Connect with us

देश-दुनिया

महिला डॉक्‍टर ने दक्षिण कोरिया में संक्रमण फैलने पर लगाए ब्रेक

Published

on


चीन से बाहर निकलने के बाद कोरोना वायरस (Coronavirus) ने दक्षिण कोरिया को भी अपनी चपेट में ले लिया. दक्षिण कोरिया (South Korea) में पहला कोरोना पॉजिटिव केस 4 फरवरी को सामने आया. इसके बाद 10 दिन के भीतर यहां संक्रमित मरीजों की संख्‍या में तीन गुनी वृद्धि हो गई. ऐसा लगा कि ये वायरस चीन के बाद दक्षिण कोरिया में सबसे ज्‍यादा तबाही मचाएगा. हर दिन मरीजों की तादाद बढती जा रही थी. फिर फैमली डॉक्‍टर का काम कर चुकीं डॉ. जेऑन्‍ग कियोंग कोरोना वायरस और दक्षिण कोरिया के बीच ढाल की तरह सामने आईं. उन्‍होंने अपनी जबरदस्‍त रणनीति से दक्षिण कोरिया को इस वैश्विक महामारी (Pandemic) की चपेट से बाहर निकाल लिया. अब देश में रोज सामने आने वाले नए मामलों की संख्‍या घट गई है, जबकि मरीज ठीक होकर घर लौट रहे हैं.

शुरू में ही संदिग्‍धों को पहचान कर कोरोना टेस्‍ट कराया गया

दक्षिण कोरिया में बीते 50 दिन में 9,037 संक्रमण के पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. इनमें 120 लोगों की मौत हो चुकी है. कुल 3,507 मरीज स्‍वस्‍थ होकर अपने घरों को लौट चुके हैं. दरअसल, दक्षिण कोरिया में एक धार्मिक आयोजन से कोरोना वायरस फैलने की शुरुआत हुई थी. इसके बाद डॉ. जेऑन्‍ग ने उस आयोजन में शामिल हुए 2.12 लाख लोगों की पहचान और व्‍यक्तिगत जानकारियां जुटाने का आदेश दिया. इसके बाद हर व्‍यक्ति का मेडिकल टेस्‍ट किया गया. 25 फरवरी के बाद से अब तक दक्षिण कोरिया में 3 लाख से ज्‍यादा संदिग्‍ध लोगों का कोरोना टेस्‍ट हो चुका है. दक्षिण कोरिया ने संक्रमण को फैलने से रोकने में मेडिकल टेस्‍ट को ही सबसे कारगर हथियार माना.

डॉ. जेऑन्‍ग ने पूरे देश में बनवाए टेलीफोन बूथ जैसे सेंटर्स

डॉ. जेऑन्‍ग की रणनीति के तहत 27 फरवरी तक देश की चार कंपनियां टेस्टिंग किट बना रही थीं. वहां आज भी हर दिन 20,000 लोगों का कोरोना टेस्‍ट किया जा रहा है. डॉ. जेऑन्‍ग की टीम इस पर लगातार नजर रख रही है. दक्षिण कोरिया में जगह-जगह टेलीफोन बूथ के आकार के टेस्टिंग स्टेशन बनाए गए हैं. डॉ. जेऑन्‍ग सोल में फैमिली डॉक्‍टर के तौर पर काम करती थीं. इसके बाद 1995 में वह नेशनल हेल्थ मिनिस्ट्री में नियुक्‍त हुईं. स्‍वाइन फ्लू संक्रमण के दौरान 2009 में उन्हें पदोन्नत कर इमरजेंसी केयर डिपार्टमेंट की जिम्मेदारी दी गई. एच1एन1 वायरस से दक्षिण कोरिया में 7.5 लाख लोग संक्रमित हुए थे. मर्स वायरस से निपटने में असफल रहने पर सीडीसी की काफी आलोचना हुई थी. इसके बाद डॉ. जेऑन्‍ग को कोरियाई सेंटर्स फॉर डिजीज एंड पब्लिक कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (KCDC) का चीफ बना दिया गया.

