Connect with us

ज्योतिष - वास्तु

जन्माष्टमी व्रत सही तिथि और मुहूर्त

Published

on

जन्माष्टमी का व्रत किस दिन करना शास्त्रों के अनुकूल होगा। जानिए जन्माष्टमी व्रत की सही तिथि और मुहूर्त

श्रीमद्भागवत् पुराण, श्रीभविष्य पुराण, अग्नि, विष्णु सहित सहित सभी धर्मग्रंथों में भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद कृष्ण अष्टमी तिथि, बुधवार, रोहिणी, नक्षत्र एवं वृष राशिस्थ चन्द्रमाकालीन अर्धरात्रि के समय हुआ था। भविष्यपुराण में लिखा है- ‘सिंहराशिगते सूर्ये गगने जलदाकुले। मासि भाद्रपदे अष्टम्यां कृष्णपक्षेअर्धरात्रिके। वृषराशि स्थिते चन्द्रे, नक्षत्रे रोहिणी युते।।’

कृष्ण जन्माष्टमी दो अलग-अलग दिनों पर हो जाती है। जब-जब ऐसा होता है, तब पहले दिन वाली जन्माष्टमी स्मार्त सम्प्रदाय के लोगो के लिये और दूसरे दिन वाली जन्माष्टमी वैष्णव सम्प्रदाय के लोगो के लिये होती है।वैष्णव परम्पराओं और सिद्धान्तों के आधार पर निर्माणित की गयी है। स्मार्त अनुयायियों के लिये, हिन्दु ग्रन्थ धर्मसिन्धु और निर्णयसिन्धु में, जन्माष्टमी के दिन को निर्धारित करने के लिये स्पष्ट नियम हैं। श्रद्धालु जो वैष्णव सम्प्रदाय के अनुयायी नहीं हैं, उनको जन्माष्टमी के दिन का निर्णय हिन्दु ग्रन्थ में बताये गये नियमों के आधार पर करना चाहिये। वैष्णव धर्म को मानने वाले लोग अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र को प्राथमिकता देते हैं और वे कभी सप्तमी तिथि के दिन जन्माष्टमी नहीं मनाते हैं। वैष्णव नियमों के अनुसार हिन्दु कैलेण्डर में जन्माष्टमी का दिन अष्टमी अथवा नवमी तिथि पर ही पड़ता है। इन नियमों में निशिता काल को, जो कि हिन्दु अर्धरात्रि का समय है, को प्राथमिकता दी जाती है। जिस दिन अष्टमी तिथि निशिता काल के समय व्याप्त होती है, उस दिन को प्राथमिकता दी जाती है। इन नियमों में रोहिणी नक्षत्र को सम्मिलित करने के लिये कुछ और नियम जोड़े जाते हैं। जन्माष्टमी के दिन का अन्तिम निर्धारण निशिता काल के समय, अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र के शुभ संयोजन, के आधार पर किया जाता है। जन्माष्टमी का मुहूर्त मुख्य रूप से अष्टमी देखा जाता है उसके उपरांत रोहिणी नक्षत्र का पालन किया जाता है. जन्माष्टमी का पारण सूर्योदय के पश्चात अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र के समाप्त होने के बाद किया जाना चाहिये। यदि अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र सूर्यास्त तक समाप्त नहीं होते तो पारण किसी एक के समाप्त होने के पश्चात किया जा सकता है। यदि अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र में से कोई भी सूर्यास्त तक समाप्त नहीं होता तब जन्माष्टमी का व्रत दिन के समय नहीं तोड़ा जा सकता। ऐसी स्थिति में व्रती को किसी एक के समाप्त होने के बाद ही व्रत तोड़ना चाहिये।

कृष्ण जन्माष्टमी 23 अगस्त, 2019 को

निशिता पूजा का समय = 24:39 से 26:56

अष्टमी तिथि की समाप्ति समय = 15:18 (23.08.2019)

पारण के दिन रोहिणी नक्षत्र का समाप्ति समय = 24:28 (24.08.2019)

“कृष्ण” मूलतः एक संस्कृत शब्द है, जो काला, अँधेरा या गहरा नीला का समानार्थी है। इसका सम्बन्ध ढलते चंद्रमा के समय को कृष्ण पक्ष कहे जाने में भी स्पष्ट झलकता है। श्रीमद भागवत पुराण के वर्णन अनुसार कृष्ण जब बाल्यावस्था में थे तब नन्दबाबा के घर आचार्य गर्गाचार्य द्वारा उनका नामकरण संस्कार हुआ था। नाम रखते समय गर्गाचार्य ने बताया कि, इसने प्रत्येक युग में अवतार धारण किया है। कभी इसका वर्ण श्वेत, कभी लाल, कभी पीला होता है। पूर्व के प्रत्येक युगों में शरीर धारण करते हुए इसके तीन वर्ण हो चुके हैं। इस बार कृष्णवर्ण का हुआ है, अतः इसका नाम कृष्ण होगा। वासुदेव का पुत्र होने के कारण उसका अतिरतिक्त नाम वासुदेव भी कहा गया। “कृष्ण” नाम के अतिरिक्त भी कृष्ण भगवान को कई अन्य नामों से जाना जाता रहा है, जो उनकी कई विशेषताओं को दर्शाते हैं.

