Connect with us

देश-दुनिया

वैश्विक व्यापार एवं निवेश में मंदी – क्या भारत निवेश करा पायेगा ?

Published

on

बीस वित्त मंत्रियों और सेंट्रल बैंक के गवर्नर्स का समूह (जी20,जी -20 और बीस का समूह के रूप में भी जाना जाता है), जो कि विश्व की 20 प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के वित्त मंत्रीयों और केंद्रीय बैंक के गवर्नर्स का एक संगठन है, जिसमें 19 देश और यूरोपीय संघ शामिल हैं। जिसका प्रतिनिधित्व यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष और यूरोपीय केंद्रीय बैंक द्वारा किया है। प्रत्येक वर्ष स्पेन के अलावा, जी20 के मेहमानों में आसियान देशों के अध्यक्ष; दो अफ्रीकी देश (अफ्रीकी संघ के अध्यक्ष और अफ्रीका के विकास के लिए नई साझेदारी के प्रतिनिधि) और एक देश (कभी-कभी एक से अधिक) जी20 के अध्यक्ष द्वारा आमंत्रित किया जाता है, आमतौर पर वे अपने ही क्षेत्र से होते हैं।

सितंबर 1999 में जी-7 देशों के वित्त मंत्रियों ने जी-20 का गठन एक अंतरराष्ट्रीय मंच के तौर पर किया था। यह मंच अंतरराष्ट्रीय वित्तीय स्थिरता को बनाए रखने के साथ ब्रेटन वुड्स संस्थागत प्रणाली की रूपरेखा के भीतर आने वाले व्यवस्थित महत्वपूर्ण देशों के बीच अनौपचारिक बातचीत एवं सहयोग को बढ़ावा देता है। यह समूह (जी-20) अपने सदस्यों के अंतरराष्ट्रीय आर्थिक सहयोग और कुछ मुद्दों पर निर्णय करने के लिए प्रमुख मंच है। इसमें 19 देश और यूरोपीय संघ शामिल है। जी-20 के नेता वर्ष में एक बार साथ मिलते हैं और बैठक करते हैं।

इसके अलावा, वर्ष के दौरान, देशों के वित्त मंत्री और केंद्रीय बैंक के गवर्नर वैश्विक अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने, अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों में सुधार लाने, वित्तीय नियमन में सुधार लाने और प्रत्येक सदस्य देश में जरूरी प्रमुख आर्थिक सुधारों पर चर्चा करने के लिए नियमित रूप से बैठक करते रहते हैं। इन बैठकों के अलावा वरिष्ठ अधिकारियों और विशेष मुद्दों पर नीतिगत समन्वय पर काम करने वाले कार्य समूहों के बीच वर्ष भर चलने वाली बैठकें भी होती हैं।

जी-20 में शामिल देशों के वित्त मंत्रियों और केंद्रीय बैंकों के गवर्नरों ने रविवार को जापान के फुकुओका शहर में व्यापार और डिजिटल अर्थव्यवस्था पर आयोजित दो दिवसीय सम्मेलन के बाद एक संयुक्त बयान जारी किया।
बयान में कहा गया कि वैश्विक आर्थिक विकास में स्थिरता देखी जा रही है और आमतौर पर माना जाता है कि इस साल के आखिर में व 2020 में विकास की दर मंद रहने वाली है। बयान में कहा गया कि खासतौर से व्यापार और भूराजनीतिक तनाव बढ़ गया है। मंत्रियों ने संयुक्त बयान में कहा, हम इन जोखिमों के समाधान में जुटे रहेंगे और आगे की कार्रवाई करने को तैयार हैं। वित्तीय मामलों के प्रमुखों ने वैश्विक आईटी कंपनियों के लिए नई कर व्यवस्था पर भी विचार-विमर्श किया जो सीमा पार डाटा हस्तांतरण से काफी लाभ कमाती हैं। उन्होंने अर्थव्यवस्था में बुजुर्ग आबादी के प्रभाव पर भी विचार-विमर्श किया। उन्होंने इंटरनेट कंपनियों पर वैश्विक कॉरपोरेट टैक्स में सुधार को लेकर भी सहमति जताई।
उन्होंने कहा, 2020 तक अंतिम रिपोर्ट के साथ हम सर्वसम्मति से समाधान के लिए दोबारा दोगुना प्रयास करेंगे। ओसाका में 28-29 जून को होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन में वित्त मंत्रियों की सहमति से उनके नेताओं को अवगत कराया जाएगा।

भारत ने विकासशील देशों में रोजगार और आय बढ़ाने के लिए सूक्ष्‍म, लघु और मझोले उपक्रमों को बढ़ावा देने पर ज़ोर दिया

