Connect with us

Public holiday for Gowardhan Pooja demanded All India Bank Officers’ Association-AIBOC (Chhattisgarh Unit)

Published

on

Public holiday for Gowardhan Pooja demanded All

India Bank Officers’ Association-AIBOC (Chhattisgarh

Unit)

Under the Negotiable Instrument Act, 1881, the All India Bank Officers’ Association-AIBOC (Chhattisgarh Unit) has demanded state govt for declaration of public holiday on the occasion of Gowardhan Pooja, the very next day after Dipawali.

Office-bearers of AIBOC (Chhattisgarh Unit) wrote a letter to Chief Minister Bhupesh Baghel that since the governments of many states have already declared holiday on Gowardhan Pooja, the employees of banks and other financial institutions and their families will be deprived of partaking in the festival of Chhattisgarh.

In the letter, AIBOC also mentioned that the next day after Deepawali has its own significance and relevance, as Diwali Milan Samaroh is observed and the exchange of greeting is done by the people, which results in very little footfall in any banks and financial institutions. Therefore, it was requested from the state govt to declare Gowardhan Pooja as a public holiday.

 

Advertisement
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

मनोरंजन

सुशांत सिंह राजपूत केस: CBI, ED, NCB के बाद अब होगी NIA की एंट्री?…जानिए वजह

Published

on

By

फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मौत केस में अब राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी एनआईए की एंट्री हो सकती है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है. क्योंकि ड्रग से संबंधित मामलों की जांच के लिए केंद्र सरकार द्वारा अब राष्ट्रीय जांच एजेंसी को मंजूरी दे दी गई है। सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े केस की एनआईए जांच का यह बड़ा कारण हो सकता है। आपको बता दें कि इस एजेंसी का गठन मूल रूप से आतंकवाद से संबंधित मामलों की जांच के लिए किया जाता है।

अगर इस केस की जांच एनआईए को सौंपी जती है तो तो केंद्रीय जांच ब्यूरो, प्रवर्तन निदेशालय और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के बाद एनआईए इस मामले में शामिल होने वाली चौथी एजेंसी बन जाएगी।

वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग ने मंगलवार को एक अधिसूचना जारी की, जिसमें कहा गया कि धारा 53 द नार्कोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रॉपिक सब्सटेंस एक्ट, 1985 के अनुसार, केंद्र राज्यों के साथ परामर्श करने के बाद ”एनआईए में निरीक्षकों के रैंक से ऊपर के अधिकारियों को शक्तियों का प्रयोग करने और कर्तव्यों का पालन करने के लिए आमंत्रित करता है।”

यह धारा सरकार को किसी भी अधिकारी को इस अधिनियम के तहत अपराधों की जांच के लिए एक पुलिस स्टेशन की शक्तियां प्रदान करने की अनुमति देती है। एनआईए की स्थापना 2008 के मुंबई सीरियल धमाकों के बाद एक साल के लिए की गई थी। खासतौर से देश भर में आतंकी गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित करने के लिए। पिछले साल एनआईए अधिनियम में संशोधन में, एजेंसी को मानव तस्करी, जाली नोट और साइबर आतंकवाद से संबंधित मामलों की जांच करने का अधिकार क्षेत्र भी दिया गया था, लेकिन मादक पदार्थों के मामले अभी भी इसके दायरे में नहीं थे। मंगलवार को इसका भी आदेश दे दिया गया।

इस मामले के जानकार एक सरकारी अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि यह आदेश सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में चल रही जांच के दायरे का विस्तार कर सकता है, जहां ड्रग्स, मनी लॉन्ड्रिंग और राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे उभरे हैं।

एक दूसरे सरकारी अधिकारी ने कहा कि अधिसूचना का महत्व यह था कि ऐसे मामले जो पहले केवल एनसीबी के डोमेन थे, अब एनआईए द्वारा नियंत्रित किए जा सकते हैं। महाराष्ट्र के एक मंत्री से इसके बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मुझे फिलहहाल इसकी कोई जानकारी नहीं है।

आपको बता दें कि 14 जून को अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मौत केस की जांच के लिए बिहार सरकार ने जैसे ही सीबीआई जांच की मांग की वैसे ही यह एक राजनीतिक मुद्दा बन गई है। बिहार सरकार की इस मांग की महाराष्ट्र सरकार ने आलोचना की।  मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा और सर्वोच्च न्यायालय ने भी सीबीआई जांच की मंजूरी दे दी। इस केस में  मौत के आसपास की परिस्थितियों की जांच सीबीआई द्वारा की जा रही है और ड्रग्स की एगल पर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा जांच की जा रही है। अभिनेत्री और सुशांत की प्रेमिका रिया चक्रवर्ती एक कथित “ड्रग सिंडिकेट” में उनकी भूमिका और अभिनेता के लिए कथित रूप से ड्रग्स की खरीद के लिए हिरासत में हैं। ईडी जांच के मनी लॉन्ड्रिंग पहलुओं पर गौर कर रहा है।