कोरियाई सीडीसी की पहली महिला डायरेक्‍टर हैं डॉ. जेऑन्‍ग

सीडीसी के पूर्व निदेशक का कहना है कि ऐसे हालात में कोई भी दूसरा व्‍यक्ति डॉ. जेऑन्‍ग से बेहतर काम नहीं कर सकता है. यह काम सिर्फ जानकारी से नहीं किया जा सकता है. डॉ. जेऑन्‍ग के पास काफी अनुभव भी है. उन्हें पता है कि ऐसे हालात में क्या किया जा सकता है और क्या नहीं करना है. वह केसीडीसी की पहली महिला डायरेक्‍टर हैं. राष्‍ट्रपति मून जे इन ने उन्‍हें जुलाई, 2017 में सीडीसी की जिम्‍मेदारी सौंपी थी. लोगों ने उन्‍हें मर्स (MERS) वायरस के फैलने के दौरान पहचानना शुरू कर दिया था. वह उस समय प्रेस ब्रीफिंग के लिए मीडिया के सामने आती रहती थीं. इससे पहले वह सेंटर फॉर डिजीज प्रिवेंशन और डिपार्टमेंट ऑफ क्रॉनिक डिजीज कंट्रोल रिसर्च की डायरेक्‍टर भी रह चुकी थीं.

दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस से डेथ रेट 0.97 फीसदी

दक्षिण कोरिया में कोई लॉकडाउन नहीं किया गया. सभी ऑफिस खुले रहे. अब बताया जा रहा है कि अप्रैल की शुरुआत में स्कूल भी खुल जाएंगे. हालात को पूरी तरह से काबू में करने के लिए सीडीसी ज्यादा से ज्यादा लोगों की टेस्टिंग पर ध्यान दे रहा है. वर्ल्थ हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) के अनुसार अब तक 188 देश कोरोना वायरस (coronavirus) की चपेट में आ चुके हैं. इनमें दक्षिण कोरिया इस वायरस से मुकाबले में दो कदम आगे नजर आ रहा है. हफ्तेभर पहले ही संक्रमण के मामले में चीन और इटली के बाद खड़े इस देश में हालात लगातार सुधर रहे हैं. इस हफ्ते दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस से डेथ रेट 0.97 फीसदी रहा, जबकि इटली में मरने वालों की संख्‍या 7.94 फीसदी और चीन व हांगकांग में 3.98 प्रतिशत रही है.

दिनरात बनाईं टेस्‍ट किट, हर दिन 20 हजार लोगों की जांच

इंटरनेशनल वैक्‍सीन इंस्‍टीट्यूट (IVI) के डायरेक्टर जनरल जेरॉम किम के मुताबिक, दक्षिण कोरिया की बायोटेक इंडस्ट्रूी शानदार काम कर रही है. जब चीन के वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस का जीन सिक्वेंस जारी किया, तभी से दुनियाभर के वैज्ञानिक खोज में जुट गए. दक्षिण कोरिया भी इनमें से एक था. हालांकि दक्षिण कोरिया ने दवा या वैक्‍सीन तैयार करने में वक्‍त जाया करने के बजाय मेडिकल टेस्‍ट करने और संक्रमितों के संपर्क में आए लागों की पहचान कर उन्‍हें अलग-थलग करने में पूरी ताकत झोंक दी. इस रणनीति को सफल बनाने के लिए देश की बायोटेक कंपनियों ने भी काम करना शुरू कर दिया. कंपनियों ने दिनरात काम कर टेस्‍ट किट बनाना शुरू कर दिया. इसका फायदा ये हुआ कि देश में हर दिन 20 हजार लोगों का कोरोना टेस्ट कराया जा सका.