भारत ने विकासशील देशों में रोजगार सृजन और आय बढ़ाने के माध्‍यम के रूप में सूक्ष्‍म, लघु और मझोले उपक्रमों को बढ़ावा देने की वकालत की है। वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने आज जापान के त्‍सुकबा शहर में आयोजित जी-20 शिखर सम्‍मेलन में कहा कि विकासशील देशों में रोजगार सृजन और व्‍यापार को प्रोत्‍साहित करने के लिए छोटे उदयोगों को बढ़ावा देना जरुरी है। वाणिज्‍य मंत्री सम्‍मेलन में ‘टिकाऊ और समग्र विकास के लिए व्‍यापार और निवेश को प्रोत्‍साहन’ विषय पर आयोजित विशेष सत्र को संबोधित कर रहे थे।

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने अंतर्राष्ट्रीय कारोबार में संरक्षणवादी उपायों को हटाने का आह्वान करते हुए कहा है कि वैश्विक व्यापार एवं निवेश में मंदी से विकासशील और अल्पविकसित देशों को भारी नुकसान हो रहा है। वैश्विक कारोबार में चल रहे तनाव के कारण दुनियाभर में कारोबारी भरोसा घटा है। इससे विकासशील एवं अल्पविकसित देश सर्वाधिक प्रभावित हुए हैं।

भारत व्यापारिक तनाव घटाने के सामूहिक प्रयासों का समर्थन करता है और नियम आधारित व्यापार प्रणाली के पक्ष में हैं। नियम आधारित व्यापार प्रणाली निष्पक्ष, स्वतंत्र एवं समान व्यापार के लिए जरुरी है। उन्होंने जी 20 देशों के व्यापार मंत्रियों ने विश्व व्यापार संगठन की व्यापार प्रणाली को मजबूत करने का अनुरोध किया।

SHARE THIS

देश-दुनिया

‘झांसेबाज’ पाक की नई चाल, आतंकवादियों के खिलाफ दर्ज की फर्जी एफआईआर

Published

on

By

  • पाकिस्तान एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है। वो भी ऐसे समय में जब अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के वित्तपोषण की निगरानी करने वाली संस्था फाइनेंशल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) की बैठक को कुछ ही समय हुआ है। अब पाकिस्तान आतंकी संगठनों और अपनी मिट्टी पर पल रहे आतंकियों के खिलाफ झूठे और कमजोर मामले दर्ज कर रहा है। पाकिस्तान के गुमराह करने के सबूत देते हुए सूत्रों ने बताया कि एक जुलाई को गुजरांवाला पुलिस में प्रतिबंधित दावत-वल-इरशाद के सदस्यों के खिलाफ एक सूत्र द्वारा दी गई जानकारी के आधार भूमि सौदा करने पर मामला दर्ज करवाया गया। बता दें दावत-वल-इरशाद, लश्कर-ए-तैयबा का ही एक सहायक संगठन है। जिसका प्रमुख आतंकी हाफिज सईद है। हालांकि कानून की जानकारी रखने वालों का कहना है ये एफआईआर कानून के अनुसार सही तरह से दर्ज नहीं करवाई गई है। एएनआई द्वारा शेयर की गई एफआईआर की कॉपी में लिखा है, “ये एफआईआर दोपहर डेढ़ बजे एएसआई मुमताज अहमद, इरफान अहमद 1199/सी और रिजवान आजम 1184/सी ने दर्ज की है। जो उस दिन उस्मान चौक मलिकवाल पर मौजूद थे।
  • सूत्रों ने जानकारी दी है कि यह एफआईआर मोहम्मद अली की जमीन को आतंकी संगठनों को दिए जाने से जुड़ा है। मोहम्मद अली पुत्र सलीम अख्तर जाति राजपूत जो मलिकवाल शहर के रहने वाले हैं। उन्होंने अपनी एक जमीन जिसका खैवत नंबर 449, खतौनी नंबर 839 से 840 तक है, जो उस्मान चौक (राणा टाउन) मोहल्ला फैसलाबाद जिला मलिकवाल के पास स्थित है, उन्होंने अपनी जमीन का एक टुकड़ा प्रतिबंधित आतंकी संगठन दावत-वाल-इरशाद को प्रदान किया था, जो लश्कर-ए-तैयबा का एक सहायक आतंकी संगठन है। उन्होंने ये सब ये जानते हुए किया कि लश्कर-ए-तैयबा और दावत-वल-इरशाद दोनों एक प्रतिबंधित संगठन है और उनकी जमीन का इस्तेमाल आतंकी गतिविधियों के लिए किया जाएगा इसके बावजूद उन्होंने यह जमीन उन्हें दे दी।”एफआईआर में लिखा है, “इस जमीन का इस्तेमाल प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा और उसके सहायक संगठन दावत-वल-इरशाद के सभी सदस्यों ने आतंकी गतिविधियों के लिए किया है।
  • इस जमीन का इस्तेमाल उन्होंने धन एकत्र करके आतंकी फंडिंग के लिए किया और आतंकवाद के प्रचार के लिए भी इस संपत्ति का इस्तेमाल किया गया।”हालांकि इसमें ना तो जमात-उद-दावा का नाम लिखा है और ना ही फलाह-ए-इंसानियत का। इसमें सिर्फ जमात-उद-दावा के पुराने नाम दावत-वल-इरशाद का नाम है। कानून के जानकारों का कहना है कि इसमें प्रत्येक व्यक्ति की भूमिका को भी सूचीबद्ध नहीं किया गया है। साथ ही एफआईआर में समयसीमा का भी ठीक से कोई उल्लेख नहीं किया गया है। एफआईआर में लिखा है, “मोहम्मद अली पुत्र सलीम अख्तर ने एटीए/1997, II-H3(a) (b) के तहत अपना अपराध कबूल किया है कि उन्होंने अपनी संपत्ति प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा और दावत-वल-इरशाद को सौंपी है। जिसमें उन्होंने अब्दुल गफ्फार, हाफिज मसूद, अमीर हमजा, हाफिज सईद, मलिक जफर इकबाल को आतंकी फंडिंग के लिए अपनी संपत्ति देने की बात कबूली है।” 