भाद्रपद कृष्णपक्ष की अष्टमी को मध्यरात्रि में भगवान विष्णु के आठवें अवतार के रूप में श्री विष्णु की सोलह कलाओं से पूर्ण होकर भगवान श्री कृष्ण अवतरित हुए थे। श्री कृष्ण का प्राकट्य आततायी कंस एवं संसार से अधर्म का नाश करने हेतु हुआ था। भविष्योत्तर पुराण में कृष्ण ने स्वयं युधिष्ठिर से कहा कि मैं वासुदेव एवं देवकी से भाद्रपक्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी को उत्पन्न हुआ जबकि सूर्य सिंह राशि में एवं चंद्रमा वृषभ राशि में था और नक्षत्र रोहिणी था।

कृष्ण भगवान का जन्म समय रात्रि का माना जाता है अतः इस व्रत में जन्मोत्सव रात्रि का मनायी जाती है। इस व्रत में प्रमुख कृत्य हैं उपवास, कृष्ण पूजा, जागरण एवं पारण। व्रत के दिन प्रातः व्रती को सूर्य, चंद्र, यम, काल, दो संध्याओं, पंच भूतों, पांच दिशाओ के देवों का आहवान करना चाहिए, जिससे वे उपस्थित हों। अपने हाथ में जलपूर्ण ताम्रपात्र रखकर उसमें कुछ फल, पुष्प, अक्षत लेकर संकल्प करना चाहिए कि मैं अपने पापों से निवृत्ति एवं जीवन में सुख प्राप्ति हेतु इस व्रत को करू। व्रत करते हुए रात्रि को कृष्ण जन्म उत्सव मनाते हुए भजन एवं कीर्तन करना चाहिए। जन्माष्टमी का व्रत करने से जीवन से सभी प्रकार से शाप एवं पाप की निवृत्ति होती है तथा सुख तथा समृद्धि की प्राप्ति होती है।

चूंकि भगवान स्वयं इस दिन पृथ्वी पर अवतरित हुए थे अत: इस दिन को कृष्ण जन्माष्टमी के रूप में मनाते हैं।

जन्माष्टमी व्रत

इस दिन व्रत करने वाले को चाहिए कि उपवास के पहले दिन कम भोजन करें। रात्रि में ब्रह्मचर्य का पालन करें। व्रत के दिन स्नानादि नित्यकर्म करके सूर्यादि सभी देव दिशाओं को नमस्कार करके पूर्व या उत्तर मुख बैठें। भगवान श्रीकृष्ण् को वैजयंती के पुष्प अधिक प्रिय है अतः जहां तक बन पडे़ वैजयंती के पुष्प अर्पित करें और पंचगंध लेकर व्रत का संकल्प करें।

कृष्णजी की मूर्ति को गंगा जल से स्नान कराएं। फिर दूध, दही, घी, शक्कर, शहद, केसर के घोल से स्नान कराकर फिर शुद्ध जल से स्नान कराएं। फिर सुन्दर वस्त्र पहनाएं। रात्रि बारह बजे भोग लगाकर पूजन करें व फिर श्रीकृष्णजी की आरती उतारें।

उसके बाद भक्तजन प्रसाद ग्रहण करें। व्रती दूसरे दिन नवमी में व्रत का पारणा करें।

 

मान्यता है कि भगवान कृष्ण मानव जीवन के सभी चक्रों; यानि जन्म, मृत्यु, शोक, खुशी आदि से गुजरे हैं इसीलिए उन्हें पूर्णावतार कहा जाता है।

मोहरात्रि- श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की रात्रि को मोहरात्रि कहा गया है। इस रात में योगेश्वर श्रीकृष्ण का ध्यान, नाम अथवा मंत्र जपते हुए जगने से संसार की मोह-माया से आसक्ति हटती है। जन्माष्टमी का व्रत व्रतराज है। इसके विधिपूर्वक पालन से अनेक व्रतों से प्राप्त होने वाले पुण्य प्राप्त होते हैं। जगद्गुरु श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव निरूसंदेह सम्पूर्ण विश्व के लिए आनंद-मंगल का संदेश देता है।

व्रत- भक्त जो जन्माष्टमी का व्रत करते हैं जन्माष्टमी के एक दिन पूर्व केवल एक ही समय भोजन करते हैं। व्रत वाले दिन, स्नान आदि से निवृत्त होने के पश्चात, भक्त लोग पूरे दिन उपवास रखकर, अगले दिन रोहिणी नक्षत्र और अष्टमी तिथि के समाप्त होने के पश्चात व्रत कर पारण का संकल्प लेते हैं। कुछ कृष्णभक्त मात्र रोहिणी नक्षत्र अथवा मात्र अष्टमी तिथि के पश्चात व्रत का पारण कर लेते हैं। संकल्प प्रातःकाल के समय लिया जाता है और संकल्प के साथ ही अहोरात्र का व्रत प्रारम्भ हो जाता है। जन्माष्टमी के दिन श्री कृष्ण पूजा निशीथ समय पर की जाती है। वैदिक समय गणना के अनुसार निशीथ मध्यरात्रि का समय होता है। निशीथ समय पर भक्त लोग श्री बालकृष्ण की पूरे विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते हैं। विस्तृत विधि-विधान पूजा में षोडशोपचार पूजा के सभी सोलह चरण सम्मिलित होते हैं।

जन्माष्टमी का पारण सूर्योदय के पश्चात अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र के समाप्त होने के बाद किया जाना चाहिये। यदि अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र सूर्यास्त तक समाप्त नहीं होते तो पारण किसी एक के समाप्त होने के पश्चात किया जा सकता है। यदि अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र में से कोई भी सूर्यास्त तक समाप्त नहीं होता तब जन्माष्टमी का व्रत दिन के समय नहीं तोड़ा जा सकता। ऐसी स्थिति में व्रती को किसी एक के समाप्त होने के बाद ही व्रत तोड़ना चाहिये।