छोटे-छोटे टेस्टिंग सेंटर्स पर मुफ्त की जा रही है जांच

डॉ. जेऑन्‍ग की रणनीति के तहत दक्षिण कोरिया में जगह-जगह खोले गए छोटे-छोटे सेंटर्स पर पहुंचकर कोई भी अपना मुफ्त टेस्‍ट करा सकता है. इस जांच में कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर मरीज को तुरंत आइसोलेट कर इलाज शुरू कर दिया जाता है. फरवरी में सरकार ने संक्रमित सभी लोगों की आईडी, क्रेडिट-डेबिट कार्ड की रसीद और दूसरे प्राइवेट डाटा निकाल लिए. इसके बाद उनके संपर्क में आए सभी लोगों की पहचान की गई. नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ सिंगापुर में इमर्जिंग इन्फेक्शियस डिजीज के प्रोफेसर ओई इंग इयॉन्ग कहते हैं कि उन्होंने कमाल के इंतजाम किए और जनता के जमकर कोरोना टेस्ट कराए. साल 2015 में मिडिल ईस्ट रेस्पिरेटरी सिंड्रॉम फैला तो दक्षिण कोरिया में 35 लोगों की मौत हुई थी. तभी से यहां संक्रामक बीमारियों के टेस्ट की मंज़ूरी के लिए विशेष सिस्टम है.

टेस्‍ट, आइसोलेशन और सोशल डिस्‍टेंसिंग ही कारगर

डब्‍ल्‍यूएचओ में रिसर्च पॉलिसी के पूर्व निदेशक तिक्की पंगेस्तू कहते हैं कि अमरीका और ब्रिटेन ने एक मौका खो दिया है. उनके पास चीन के बाद दो महीने थे, लेकिन उन्हें लगा कि उन्हें कुछ नहीं होगा. अमेरिका ने टेस्टिंग में देरी की. वहीं, वायरस को लेकर ज्यादा जानकारी नहीं होने के बाद भी सिंगापुर, ताइवान और हांगकांग ने बहुत जल्‍दी अपनी सीमाओं पर स्क्रीनिंग शुरू कर दी थी. ताइवान ने तो वुहान से आने वाले विमानों के यात्रियों को नीचे उतारने से पहले ही उनकी जांच की. हाल में पता चला है कि जिन संक्रमित लोगों में लक्षण नहीं पाए गए हैं, वे भी दूसरों में संक्रमण फैला रहे थे. ऐसे में सीधे कोरोना टेस्‍ट बहुत अहम है. दुनिया भर के स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए बड़े पैमाने पर कोरोना टेस्ट, संक्रमितों को अलग करना और सोशल डिस्‍टेंसिंग ही कारगर उपाय है.

संक्रमण फैलाने के आरोपियों पर की सख्‍त कार्रवाई

दक्षिण कोरिया ने संक्रमण फैलाने वालों पर सख्‍त कार्रवाई भी की. कोरोना वायरस की वजह से हुई कुछ मौतों के लिए एक धार्मिक नेता के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के आदेश दे दिए गए. राजधानी सोल के प्रशासन ने शिन्चेऑन्जी चर्च के संस्थापक ली-मन-ही और 11 अन्य के खिलाफ मामला चलाने का आदेश दे दिया. सभी आरोपियों पर कोरोना पीड़ित कुछ लोगों के नाम अधिकारियों से छुपाने का आरोप है. ये अधिकारी शहर में वायरस फैलने से पहले प्रभावित लोगों को ट्रैक करने की कोशिश कर रहे थे. दक्षिण कोरिया में संक्रमण से मरने वालों में आधे एक ईसाई समूह की ओर से चलाए जा रहे चर्च के सदस्य हैं. प्रशासन का कहना है कि दक्षिणी शहर डाएगू में शिन्चेऑन्जी चर्च के सदस्यों में एकदूसरे के जरिये कोरोना वायरस फैलता गया. फिर धीरे-धीरे देश के दूसरे हिस्सों में भी इसका असर होने लगा. आरोपियों पर हत्या, नुकसान पहुंचाने और संक्रामक रोग व नियंत्रण अधिनियम का उल्लंघन करने के आरोप लगे हैं.

