Connect with us

देश-दुनिया

पीएम नरेंद्र मोदी का मथुरा में विपक्ष पर वार

Published

on

 

कान्‍हा की नगरी मथुरा पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘ओम’ और ‘गाय’ के बहाने विपक्ष पर करारा वार किया। उन्‍होंने कहा कि ‘ओम’ शब्‍द सुनते ही कुछ लोगों के कान खड़े हो जाते हैं, कुछ लोगों के कान में ‘गाय’ शब्‍द पड़ता है तो उनके बाल खड़े हो जाते हैं, उनको करंट लग जाता है। उनको लगता है कि देश 16वीं-17 वीं सदी में चला गया है। ऐसे लोगों ने ही देश को बर्बाद कर रखा है।पीएम मोदी ने कहा, ‘हमें यह कोशिश करनी है कि इस वर्ष 2 अक्तूबर तक अपने घरों को, अपने दफ्तरों को, अपने कार्यक्षेत्रों को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करें। आज स्वच्छता ही सेवा अभियान की शुरुआत हुई है, नैशनल एनीमल डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम को भी लॉन्च किया गया है। महात्मा गांधी का यह 150वां प्रेरणा का वर्ष है। स्वच्छता ही सेवा के पीछे भी यही भावना छुपी हुई है। आज से शुरू हो रहे इस अभियान को इस बार विशेष तौर पर प्लास्टिक के कचरे से मुक्ति के लिए समर्पित किया गया है।’प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘ब्रजभूमि ने हमेशा से ही पूरे विश्व और पूरी मानवता को प्रेरित किया है। आज पूरा विश्व पर्यावरण संरक्षण के लिए रोल मॉडल ढूंढ रहा है लेकिन भारत के पास भगवान श्रीकृष्ण जैसा प्रेरणा स्रोत हमेशा से रहा है, जिनकी कल्पना ही पर्यावरण प्रेम के बिना अधूरी है। प्रकृति, पर्यावण और पशुधन के बिना जितने अधूरे खुद हमारे आराध्य नजर आते हैं उतना ही अधूरापन हमें भारत में भी नजर आएगा। पर्यावण और पशुधन हमेशा से ही भारत के आर्थिक चिंतन का महत्वपूर्ण हिस्सा रहा है।पीएम मोदी ने कहा, ‘नए जनादेश के बाद कान्हा की नगरी में पहली बार आने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। इस बार भी पूरे उत्तर प्रदेश का पूरा आशीर्वाद मुझे और मेरे साथियों को प्राप्त हुआ है। देशहित में आपके इस निर्णय के लिए में ब्रजभूमि से आपके सामने शीश झुकाता हूं:आप सभी के आदेश के अनुरूप बीते 100 दिन में हमने अभूतपूर्व काम करके दिखाया है। मुझे विश्वास है कि देश के विकास के लिए आपका यह समर्थन और आशीर्वाद हमें मिलता रहेगा।’

इससे पहले यूपी के मथुरा पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी ने दुधारू पशुओं को गंभीर बीमारियों से मुक्त कराने के लिए तैयार की गई 13,500 करोड़ की टीकाकरण योजना का शुभारम्भ किया। पीएम ने यहां कार्यक्रम की शुरुआत गोसेवा से की। कचरा प्रबंधन से जुड़ी महिलाओं के साथ खुद कचरा छांटकर पीएम ने लोगों से प्लास्टिक का प्रयोग बंद करने की सांकेतिक अपील की। साथ ही उन्होंने सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ मुहिम भी लॉन्च की।

 

Advertisement
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

देश-दुनिया

भगवान शिव की मूर्ति सबसे बड़ी प्रयोगशाला में क्यों लगी है ? देखिये पूरी खबर,

Published

on

स्विटजरलैंड स्थित दुनिया के सबसे बने परिसर में नटराज की मूर्तिड़े फीजिक्स लैब ने अप लगा रखी है. नटराज भगवान शिव (Lord Shiva) का ही एक रूप हैं.भगवान शिव (Lord Shiva) हिंदुओं के देवता हैं. उन्हें ब्रह्मांड (Universe) में जीवन (Life) का आधार माना गया है. जीवन के अस्तित्व (creation) से लेकर अंत (destruction) तक सबमें शिव की अवधारणा समाई है. जीवन की सबसे बड़ी उर्जा हैं शिव. इस बात की वैज्ञानिक भी अपने तरीके से व्याख्या करते हैं. हिंदू पुराणों में शिव की अवधारणा को लेकर कुछ वैज्ञानिकों ने अपने स्पष्ट दृष्टिकोण दिए हैं. शायद इसलिए किसी को हैरानी नहीं होती कि दुनिया की सबसे बड़ी प्रयोगशाला ने अपने यहां भगवान शिव की मूर्ति लगा रखी है.स्विटजरलैंड में दुनिया की सबसे मशहूर फिजिक्स लैब सर्न (CERN) के परिसर में भगवान शिव की मूर्ति है. वैज्ञानिक इस मूर्ति को लगाने के पीछे कई तरह के तर्क देते हैं. ये आस्था और विज्ञान के मेल सरीखा दिखता है.