SHARE THIS
Continue Reading

देश-दुनिया

चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका! सीएम हुड्डा कर सकते हैं नई पार्टी का ऐलान

Published

on

  • हरियाणा 18 अगस्त 2019
  • हरियाणा विधानसभा चुनाव से ठीक पहले रविवार को कांग्रेस को बड़ा झटका लग सकता है. एक समय में राज्य में कांग्रेस के प्रमुख नेता रहे और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा नई पार्टी का ऐलान कर सकते हैं. इसको लेकर काफी गहमा गहमी है और कांग्रेस आलाकमान से लेकर राज्य के नेताओं तक की हुड्डा के फैसले पर नजर है.
  • अगर हुड्डा नई पार्टी का ऐलान करते हैं तो अंदरूनी कलहों से जूझ रही कांग्रेस के लिए यह किसी बड़े झटके से कम नहीं होगा. हु्ड्डा के नई पार्टी बनाने की चर्चा पिछले दिनों से जोरों पर है. वहीं पूर्व सांसद दीपेंद्र हुड्डा का Article 370 पर पार्टी लाइन से अलग बयान देना भी कांग्रेस को एक इशारा माना गया था.

हुड्डा ने की थी दिल्ली में वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात

  • रोहतक रविवार को होने वाली रैली से एक दिन पहले हुड्डा ने दिल्ली में कांग्रेस के तमाम वरिष्ठ नेताओं से चर्चा भी की. हालांकि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी से हुड्डा की मुलाकात नहीं होने को लेकर भी चर्चाएं जोरों पर हैं. हुड्डा को करीब से जानने वाले और राज्य की राजनीति पर नजर रखने वालों का कहना है कि या तो हुड्डा रोहतक की महापरिवर्तन रैली में अपनी नई पार्टी का ऐलान करेंगे या आगामी विधानसभा चुनाव किसी अन्य दल के साथ लड़ने की घोषणा कर सकते हैं.

लोकसभा चुनाव में हार के बाद शुरू हुई थी हुड्डा के खिलाफ गोलबंदी

  • लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को हरियाणा में मिली करारी हार के बाद भूपेंद्र सिंह हुड्डा के खिलाफ गोलबंदी शुरू हो गई थी. पार्टी के नेता विधानसभा चुनाव हुड्डा के नेतृत्व में लड़ने के पक्ष में नहीं हैं. लोकसभा चुनाव के दौरान हुड्डा के प्रभाव वाले जाट वोट बैंक में भी बीजेपी ने सेंधमारी कर दी है. ऐसे में कांग्रेसी यह तथ्य रखकर हुड्डा का विरोध कर रहे हैं.

कांग्रेस को हुड्डा की रैली का इंतजार

  • बता दें कि फिलहाल हरियाणा में कांग्रेस के 16 विधायक हैं. कहा जा रहा है कि 12 विधायक भूपेंद्र सिंह हुड्डा के समर्थन में हैं. कुछ नेता हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष अशोक तंवर के समर्थन में भी हैं. कई घड़ों में बंटी कांग्रेस अब हुड्डा के अगले रणनीति का इंतजार कर रही है.