सभी चर्च हुए बंद, बौद्ध कार्यक्रम और प्रदर्शन किए रद्द

दक्षिण कोरिया सरकार ने संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए तुरंत सभी चर्च बंद करा दिए. इसके अलावा देश में होने वाले सभी विरोध-प्रदर्शन और बौद्ध कार्यक्रम रद्द कर दिए गए. दक्षिण कोरिया ने मास्क निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया. देश ने अपने चार स्तरीय वायरस अलर्ट को उच्चतम स्तर ‘लाल’ तक बढ़ा दिया. देश में 3 लाख लोगों में 2.50 लाख से ज्‍यादा की कोरोना टेस्‍ट रिपोर्ट निगेटिव आई. दक्षिण कोरिया में अधिकारी लॉकडाउन का सहारा लिए बिना कोरोना वायरस से लड़ रहे हैं. सरकार लाखों लोगों का सड़क पर ही उनकी कारों में टेस्ट कर रही है. इसके लिए मोबाइल फोन और सेटेलाइट टेक्‍नोलॉजी का इस्तेमाल किया जा रहा है. दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन ने इन कोशिशों को इस वायरस के खतरे के खिलाफ एक जंग की शुरुआत करार दिया था.

Advertisement
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

देश-दुनिया

लॉकडाउन के बीच सुनील ग्रोवर घर से बाहर निकले , पुलिस ने बरसाए डंडे!

Published

on

कोरोना वायरस के संक्रमण को सीमित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश भर में लॉकडाउन घोषित किया गया है. इस लॉकडाउन के दौरान सभी अपने घरों में रहने को मजबूर हैं. पीएम मोदी ने साफ कहा, “इसे एक तरह से कर्फ्यू ही समझिए.” पुलिस बहुत सख्त है और बाहर निकलने पर लोगों की जमकर पिटाई हो रही है. लोग घरों में रहकर अलग-अलग तरह से अपना वक्त काटने के लिए मजबूर हैं. इस दौरान सोशल मीडिया पर लॉकडाउन से जुड़े मीम्स भी खूब वायरल हो रहे हैं.

इस बीच स्टार कॉमेडियन सुनील ग्रोवर का भी एक मीम खूब वायरल हो रहा है. ये मीम सुनील ग्रोवर ने खुद अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर किया है. मीम को शेयर करते हुए सुनील ग्रोवर ने लिखा- हाहाहा.. भगवान के लिए अपने घरों में रहो. मीम में सुनील ग्रोवर ने दिखाने की कोशिस की है कि कैसे घर से निकलने पर पुलिस पकड़ ले रही है और पिटाई कर रही है. सुनील ने अपनी फिल्म के दो सीन्स को मिलाकर ये मीम बनाया है.

इस मीम को डेढ़ लाख से ज्यादा लोगों ने लाइक और शेयर किया है. मालूम हो कि इस लॉकडाउन के दौरान तकरीबन सभी स्टार्स ने अपने फैन्स से घरों में बने रहने की और बहुत जरूरी नहीं होने पर बाहर नहीं आने की अपील की है. भारत में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. देश में लगातार कदम उठाने के बावजूद संक्रमितों की संख्या 600 के पार पहुंच चुकी है. इसके अलावा महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा मरीज सामने आए हैं.

Continue Reading

देश-दुनिया

अगले 20 घंटे भारत के लिए बहुत ही भारी होंगे, जानिए सच

Published

on

भारत में कोराना वायरस के लगातार बढ़ रहे खतरे को देखते हुए के उपाय सुझाए जा रहे हैं वहीं दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर अफवाहों का बाजार भी तेजी से गर्म हो रहा है. ऐसी ही एक अफवाह व्हाट्सएप ग्रुप में बहुत तेजी से फैल गया है. व्हाट्सएप ग्रुप में भेजे जा रहे इस मैसेज में कहा गया है कि भारत के लिए अगले 20 घंटे बहुत ही भारी होंगे. खास बात तो यह है कि ऐसा कहने के लिए वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन यानी डब्ल्यूएचओ और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च यानी आईसीएमआर का हवाला दिया गया है.