अतः अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र के अन्त समय के आधार पर कृष्ण जन्माष्टमी का व्रत दो सम्पूर्ण दिनों तक प्रचलित हो सकता है। हिन्दु ग्रन्थ धर्मसिन्धु के अनुसार जो श्रद्धालुजन लगातार दो दिनों तक व्रत करने में समर्थ नहीं है वो जन्माष्टमी के अगले दिन ही सूर्योदय के पश्चात व्रत को तोड़ सकते हैं।

जन्माष्टमी पूजन विधि –

. प्रात:काल करें स्नान

. भगवान श्रीकृष्ण का स्मरण करें

. हाथ में पीले चावल लेकर करें पूजन

. घर में स्थापित कर सकते हैं झूला

. मां देवकी का स्मरण कर स्थापित करें झूला

. रात्रि 12 बजे बाल कृष्ण की पूजा करें

. जल, दूध, चंदन युक्त जल से कराएं स्नान

. भगवान को वस्त्र और श्रृंगार अर्पित करें

. बाल गोपाल को लगाएं माखन मिश्री का भोग

. सुगंधित पदार्थों से युक्त करें आरती

. ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करें

. महाफलदायी होता है जन्माष्टमी व्रत

. सभी मनोकामनाएं होती हैं पूर्ण

मेष राशि –

– रसगुल्ले का भोग लगाएँ हर मनोकामना पूर्ण होगी.

वृषभ राशि

– लड्डू और अनार का भोग लगाएं रुके हुए कार्य पूर्ण होंगे.

मिथुन राशि

– काजू की मिठाई अर्पित करें इससे धन लाभ होगा

कर्क राशि

– नारियल की बर्फी और नारियल का भोग लगाएं पारिवारिक सुख बढ़ेगा

सिंह राशि

– गुड़ और बेल का फल का भोग में चढ़ाएं व्यवसाय में लाभ होगा

कन्या राशि

– तुलसी के पत्ते और हरे फल का भोग लगाएं आवास की समस्या हल होगी

तुला राशि

– कलाकंद और सेब का भोग लगाएं सभी समस्याओँ का समाधान होगा

वृश्चिक राशि

– गुड़ की मिठाई का भोग लगाएं लोकप्रियता बढ़ेगी

धनु राशि

– बेसन की मिठाई का भोग लगाएं सौभाग्य में वृद्धि होगी

मकर राशि

– गुलाब जामुन और काले अंगूर का भोग लगाएं न्याय मिलेगा

कुंभ राशि

– पिसा धनिया और शक्कर तथा मीठे फल चढ़ाएं स्थिरता आएगी

मीन राशि

– जलेबी और केले का भोग लगाएं रुके हुए काम शीघ्र पूर्ण होंगे

शीघ्र होगा विवाह

 

-हरे वस्त्र पहने राधा-कृष्ण की तस्वीर पूजा स्थान पर लगाएं

– जन्माष्टमी की रात्रि से प्रतिदिन इस मंत्र को जपें

कृष्णाय वासुदेवाय हरये परमात्मनेप्

प्रणत क्लेश नाशाय गोविंदाय नमो नम:

 

संतान प्राप्ति होगी

 

– जन्माष्टमी की रात्रि निराहार रहकर केसर और कस्तुरी युक्त गाय के दूध से बाल गोपल की प्रतिमा का अभिषेक करें

– संतान गोपाल मंत्र का जाप करें

कात्यायनी महामाये महायोगिन्यधीश्वरीप्

नन्दगोप सुतं देहि पतिं में कुरुते नम:

 

कर्ज से मिलेगी मुक्ति

 

– जन्माष्टमी की रात्रि श्रीकृष्ण का पूजन और श्रृंगार करें

– 1 तेल का दीपक पीपल के पेड़ के नीचे रखें

– वापस घर आकर 8 कौड़ियों को पीले वस्त्र में बांध दें और प्रतिदिन उसे सीधे हाथ में रखकर मंत्र ह्रीं श्रीं श्रीयै नम: का जाप करें

– गुरुवार को भगवान श्रीकृष्ण के दर्शन करें

 

शीघ्र मिलेगी नौकरी

 

– जन्माष्टमी की रात गोपाल सहस्रनाम का पाठ करते, हुए भगवान को पीले पुष्प अर्पित करें

– हर गुरुवार भगवान श्रीकृष्ण के दर्शन कर पीले पुष्प अर्पित करें

……………………………………………………………

जीवन में न्याय होगा –

 

– किसी अष्टमी को श्रीकृष्ण को काली तिल और तेल अर्पित करें

– प्रतिदिन इस मंत्र को 6 मिनट के लिए जपें

वासुदेव सुतम देवम कंस चाणूर मर्दनम

देवकी परमानन्दम कृष्णम वंदे जगत गुरुम

 

जन्माष्टमी के व्रत से पहले रात को हल्का भोजन करें.

किसी के बारे में बुरा ना बोले.

अहित करने से बचें.