सर्न में कहां से आई भगवान शिव की मूर्ति
सर्न परिसर में लगी नटराज की मूर्ति 2 मीटर लंबी है. 2004 में भारत सरकार ने फीजिक्स लैब सर्न को तोहफे में ये मूर्ति दी थी. 18 जून 2004 को इस मूर्ति का अनावरण किया गया. एक प्रयोगशाला में भगवान की मूर्ति का क्या काम? इस सवाल का वैज्ञानिक तार्किक जवाब देते हैं.इस मूर्ति के नीचे लगी पट्टी पर फ्रिटजॉफ कैप्रा की कुछ पंक्तिया लिखी हैं. फ्रिटजॉफ कैप्रा ने भगवान शिव की अवधारणा की व्याख्या करते हुए लिखा है- हजारों साल पहले भारतीय कलाकारों ने नाचते हुए शिव के चित्र बनाए. कांसे के बने डांसिंग शिवा की सीरीज में मूर्तियां हैं. हमारे वक्त में हम फीजिक्स की एडवांस्ड टेक्नोलॉजी की मदद से कॉस्मिक डांस को चित्रित करते हैं. कॉस्मिक डांस का रूपक पौराणिक कथाओं से मेल खाता है. ये धार्मिक कलाकारी और मॉर्डन फिजिक्स का मिश्रण है.
भगवान शिव को लेकर क्या कहते हैं वैज्ञानिक

फ्रिटजॉफ कैप्रा मशहूर भौतिकविज्ञानी हैं. वो द ताओ ऑफ फिजिक्स में शिव की अवधारणा के साथ विज्ञान के मेल को लेकर लिखते हैं- शिव का नाचता हुआ रूप ब्रह्मांड के अस्तित्व को रेखांकित करता है. शिव हमें याद दिलाते हैं कि दुनिया में कुछ भी मौलिक नहीं है. सबकुछ भ्रम सरीखा और लगातार बदलने वाला है. मॉर्डन फिजिक्स भी इस बात की याद दिलाता है कि सभी सजीव प्राणियों में निर्माण और अंत, जन्म और मरण की प्रक्रिया लगातार चलती रहती है. ये इनऑर्गेनिक मैटर्स पर भी लागू होता है.

भौतिक विज्ञानी फ्रिटजॉफ कैप्रा आगे लिखते हैं- क्वॉन्टम फिल्ड थ्योरी के मुताबिक किसी भी पदार्थ का अस्तित्व ही निर्माण और अंत के नृत्य पर आधारित है. मॉर्डन फीजिक्स इस बात को उजागर करता है कि सभी सबएटॉमिक पार्टिकल ना सिर्फ एनर्जी डांस करते हैं, बल्कि ये एनर्जी डांस ही निर्माण और संहार को संचालित करता है. मॉर्डन फिजिक्स के लिए शिव का डांस सबएटॉमिक मैटर का डांस है. ये सभी

तरह के अस्तित्व की कुदरती अवधारणा है.
सर्न के वैज्ञानिक भगवान शिव से लेते हैं प्रेरणा

दुनिया की सबसे बड़ी प्रयोगशाला में लगी भगवान शिव की मूर्ति से वैज्ञानिक प्रेरणा ग्रहण करते हैं. एक बार इस प्रयोगशाला में काम करने वाले रिसर्च स्कॉलर ने कहा था कि शिव की मूर्ति उन्हें प्रेरणा देती है. दिन के उजाले में जब सर्न जीवन के साथ ताल से ताल मिलाता है तो शिव इसके साथ खेलते हुए दिखते हैं. शिव हमें याद दिलाते हैं कि ब्रह्मांड में लगातार चीजें बदल रही हैं. कोई भी चीज स्थिर नहीं है. वहीं रात के अंधियारे में जब हम इसपर गहराई से विचार करते हैं तो शिव हमारे काम से उजागर हुई चीजों की परछाइयों से रूबरू करवाते हैं.

Continue Reading

क्राइम

आग का गोला बनकर दौड़ा डॉक्टर, लोग बनाते रहे वीडियो

Published

on

कानपुर के मीरपुर में होम्योपैथ क्लीनिक में एक डॉक्टर ने खुद पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा ली। आग का गोला बना डॉक्टर बाहर भागा तो लोगों के रोंगटे खड़े हो गए। तमाशबीन भीड़ में शामिल कुछ लोग वीडियो बना रहे थे तभी ही एक हिम्मती युवक ने डॉक्टर पर पानी डालकर आग बुझाई। फिर उसे गंभीर हालत में मॉल रोड स्थित एक निजी अस्पताल पहुंचाया गया। जहां से उसे हैलेट रेफर कर दिया गया, लेकिन परिजन किसी निजी अस्पताल लेकर चले गए।