डब्ल्यूएचओ और आईसीएमआर के हवाले से जारी इस संदेश के जरिए कहा गया है कि शनिवार की रात तक का समय भारत वासियों के लिए बहुत भारी होने वाला है. यदि भारतीय अपनी आदत में बदलाव नहीं लाते और घरों से बाहर निकलना यूं ही जारी रखते हैं तो भारत में कोरोना का संक्रमण थर्ड स्टेज में पहुंच जाएगा. थर्ड स्टेज यानी कम्युनिटी ट्रांसमिशन और इसे रोक पाना भारत के लिए बहुत ही खतरनाक होगा.

यह मैसेज व्हाट्सअप ग्रुपों में कुछ इस प्रकार से प्रसारित किया जा रहा है.

व्हाट्सअप के जरिये भेजा जाने वाला फर्जी मैसेज

अगले 20 घ॔टे भारत के लिए भारी
WHO ICMR की भारत को चेतावनी
WHO ICMR ने कहा है कि यदि 20 घ॔टे में भारतीय नहीं सुधरे तो भारत कल रात 11 बजे के बात ‘THIRD STEP” यानी ” कम्युनिटी ट्रांसमिशन” में प्रवेश कर जायेगा और अगर भारत कल रात तक थर्ड स्टेज यानी कम्यूनिटी ट्रांशमिशन में जाता है तो भारत मे 15 APRIL तक लगभग 50000(पचास हजार) तक मौतें हो सकती हैं, क्योकि अन्य देशों की अपेक्षा भारत का जनसंख्या घनत्व बहुत अधिक है परन्तु भारतीय अभी तक इसकी गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं.

ईश्वर से दुआ करो

सभी नागरिकों से निवेदन प्लीज मस्ती मजाक सलाह कोरेना से सम्बंधित खबर छोड़ आज रात तक जितना हो ये फैलाओ की कुछ भी हो जाये 72 से 108 घण्टा बिल्कुल भी न निकले क्योकि कल भारत 3 स्टेज में शायद जा सकता है. प्लीज सभी को अंदर रहने के लिये प्रेरीत करो…

माइक्रोबायोलॉजिस्ट ने बताया फर्जी

इस मैसेज की सत्यता जांच ने के लिए ने आईसीएमआर और डब्ल्यूएचओ की वेबसाइट पर जा कर यह देखने की कोशिश की कि क्या इस तरीके का कोई अलर्ट इन दोनों ही एजेंसियों के द्वारा जारी किया गया है या नहीं. लेकिन इस तरीके का कोई भी अलर्ट इन दोनों ही एजेंसियों के द्वारा जारी नहीं किया गया है. माइक्रोबायोलॉजिस्ट डॉ अंकुर ने बताया कि इस तरीके का कोई भी प्रेडिक्शन कोरोनावायरस के संबंध में जारी नहीं किया जा सकता. यह तथ्यात्मक तौर पर गलत है. साथ ही मैसेज की जो भाषा है उसी से पता चल जाता है कि मैसेज फर्जी है.

उन्होंने यह भी जोड़ा कि इससे डरने की जरूरत नहीं है लेकिन यह जरूर है कि लॉकडाउन का पूरी तरीके से पालन किया जाए. किसी को भी सिर्फ शनिवार की रात ही नहीं बल्कि जब तक लॉकडाउन का समय है तब तक घरों से नहीं निकलना चाहिए. बता दें कि भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या हर रोज बढ़ रही है. यह एक सच्चाई है और इसी को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा की थी जो 14 अप्रैल को पूरा हो रहा है.

पूरे भारत में कोरोना से 19 लोगों की मौत

दुनिया में इस बीमारी से प्रभावित देशों में मरीजों की संख्या दिनोंदिन बढ़ रही है. ऐसे में भारत सरकार और स्वास्थ्य विभाग द्वारा बार-बार यह हिदायत दी जा रही है कि सोशल डिस्पेंसिंग के जरिए ही इस वायरस के संक्रमण को रोका जा सकता है. Covid19india.org वेबसाइट के ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश मे अभी तक कुल 892 कोरोना के पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं. इनमें से 76 लोग इस बीमारी से ठीक हो चुके है जबकि 19 लोगों की मौत हो चुकी है.