……………………………………………………………

SHARE THIS

ज्योतिष - वास्तु

21/09/2019 का पंचांग एवं राशिफल(सप्तमी का श्राद्ध)

Published

on

  • रायपुर (etoi news) 20.09.2019
  • दिनांक 21.09.2019 का पंचाग
  • शुभ संवत 2076 शक 1941 …
  • सूर्य दक्षिणायन का …आश्विन मास कृष्ण पक्ष…. सप्तमी … रात्रि को 08 बजकर 21 मिनट तक… शनिवार… रोहिणी नक्षत्र.. प्रातः को 11 बजकर 22 मिनट तक … आज चन्द्रमा …वृषभ राशि में… आज का राहुकाल दिन को 08 बजकर 55 मिनट से 10 बजकर 26 मिनट तक होगा …

सप्तमी का श्राद्ध –

     पुराण में है कि इस संसार में आकर जो सद्गृहस्थ पितृपक्ष के दौरान अपने पितरों को श्रद्धापूर्वक उनकी दिवंगत तिथि के दिन तर्पण, पिंडदान, तिलांजलि और ब्राह्मणों को भोजन कराते हैं, उनको इस जीवन में सभी सांसारिक सुख और भोग प्राप्त होते हैं और श्राद्ध करने वाले सदगृहस्थ को स्वर्गलोक की प्राप्ति होती है।

     पितृपक्ष में मरण तिथि को श्राद्ध किया जाता है। सप्तमी का श्राद्ध भानुसप्तमी के नाम से किया जाता है। जिसमें श्राद्धकर्म करने से सूर्यग्रहण में किए गए पुण्य के बराबर फल मिलता है और आने वाले वंश को शारीरिक कष्टो से छुटकारा मिलकर स्वास्थ्य एवं समृद्धि की प्राप्ति का योग बनता है। किसी भी प्रकार से शारीरिक या किसी बीमारी से मृत्यु को प्राप्त पितरों के शारीरिक कष्टो की निवृत्ति और उस प्रकार के शारीरिक कष्ट से आने वाले वंश की रक्षा हेतु भानुसप्तमी का श्राद्ध करने का विधान वेदों में है।     

     सप्तमी श्राद्ध में सात ब्राह्मणों को भोजन कराने का विधान है। सर्वप्रथम नित्यकर्म से निवृत होकर घर की दक्षिण दिशा में सफेद वस्त्र बिछाएं। पितृगण के निमित, तिल के तेल का दीपक जलाएं, चंदन की अगरबत्ती से धूप करें, जल में सफेद तिल मिलाकर तर्पण करें। सफेद फूल चंदन समर्पित करें। इसके उपरांत ब्राहमणों को खीर, पूड़ी, कद्दू की सब्जी,  मिष्ठान, फल, लौंग-ईलायची तथा मिश्री अर्पित करें। भोजन के बाद सभी को यथाशक्ति वस्त्र, धनदक्षिणा देकर उनको विदा करने से पूर्व आशीर्वाद लें।

आज के राशियों का हाल तथा ग्रहों की चाल-

मेष –

     सुबह से ही मन खराब हो सकता है…   

     दिनभर कार्य का बोझ तनाव देगा…

     तनाव से बचने हेतु…

     शांति हेतु मंत्रजाप….

     दान तथा व्रत करें….

वृषभ –

     आज आप कार्य में व्यस्त रहेंगे …

     व्यवसाय के क्षेत्र में सुरक्षा का ध्यान रखें…

     चंद्रमा के मंत्रों का जाप…

     सफेद चीजों का दान…

     ध्यान आदि लगायें…

मिथुन –

     आज स्वास्थ्य के नजरीये से दिन ठीक नहीं बितेगा…

     ब्लडप्रेशर के कारण कार्य समय पर नहीं होगा….

     उपाय –

     राहु के मंत्रों का जाप कर दिन की शुरूआत करें…

     सूक्ष्म जीवों की सेवा करें…

कर्क –

     ऋण मुक्ति के प्रयासों में सफलता…

     प्रतियोगिता परीक्षा या साक्षात्कार में मनचाही सफलता…

     बौद्धिक कुषलता से सम्मान की प्राप्ति…

     विवाद से धन हानि….

शनि के उपाय –

  1. ‘‘ऊॅ शं शनैश्चराय नमः’’ की एक माला जाप कर दिन की शुरूआत करें..
  2. भगवान आशुतोष का रूद्धाभिषेक करें,
  3. उड़द या तिल दान करें..

सिंह –

     आज रिश्ता तय होने जैसे कोई शुभ समाचार प्राप्त होंगे…

     परिवार में प्रसन्नता का माहौल…

     इन्फेक्सन के कारण कष्ट …

मंगल के दोषों की निवृत्ति के लिए –

  1. ऊॅ अं अंगारकाय नमः का एक माला जाप करें..
  2. हनुमानजी की उपासना करें..
  3. मसूर की दाल, गुड दान करें…

कन्या – 

     नये प्रोजेक्ट में लीडरषीप की प्राप्ति….

     कार्य व्यवस्थित तौर पर पूरा होगा…

     संतान के अध्ययन की चिंता…

गुरू के उपाय-

  1. ऊॅ गुं गुरूवे नमः का जाप करें…
  2. मीठे पीले खाद्य पदार्थ का सेवन करें तथा दान करें…
  3. साईजी के दर्षन करें…

तुला –

     स्थान परिवर्तन के योग…

     नवीन वाहन या वस्त्र की प्राप्ति…

     घरेलू सुखों में वृद्धि….

     लीवर में कष्ट…

चंद्रमा कृत दोषों की निवृत्ति के लिए –

  1. ऊॅ श्रां श्रीं श्रौं सः चंद्रमसे नमः का जाप करें…
  2. दूध, चावल का दान करें…
  3. श्री सूक्त का पाठ करें धूप तथा दीप जलायें…

वृश्चिक –

     कार्यक्षेत्र में अधिकार में वृद्धि….