एडीजी (कानून व्यवस्था), जीपी सिंह ने कहा, “यह विशेष रूप से आतंकी मॉड्यूल और ड्रग डीलरों के बीच बढ़ती संबंधों के प्रकाश में एक अच्छा कदम है। एनआईए अधिकारी नार्को-आतंकवाद अपराधों की प्रभावी जांच कर सकते हैं। राज्य पुलिस अधिकारियों की शक्तियों पर इसका कोई असर नहीं होगा।”

Continue Reading

देश - दुनिया

कोरोना अपडेट : 83,347 नए मामले…1,085 मौतें

Published

on

By

देश में 21वें दिन लगातार हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. अबतक कोरोना से संक्रमित 90 हजार लोगों की जान जा चुकी है. हालांकि भारत दुनियाभर में रिकवर केसों के मामलों में सबसे टॉप स्थान पर बना हुआ है. देश में पिछले 24 घंटों में 83,347 नए कोरोना मामले दर्ज किए गए हैं और 1085 लोगों की जान भी चली गई है. दो सितंबर से लगातार देश में एक हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. अच्छी खबर ये है कि 24 घंटे में अबतक 89,746 मरीज ठीक भी हुए हैं.

स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, देश में अब कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 56 लाख 46 हजार हो गई है. इनमें से 90,020 लोगों की मौत हो चुकी है. एक्टिव केस की संख्या घटकर 9 लाख 68 हजार हो गई और 45 लाख 87 हजार लोग ठीक हो चुके हैं. संक्रमण के सक्रिय मामलों की संख्या की तुलना में स्वस्थ हुए लोगों की संख्या करीब चार गुना अधिक है.

Continue Reading

देश - दुनिया

आज मोदी करेंगे सात राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ मीटिंग, कोरोना से पैदा हालात की करेंगे समीक्षा

Published

on

By

देश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामलों को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सात राज्यों में कोरोना के हालात की समीक्षा करेंगे। वे इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों से संवाद कर फीडबैक भी लेंगे।

दरअसल, देश में कोरोना से अधिकांश केस इन्हीं सात राज्यों महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, दिल्ली और पंजाब से आ रहे हैं। कोरोना के संक्रमण की गति को थामने और उससे होने वाली मौतों को रोकने के लिए इन राज्यों में टेस्टिंग की संख्या बढ़ाने के प्रयास जरूर किए जा रहे हैं लेकिन अभी भी इन सात राज्यों में कोरोना से हालात बेकाबू हैं। प्रधानमंत्री इन सात राज्यों पर विशेष रूप से फोकस कर रहे हैं।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज जिन सात राज्यों में कोरोना की स्थिति की समीक्षा करेंगे। देश के कुल एक्टिव कोरोना केस का 63 फीसदी इन्हीं राज्यों से है। देश में अभी तक सामने आए कुल कोरोना के मामलों का 65.5 और इससे होने मौतों का 77 फीसदी इन्हीं राज्यों में सीमित है। महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, उत्तरप्रदेश और तमिलनाडु में पिछले एक हफ्ते में औसत प्रतिदिन कोरोना के नए मामलों में कमी आई है लेकिन पंजाब और दिल्ली में इसकी संख्या बढ़ रही है।

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

Breaking14 hours ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 22/09/2020

  स्वास्थ्य विभाग : विभिन्न पदों पर पदोन्नति हेतु अंतिम वरिष्ठता सूची जारी क्वार नवरात्रि मेला आयोजन के संबंध में...

छत्तीसगढ़14 hours ago

नए कृषि कानूनों का विरोध कांग्रेस की वैचारिक दरिद्रता और किसान विरोधी राजनीतिक चरित्र का परिचायक : भाजपा

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने केंद्र सरकार द्वारा पारित कृषि सुधार बिल...

छत्तीसगढ़15 hours ago

देश भर में कोरोना वारियर्स का सम्मान पर छतीसगढ़ सरकार कर रही शोषण: भाजपा

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने आंदोलनरत संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों में कुछ कर्मचारियों को बर्ख़ास्त करने के...

छत्तीसगढ़15 hours ago

मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर विशेष पिछड़ी जनजाति के युवक हरिचंद की हत्या/ आत्महत्या के 1 वर्ष बाद भी न्याय न मिलने की बात उठाई भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष विजय शर्मा ने

भारतीय जनता युवा मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष विजय शर्मा ने 1 वर्ष पूर्व कवर्धा में आबकारी विभाग द्वारा प्रताड़ित विशेष पिछड़ी...

छत्तीसगढ़15 hours ago

न्यूनतम समर्थन मूल्य – MSP खत्म करने की भाजपाई साजिश हुई बेनकाब

न्यूनतम समर्थन मूल्य – MSP खत्म करने की भाजपाई साजिश हुई बेनकाब गेहूँ के MSP में मात्र 2.6 प्रतिशत की...

#Exclusive खबरे

Calendar

September 2020
S M T W T F S
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930  

निधन !!!

Advertisement

Trending