीसगढ़37 mins ago

छत्तीसगढ़ सरकार ने बसों के लिए नए गाइलडाइन जारी, तय किए सख्त नियम

देशभर में अनलॉक-1.0 की गाइडलाइन जारी होने के बाद राजधानी रायपुर समेत प्रदेशभर में अब सिटी बसें चलेंगी. छत्तीसगढ़ सरकार...

छत्तीसगढ़58 mins ago

छत्तीसगढ़ कॉलेज एग्जाम-छात्रों के लिए सरकार का बड़ा फैसला, फायनल ईयर के छात्रों को देना होगा एग्जाम और फर्स्ट एंड सेकेंड ईयर के छात्र ऐसे होंगे पास, उच्च शिक्षा विभाग ने जारी किया आदेश

विश्वविद्यायों के फायनल ईयर के छात्रों को परीक्षा देनी होगी। बाकी फर्स्ट एवं सेकेंड ईयर के छात्रों को परीक्षा में...

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive15 hours ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 02/06/2020

सुधि पाठकों की,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये, उसे छोड़  आगे बढ़ जाएँ ,देश...

Etoi Exclusive2 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 01/06/2020

सुधि पाठकों की,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये, उसे छोड़  आगे बढ़ जाएँ ,देश...

Etoi Exclusive3 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 31/05/2020

सुधि पाठकों की,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये, उसे छोड़  आगे बढ़ जाएँ ,देश...

Etoi Exclusive4 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 30/05/2020

सुधि पाठकों की,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये, उसे छोड़  आगे बढ़ जाएँ ,देश...

Etoi Exclusive5 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 29/05/2020

सुधि पाठकों की,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये, उसे छोड़  आगे बढ़ जाएँ ,देश...

Calendar

June 2020
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
2930  

निधन !!!

Advertisement

Trending