     सामाजिक दायरा में बढ़ोतरी…

     ब्लडप्रेशर बढ़ सकता है…

सूर्य के उपाय –

  1. प्रातः स्नान के उपरांत सूर्य को जल में लाल पुष्प… शक्कर मिलाकर अध्र्य देते हुए ऊॅ धृणि सूर्याय नमः का पाठ करें… सूर्य नमस्कार करें..
  2. गुड़.. गेहू… दान करें..

धनु –

     शिक्षा से संबंधित यात्रा में लाभ….

     यात्रा के दौरान हाथ या कंधे में चोट…

मंगल के उपाय –

  1. ऊॅ अं अंगारकाय नमः का जाप करें…
  2. हनुमानजी की उपासना करें..
  3. मसूर की दाल, गुड दान करें..

मकर –

     लगन की थोड़ी सी कमी से सफलता प्राप्ति में चूक…

     परिवार में तनाव का माहौल….

     धन हानि से तनाव….

बृहस्पति के निम्न उपाय आजमायें –

  1. ऊॅ गुरूवे नमः का जाप करें…
  2. पीली वस्तुओं का दान करें…
  3. गुरूजनों का आर्शीवाद लें..

कुंभ –

     पारिवारिक उत्सव से शामिल होने हेतु छोटी यात्रा…

     आज का दिन पारिवारिक सदस्यों के साथ होगा..

शुक्र जनित तनाव से निवारण के लिए –

  1. ऊॅ शुं शुक्राय नमः का जाप करें…
  2. माॅ महामाया के दर्शन करें…
  3. चावल, दूध, दही का दान करें…

मीन –

     संतान के स्वास्थ्य से कष्ट…

     अध्ययन में बाधा से तनाव…

     पड़ोसियों से विवाद….

चंद्रमा के उपाय करें-

  1. ऊॅ श्रां श्रीं श्रौं सः चंद्रमसे नमः का जाप करें…
  2. दूध, चावल, का दान करें…
  3. श्री सूक्त का पाठ करें धूप तथा दीप जलायें…
  4. रूद्राभिषेक करें…

 

 

 

 

 

SHARE THIS
Continue Reading

ज्योतिष - वास्तु

20/09/2019 का पंचांग एवं राशिफल(षष्ठी का श्राद्ध)

Published

on

  • रायपुर (etoi news) 19.09.2019
  • दिनांक 20.09.2019 का पंचाग
  • शुभ संवत 2076 शक 1941 …
  •  सूर्य दक्षिणायन का …आश्विन मास कृष्ण पक्ष…. षष्ठी … रात्रि को 08 बजकर 12 मिनट तक… शुक्रवार… कृतिका नक्षत्र.. प्रातः को 10 बजकर 20 मिनट तक … आज चन्द्रमा …वृषभ राशि में… आज का राहुकाल दिन को 10 बजकर 26 मिनट से 11 बजकर 57 मिनट तक होगा …

षष्ठी का श्राद्ध –

     ब्रह्म वैवर्त पुराण में यह निर्देश है कि इस संसार में आकर जो सद्गृहस्थ पितृपक्ष के दौरान अपने पितरों को श्रद्धापूर्वक उनकी दिवंगत तिथि के दिन तर्पण, पिंडदान, तिलांजलि और ब्राह्मणों को भोजन कराते हैं, उनको इस जीवन में सभी सांसारिक सुख और भोग प्राप्त होते हैं। वे उच्च शुद्ध कर्मों के कारण अपनी आत्मा के भीतर एक तेज और प्रकाश से आलोकित होते हैं। मृत्यु के उपरांत भी श्राद्ध करने वाले सदगृहस्थ को स्वर्गलोक, विष्णुलोक और ब्रह्मलोक की प्राप्ति होती है।

     आश्विन मास की कृष्णपक्ष की षष्ठी को छठ का श्राद्ध किया जाता है। इसमें चंद्रछट किया जाता है, जिसमें महिलाओ के लिए श्राद्ध किया जाता है। एक पटरे पर जल का कलश रखकर उसपर रोली छिड़क कर सात टीके काढ़े जाते हैं। एक गिलास में गेहूं रखा जाता है एवं उसके उपर रूपये रखकर चंद्रमा को अर्ध्य देने के उपरांत गिलास समेत गेहूँ और रूपया किसी ब्राम्हणी स्त्री को दान कर दिया जाता है।

कथा – एक गांव में सेठ और सेठानी रहते हैं, सेठ कंजूस और सेठानी ऋतुकाल में भी बर्तनों का स्पर्ष करती है, दोनों की मृत्यु उपरांत सेठ बैल और सेठानी कुतिया योनी में अपने ही पुत्र के यहा रखवाली करने लगे। श्राद्ध के दिन बेटे ने ब्राम्हणों के लिए खीर और पुरिया बनावाई। एक चील खीर में मरा हुआ सांप डालकर उड़ गई यह कर्म कुतिया ने देखा और सोचा कि ब्राम्हणों ने इसे खाया तो उनकी मृत्यु हो जायेगी सोच कर कुतिया ने खीर को जुठा कर दिया, जिसके कारण गुस्से में बहु ने कुतिया को जलती लकड़ी से मारा। रात को बैल और कुतिया ने अपना दुखड़ा एक दूसरे को बताया। बैल ने कहा कि आज काम भी ज्यादा किया और भोजन भी नसीब नहीं हुआ वहीं कुतिया ने बताया कि आज तो खाना नहीं मिला उसपर मार भी पड़ गई, जबकि आज ये लोग मेरा ही श्राद्ध कर रहे हैं। बेटा और बहु ने बैल और कुतिया की बाते सुन ली। उन्होंने पंडि़तो से अपने माता-पिता की योनि का पता किया तो पंडि़तो ने बताया कि तुम्हारे पिता बैल और माता कुतिया योनि में हैं। तब पंडितो ने बताया कि जब षष्ठी के दिन कन्याए चंद्रमा को अर्ध्य देकर पूजन करें तो उस अर्ध्य के नीचे दोनों को खड़ा कर दे तो इस येानी से मुक्ति मिल जायेगी, इस प्रकार चंद्रषष्ठी के दिन उपाय करने से उनके माता पिता को मुक्ति मिल गई।