Continue Reading

देश-दुनिया

पूर्व सीएम कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल पत्रकार के खिलाफ FIR

Published

on

मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच उस पत्रकार के खिलाफ FIR दर्ज की गई है, जिन्होंने पूर्व सीएम कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में शिरकत की थी. पत्रकार की बेटी के लंदन से लौटने के बाद उनमें कोरोना पॉजिटिव होने के लक्षण पाए गए थे. इधर, प्रदेश के पूर्व मंत्री सचिन यादव ने इसके मद्देनजर खुद को आइसोलेशन में रख लिया है. सचिन यादव ने आज ट्वीट करते हुए कहा है कि 20 मार्च को प्रेसवार्ता में मौजूद पत्रकार कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं. इसलिए सावधानी के तौर पर सेल्फ आइसोलेशन में हूं.

25 मार्च को हुई थी जानकारी

गौरतलब है कि भोपाल में बीते 25 मार्च को कोरोना वायरस से संक्रमित पहले मरीज के बारे में पता चला था. यह मरीज राजधानी के वरिष्ठ पत्रकार की बेटी थी, जो हाल ही में लंदन से लौटकर आई हैं. इसके दूसरे ही दिन पिता में भी कोरोना वायरस के संक्रमण का पता चला था. इसके बाद प्रशासन ने तत्काल पत्रकार और उनके परिवार समेत इनके संपर्क में आए लोगों से होम क्वारेंटाइन की अपील की थी. सभी की जांच भी कराई गई थी.

सचिन यादव ने कहा- मीडिया वाले बरतें सावधानी

इस बीच शनिवार को प्रदेश के पूर्व मंत्री सचिन यादव ने भोपाल के पत्रकार के कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद खुद को आइसोलेशन में रखा है. यादव ने ट्वीट में कहा है, ’20 मार्च को कमलनाथ जी की आयोजित प्रेसवार्ता में मौजूद एक पत्रकार साथी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं,

इसीलिए सावधानी के तौर पर मैं सेल्फ़-आइसोलेशन में हूं.’ पूर्व मंत्री ने कोरोना वायरस को लेकर जारी निर्देशों के पालन की भी अपील की है. उन्होंने कहा है, ‘पत्रकार साथियों से भी अनुरोध है अपना ख्याल रखें. मैं सरकार के सभी आवश्यक निर्देशों का पालन कर रहा हूं और आप भी करें.’

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

देश-दुनिया7 hours ago

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने, पीएम को पत्र लिखकर मजदूरों के लिए मांगी मदद

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया कि देश में लॉकडाउन के...

Etoi Exclusive17 hours ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 28/03/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Etoi Exclusive2 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 27/03/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

क्राइम2 days ago

विदेश से लौटे 17 लोगों की पुलिस ने जारी की सूची

विदेश प्रवास से लौटे 17 लोगों ने जानकारी छुपाने के कारण तीन धाराओं में अपराध पंजीबद्ध किया गया है। विदेश...

देश-दुनिया2 days ago

केंद्र सरकार ने 1 लाख 70 हजार करोड़ रुपए के आर्थिक सहायता देने की घोषणा की

कोरोना वायरस से बिगड़े हालातों से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने 1 लाख 70 हजार करोड़ रुपए के आर्थिक...

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive3 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 26/03/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Etoi Exclusive4 days ago

चीन पर एक वायरस का हमला ,हंता वायरस या कोरोना कौन ज्यादा घातक ?

हंता वायरस या कोरोना, जानें दोनों में से कौन सा है ज्यादा जानलेवा कोरोना वायरस की त्रासदी के बीच हंतावायरस...

Etoi Exclusive4 days ago

कोरोना के खौफ का शिकार हुआ टोक्यो ओलम्पिक,हुआ स्थगित

तोक्यो ओलिंपिक अगले साल तक होंगे स्थगित, जापान के पीएम शिंजो आबे के प्रस्ताव पर आईओसी चीफ भी राजी  ...

Etoi Exclusive4 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 25/03/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Etoi Exclusive5 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 24/03/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Calendar

March 2020
M T W T F S S
« Feb    
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  

निधन !!!

Advertisement

Trending