कानपुर के लालबंगला परदेवनपुरवा निवासी डॉ. इंद्रजीत सिंह का मीरपुर में क्लीनिक है। जहां उनका बीएचएमएस पास बेटा संदीप भी बैठता है। डॉ. संदीप को इलाके के कुछ लोग काफी समय से परेशान कर रहे थे। इसे वह तनाव में था। गुरुवार दोपहर डॉ. संदीप अकेले क्लीनिक पहुंचे और खुद पर पेट्रोल डालकर आग लगा ली। इसके बाद वह चीखते हुए बाहर भागे। आग से क्लीनिक के फर्नीचर व पर्दे भी जलने लगे। डॉ. संदीप को आग से घिरा देख सड़क पर अफरातफरी मच गई। लोग इधर-उधर भागने लगे तो कुछ वीडियो बनाने लगे। इसी बीच एक युवक ने हिम्मत दिखाते हुए सबमर्सिबल पंप चलाकर डॉक्टर पर पानी डाला। तब तक कुछ लोगों ने फायर ब्रिगेड को सूचना दी। मौके पर पहुंची दमकल ने क्लीनिक की आग बुझाई।

परिवार के लोगों का कहना है कि मोहल्ले के कुछ लोग डॉ. संदीप को झोलाछाप डॉक्टर बताकर मुकदमा दर्ज कराने की धमकी दे रहे थे। इसको लेकर वह परेशान था। धमकी देने वाले युवकों की पहचान कराई जा रही है। तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी

Continue Reading

देश-दुनिया

योगी सरकार ने प्रयागराज के चारों रेलवे स्टेशनों के नाम बदल दिए

Published

on

केंद्रीय गृह मंत्रालय की एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) मिलने के बाद यूपी सरकार ने प्रयागराज के चारों रेलवे स्टेशनों के नाम बदल दिए हैं। इन रेलवे स्टेशनों का नाम बदलने की अधिसूचना यूपी सरकार द्वारा गुरुवार को जारी कर दी गई है।

प्रमुख सचिव लोक निर्माण रमेश नितिन गोकर्ण द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार इलाहाबाद जंक्शन का नाम बदलकर प्रयागराज जंक्शन, इलाहाबाद सिटी का नाम बदलकर प्रयागराज रामबाग, इलाहाबाद छिक्की का नाम बदलकर प्रयागराज छिक्की और प्रयागघाट रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर प्रयागराज संगम कर दिया गया है।

इस संबंध में श्री गोकर्ण ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 19 फरवरी को इन रेलवे स्टेशनों का नाम बदलने की एनओसी दी जिसके क्रम में 20 फरवरी यानी आज उनके द्वारा इसकी अधिसूचना जारी कर दी गई। अब इन स्टेशनों को नए नाम से ही जाना जाएगा। इसकी जानकारी रेलवे मंत्रालय के अधिकारियों के साथ-साथ प्रयागराज के कमिश्नर आशीष गोयल तथा सभी संबंधित वरिष्ठ अधिकारियों को भी दे दी गई है। जिससे उनके द्वारा आगे की कार्यवाही शुरु की जा सके।

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

देश-दुनिया2 hours ago

योगी सरकार ने प्रयागराज के चारों रेलवे स्टेशनों के नाम बदल दिए

केंद्रीय गृह मंत्रालय की एनओसी (अनापत्ति प्रमाण पत्र) मिलने के बाद यूपी सरकार ने प्रयागराज के चारों रेलवे स्टेशनों के...

छत्तीसगढ़3 hours ago

राष्ट्रीय कृषि मेला: किफायती दर पर मिलेगा दुध, घी, गौमूत्र अर्क, वर्मी कंपोस्ट सहित अनेक पशुधन उत्पाद

रायपुर,(etoi news) 21 फरवरी 2020 राष्ट्रीय कृषि मेला में राज्य के प्रगतिशील किसानों और स्व-सहायता समूहों के विभिन्न उत्पादों और...

छत्तीसगढ़4 hours ago

रायपुर की सिटी कोतवाली बनेगी अब स्मार्ट सिटी कोतवाली

रायपुर,(etoi news) 21 फरवरी 2020 राजधानी रायपुर की ऐतिहासिक सिटी कोतवाली थाने का कायाकल्प होने जा रहा है। अब इसे...

छत्तीसगढ़4 hours ago

छत्तीसगढ़ में बना धान खरीदी का नया रिकॉर्ड

रायपुर,(etoi news) 21 फरवरी 2020     छत्तीसगढ़ राज्य गठन के बाद प्रदेश में इस साल सर्वाधिक धान खरीदी का...

छत्तीसगढ़4 hours ago

चारामा की महिलाओं ने तैयार किए 3.42 लाख रुपए का रेशम धागा

रायपुर,(etoi news) 21 फरवरी 2020 ग्रामीण महिलाओं के जीवन में टसर धागों से उन्हें न केवल स्वावलंबन की राह मिली...

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive20 hours ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 21 /02/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Etoi Exclusive2 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 20 /02/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Etoi Exclusive3 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 19 /02/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Etoi Exclusive4 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 18 /02/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Etoi Exclusive5 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 17 /02/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Calendar

February 2020
M T W T F S S
« Jan    
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
242526272829  

निधन !!!

Advertisement

Trending