आज के राशियों का हाल तथा ग्रहों की चाल-

मेष राशि –

बिजनेस में आकस्मिक बाधा ….

धन उधार देकर परेशान होंगे ….

संतान पक्ष से दुखी होंगे….

उपाय

     ऊॅ रां राहवे नमः का एक माला जाप कर दिन की शुरूआत करें..

     सूक्ष्म जीवों को आहार दें..

 

वृषभ राशि –

आज अकारण विवाद संभव…

विलंब के कारण कुछ कार्य बिगड़ सकता है….

स्वभाव में चिड़चिड़ापन संभव…

उपाय

     उॅ नमः शिवाय का जाप करें…

     दूध, चावल का दान करें…

     श्री सूक्त का पाठ करें धूप तथा दीप जलायें…

 

मिथुन राशि –

बिजनेस की नई रणनीति बनायेंगे….

लाभ की स्थिति….

सहयोगियों का पूर्ण समर्थन…..

निर्णय में भ्रम की स्थिति….

उपाय करें -.

     ऊॅ बृं बृहस्पतयै नमः का एक माला जाप करें….

     पुरोहित को केला, नारियल का दान करें….

 

कर्क राशि –

धन-संपत्ति, भागीदारी में कष्ट तथा विवाद….

माता के स्वास्थ्य संबंधी चिंता…

आकस्मिक हानि….

उपाय-

     ऊॅ रां राहवे नमः का जाप कर दिन की शुरूआत करें…     

     शंकरजी का जल से अभिषेक करें…

 

सिंह राशि –

कार्यकुशल तथा साहसी…

व्यवसायिक यात्रा…

आय में बाधा…

पार्टनर से तालमेल में कमी…

उपाय के लिए –

     ऊॅ गुरूवे नमः का जाप करें…

     रोगियों, जानवरों तथा वृक्षों की सेवा करें..

 

कन्या राशि –

आज वाहन, परिवार का साथ तथा सुख मिलेगा….

यात्रा से अच्छे लाभ तथा किसी पुराने विशिष्ट व्यक्ति से मुलाकात संभव…

भ्रमण का कार्यक्रम रहेगा….

उपाय-

     ऊॅ भौं भौमाय नमः का एक माला जाप करें….

     मंदिर में लड्ड़ का भोग लगायें….

 

तुला राशि –

बहुभोज का आयोजन करेंगे…

कर्तव्यपालन में संकल्पित होने से प्रषंसा….

मन अषांत रह सकता है….

किसी भागीदार से व्यवहारिक द्धंद से कष्ट संभव….

उपाय-

     ऊॅ बृं बृहस्पतयै नमः का जाप करें..

     पीले वस्त्र का दान करें।

 

वृश्चिक राशि –

लाभ में कमी मानसिक कष्ट दे सकता है।

आलस्य तथा भटकाव से शैक्षणिक स्थिति में गिरावट होगा।

व्यवसायिक पार्टनरशिप में विवाद तथा वित्तीय हानि हो सकता है।

उपाय-

     ऊॅ शुं शुक्राय नमः का जाप करें…

     माँ महामाया के दर्शन करें…

 

धनु राशि –

कम प्रयास में भी अच्छी सफलता आनंददायी होगी।

उच्च शिक्षा में अच्छे परिणाम प्राप्त हो सकते हैं।

दोस्तों के बीच समय का अपव्यय

उपाय-

     ऊॅ सों सोमाय नमः का एक माला जाप करें……

     खीर बनाकर कम से कम एक कन्या को खिलायें….

     स्वेत वस्त्र धारण करें….

 

मकर राशि –

गलत आदतें व्यवसायिक हानि दे सकता है।

धार्मिक कार्यो में निवेश की संभावना है।

ज्यादा स्पायसी आहार से स्वास्थ्य कष्ट संभव।

उपाय करने चाहिए –

     ऊॅ अं अंगारकाय नमः का जाप करें…

     हनुमानजी की उपासना करें..

 

कुंभ राशि –

कार्य बढ़ाने हेतु निवेश कर सकते हैं।

सामाजिक प्रतिष्ठा तथा पारिवारिक सुख हेतु निवेश कर सकते हैं।

ब्लडप्रेशर तथा अनिद्रा के कारण स्वास्थ्य विपरीत हो सकता है।

उपाय

     उड़द, सरसो के तेल का दान करें…..

     तिल…गुड….से बने लड्डू का भोग लगायें….

 

मीन राशि –

काल्पनिकता होने से व्यवसाय में नई कल्पना लाभदायी होगी।

अध्ययन में बाधा हो सकती है।

स्वास्थ्य में कमी तथा सर्दी या बुखार से मन खराब रह सकता है।

निवृत्ति के लिए –

     नारियल…मिष्ठान चढ़ायें….

     गाय…कुत्ता को आहार खिलायें…

 

 

SHARE THIS
Continue Reading

अन्य खबरे

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 19/09/2019

Published

on

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे बढ़ जाएँ,

देश विदेश और अपने प्रदेश की,सभी ख़ास खबरों का ख़ास संकलन,रोज सुबह सुबह पढ़ेसिर्फ हमारे पोर्टल में ,,,,,,,,,

  1. ढाई साल की बछिया के पेट में 20 किलो पॉलीथिन, हुई मौत
  2. मोदी से ममता बनर्जी की मुलाकात का बस एक यही है मकसद
  3. रायपुर में युवती को बंधक बनाकर गैंग रेप
  4. थलसेना की लिखित परीक्षा के तारीख में परिवर्तन
  5. ट्रांसलेटर पद के पात्र उम्मीदवारों की कौशल परीक्षा 21 सितंबर को
  6. गलती से अकाउंट में 40 लाख उड़ा डाले, पति-पत्नी को 3 साल की सजा
  7. वन विभाग द्वारा बाजार सर्वेक्षण की प्रक्रिया शुरू
  8. गौठान में पशुओं की आकस्मिक मृत्यु, डॉ. पटेल निलंबित
  9. मुख्यमंत्री ने अलसी के रेशों से वस्त्र तैयार करने के नवाचार में अग्रणी बुनकरों को दिया 25 लाख रूपए का अनुदान
  10. प्रेमी जोड़े की पिटाई, युवक से प्रेमिका को कंधे पर उठाकर गांव में कराई परेड
  11. मौनी रॉय की कार पर 11वीं मंजिल से गिरा पत्थर
  12. पहले मारी टक्कर फिर मैनेजर को बोनट पर लटकाकर भगाई कार, पिटाई भी की
  13. ट्रेन में भगवान विश्वकर्मा की पूजा की शुरुआत 45 साल से जारी है परंपरा
  14. 370 हटाए जाने के बाद गिरफ्तार किए गए नेताओं की रिहाई पर जितेंद्र सिंह ने दिया जवाब
  15. अमेरिकी सांसद तुलसी गबार्ड ने दी सफाई कहा- मोदी से मुलाकात न करने की खबर गलत
  16. कारोबारी की पीठ में धंस गई थी गोली, मौत के ढाई घंटे बाद डॉक्टरों को चला पता
  17. अब प्रोड्यूसर बनेंगी मान्यता दत्त
  18. सरकारी नौकरी पाने के लालच में बेटे ने की बाप हत्या, माँ ने भी दिया साथ
  19. आफिस सपोर्ट सर्विसेस हेतु निविदा आमंत्रित
  20. “पूरे भारत को एकता के सूत्र में पिरोते हैं रेलवे कर्मचारी ” –मंत्री वर्मा
  21. प्राथमिक विद्यालय में विधायक निधि से लगेगा पेवर ब्लॉक
  22. खेत से घर लौट रही महिला पर गिरी आकाशीय बिजली, मौत
  23. फ़र्जी बीएड की डिग्री के जरिए नौकरी पाने वालों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई 60 सरकारी टीचर निलंबित
  24. रायपुर में IT की बड़ी कार्यवाही, व्यापारियों के कई ठिकानों पर छापे
  25. कैमरे में कैद हुआ बच्‍चा चोर, ऐन वक्‍त पर जागे परिजन फिर…
  26. मायावती का ट्वीट ‘कांग्रेस पार्टी की दोग़ली नीति की वजह से ही देश में ‘साम्प्रदायिक ताकतें मजबूत
  27. प्याज की बढ़ती कीमतों पर मोदी सरकार के मंत्री ने कहा
  28. KTM 790 Duke बाइक 23 सितंबर को होगी भारत में लांच
  29. पहली बार पेट्रोल-डीजल के भाव में आया इतना ज्‍यादा उछाल
  30. 8500 LIC असिस्टेंट के लिए निकले वैकेंसी ऑनलाइन करें आवेदन
  31. छत्तीसगढ़ के स्कूली शिक्षा मंत्री का बैग ट्रेन से चोरी ,प्रशासन में मचा हड़कंप
  32. इतिहास रचेंगे PM मोदी, डोनाल्ड ट्रंप के साथ
  33. सब इंस्पेक्टर के लिए आवेदन आमंत्रित अंतिम तिथि से पहले करें आवेदन
  34. 15 साल के लड़के ने दोस्त की पीट-पीटकर की हत्या, जानिए क्या है कारण
  35. राजपाल यादव ने भी ‘बिग बॉस 13 ‘ में शामिल होने से किया इंकार ,जाने वजह
  36. पाकिस्तान में झगड़े के बाद व्यक्ति ने काटी पत्नी की नाक
  37. चीन ओपन के पहले ही दौर में साइना नेहवाल बाहर
  38. पीड़िता ने एसआईटी की जांच पर उठाये सवाल कहा- चिन्मयानंद जेल जाने के डर से बहाना बना रहे हैं।
  39. मंत्री राम विलास पासवान के मंत्री की शिकायत पर विभाग ने मारा छापा
  40. नगालैंड के बच्चों ने गाना कर पीएम मोदी को बर्थडे विश किया
  41. कर्ज से परेशान युवक ने पत्नी और बच्चों संग जहर खाकर दे दी जान
  42. पुल पर चढ़ा युवक का हाई वोल्टेज ड्रामा जब तक लैंडर का विक्रम से संपर्क नहीं होगा नीचे नहीं उतरुंगा’
  43. नम्रता चंदानी की हत्या का विरोध, सड़क पर निकले लोग, हत्यारों को गिरफ्तार करने की मांग
  44. कश्‍मीर के पूर्व विधायक मोहम्‍मद यूसुफ तारिगामी ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला
  45. बलात्कार आरोपी सजा सुनते ही अपनी गर्दन चाकू से काट ली
  46. बिहार में बिजली गिरने से 12 लोगों की मौत
  47. छत्तीसगढ़ के नगरीय निकायों में चुनाव की प्रक्रिया शुरू
  48. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पूर्व सीएम रमन सिंह के बीच जुबानी जंग
  49. पाकिस्तान से उड़कर भारत आए कबूतर को जांच-पड़ताल
  50. साक्षी मिश्रा का बरेली पुलिस पर से भरोसा ख़तम लगाई दिल्ली पुलिस से उम्मीद
  51. बैग चोरी होने के बाद शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम का अजीबोगरीब बयान
  52. थलसेना की लिखित परीक्षा के तारीख में परिवर्तन
  53. मोदी जी के बारे में मंत्री का बयान निदंनीय – भाजपा
  54. 22 सितंबर को गोढी चंदखुरी में यादव समाज की होगी बैठक
  55. नान मामले में ही जिन अभियुक्तों को गवाह बनाया गया उनकी सूची
  56. रमन सिंह पहले भ्रष्ट सरकार के मुखिया थे अब झूठ और फरेब के बने शहंशाह – कांग्रेस
  57. रविन्द्र चौबे 19 सितम्बर को राजीव भवन में कांग्रेसजनों से मिलेंगे
  58. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के कामों के आधार पर अधिकांश निकायों में जीतेंगे – कांग्रेस
  59. जयशंकर के बयान से घबराया पाकिस्तान
  60. ममता बजर्नी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया पश्चिम बंगाल आने का निमंत्रण
  61. 8 लाख के इनामी नक्सली ने पुलिस के सामने किया आत्मसमर्पण
  62. इस नवरात्रि स्पेशल सब्जी से हो गए हैं बोर तो बनाएं आलू का हलवा
  63. KBC की हॉट सीट पर जीते इतने लाख रुपये, कैंसर पेशेंट आरती कुमारी ने
  64. 62 साल की उम्र में भी फिट अनिल कपूर, जानिए फिटनेस का राज
  65. WhatsApp में आया ये नया फीचर
  66. 9/09/2019 का पंचांग एवं राशिफल(भरणी श्राद्ध से पायें पुष्कर तीर्थ का लाभ)

SHARE THIS
Continue Reading

#Chhattisgarh खबरे !!!!

छत्तीसगढ़1 hour ago

भारत के आर्थिक इतिहास का सबसे बड़ा दिन : भाजपा

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्य व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह...

छत्तीसगढ़1 hour ago

गेट वेल सून प्रेम साय सिंह – भाजयुमो

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर। भाजयुमो द्वारा मानसिक रूप से बीमार छत्तीसगढ़ के शिक्षा मंत्री...

छत्तीसगढ़2 hours ago

सोनिया, राहुल, चिदंबरम, भूपेश को कांग्रेस से बर्खास्त करें – भाजपा

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर। भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से संबंधित कांग्रेस के बयान पर...

छत्तीसगढ़2 hours ago

केन्द्रीय मंत्री पहलाद जोशी के बयान की कांग्रेस ने की कड़ी निंदा

रायपुर/20 सितंबर 2019। केंद्रीय मंत्री पहलाद जोशी के बयान कि कांग्रेस ने कड़ी निंदा की। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर...

छत्तीसगढ़2 hours ago

दंतेवाड़ा उपचुनाव कांग्रेस प्रत्याशी देवती कर्मा बड़े अंतर से जीत रही – कांग्रेस

रायपुर/20 सितंबर 2019। कांग्रेस ने दावा किया है कि दंतेवाड़ा विधानसभा क्षेत्र का उपचुनाव कांग्रेस बड़े अंतर से जीत रही है।...

Advertisement

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive1 day ago

देश इन दिनों : …..सबब मुंसिफ की बेरहमी का ,गुजारिश जान बक्शी की !

सबब मुंसिफ की बेरहमी का ,गुजारिश जान बक्शी की देश के ताज़ा हालात और ट्रेफिक जुर्मानें के कानून के अमल...

Etoi Exclusive4 weeks ago

मोदी का गांधीवाद ?

मोदी का गांधीवाद ?  Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer आइये जाने मोदी का गाँधीवाद  ? भारतीय...

Etoi Exclusive4 weeks ago

हरतालिका तीज कब है ? एक या दो सितंबर को ?

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer हरतालिका तीज का व्रत कब करें, इसे लेकर उलझन है। दरअसल...

Etoi Exclusive4 weeks ago

निर्मला सीतारमण ने कीं आर्थिक सुधारों से जुड़ी घोषणाएँ

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कीं आर्थिक सुधारों से जुड़ी  घोषणाएँ वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक सुधारों का एलान...

Etoi Exclusive4 weeks ago

5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनामी के मजेदार सपने का सच क्या है ?

5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनामी के सपने का सच ? Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer भारत...

Advertisement
September 2019
M T W T F S S
« Aug    
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30  
Advertisement

निधन !!!

Advertisement

Trending