SHARE THIS
Continue Reading

देश-दुनिया

बाहुबली विधायक को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस, चकमा देकर हुए फरार

Published

on

By

  • बिहार के मोकामा क्षेत्र से निर्दलीय विधायक अनंत सिंहको गिरफ्तार करने के लिए पटना पुलिस शनिवार देर रात उनके सरकारी आवास पहुंची। अनंत सिंह को जब इसकी भनक लगी, तो वे फरार हो गए। गौरतलब है कि पुलिस ने शुक्रवार को उनके आवास पर छापेमारी कर एक एके-47 राइफल और हैंड ग्रेनेड बरामद किया था। पटना पुलिस ने अनंत के फरार होने की जानकारी देते हुए बताया कि हमने उनकी पत्नी से बातचीत,लेकिन उन्होंने कोई जानकारी नहीं दी, हम आगे की कार्रवाई करेंगे। इससे पहले इसी मामले में घर के केयरटेकर सुनील राम को शनिवार के दिन पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। उसे पुलिस ने पिछले रविवार को ही हिरासत में ले लिया था। पूछताछ के बाद उसे गिरफ्तार किया गया।
  •  विधायक अनंत सिंह और केयरटेकर सुनील राम सहित अन्य अज्ञात लोगों पर बाढ़ थाने में आइपीसी की धारा 414, आ‌र्म्स एक्ट, यूएपीए की धारा 13 (अनलॉफुल एक्टिविटीज प्रिवेंशन एक्ट) के अलावा 3 विस्फोटक अनिधियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। बाढ़ की एएसपी लिपि सिंह को केस की जांच सौंपी गई है विधायक अनंत सिंह के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम (UAPA Act)  के तहत केस भी दर्ज हुआ है। हाल में केंद्र सरकार ने इस अधिनियम में संशोधन किया है। नए कानून के मुताबिक आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त होने की आशंका के आधार पर संगठन के अलावा किसी व्यक्ति को भी आतंकी घोषित किया जा सकता है। इसकी जांच इंस्पेक्टर स्तर का अधिकारी भी कर सकता है। अनंत सिंह के घर से मिले ग्रेनेड को निष्क्रिय करने के लिए शनिवार को पुलिस ने कोर्ट में आवेदन दिया था। अदालत से अनुमति मिलने के बाद एटीएस की टीम ने इसे निष्क्रिय कर दिया।
  • अनंत सिंह के घर से बरामद हथियार और विस्फोटक पदार्थो की जांच के लिए शनिवार को सेना के अधिकारी लदमा गांव पहुंचे। शनिवार की रात तक पुलिस के जवान विधायक के घर पर डटे हुए थे। ग्रेनेड मिलने का बिहार में यह पहला मामला है। गौरतलब है कि शुक्रवार को बाहुबली विधायक अनंत सिंह के नदावां स्थित घर पर पुलिस ने छापेमारी की। इस दौरान AK-47 के साथ ही मैगजीन और गोलियां बरामद की गईं। इसके अलावा हैंड ग्रेनेड भी बरामद हुआ था। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस को सूचना मिली थी कि विधायक के घर से और दूसरे ठिकानों से हथियारों का मूवमेंट किया जाना है। कुछ दिनों पहले भी हथियारों का मूवमेंट किया गया था। प्रतिबंधित हथियारों के मूवमेंट की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने कार्रवाई की थी।

SHARE THIS
Continue Reading

#Chhattisgarh खबरे !!!!

देश-दुनिया23 mins ago

‘झांसेबाज’ पाक की नई चाल, आतंकवादियों के खिलाफ दर्ज की फर्जी एफआईआर

पाकिस्तान एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय समुदाय को गुमराह करने की कोशिश कर रहा है। वो भी ऐसे समय में जब...

छत्तीसगढ़1 hour ago

’परख’ कार्यक्रम के तहत् चार प्रधानपाठकों का चयन

                   ’परख’ कार्यक्रम के तहत् चार प्रधानपाठकों का चयन   Click Here...

अन्य खबरे1 hour ago

सरकार के फैसलों से लोगों के जीवन में आया परिवर्तन- मुख्यमंत्री श्री बघेल

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer सरकार के फैसलों से लोगों के जीवन में आया परिवर्तन- मुख्यमंत्री...

अन्य खबरे1 hour ago

लोहण्डीगुड़ा बनेगा नया राजस्व अनुभाग

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer लोहण्डीगुड़ा बनेगा नया राजस्व अनुभाग मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने की...

छत्तीसगढ़1 hour ago

किसानों का ऋण दो घंटे के भीतर माफ करने वाला पहला राज्य – श्री ताम्रध्वज साहू

        किसानों का ऋण दो घंटे के भीतर माफ करने वाला पहला राज्य – श्री ताम्रध्वज साहू...

Advertisement

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive7 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें सुबह की सुर्खियाँ 12/08/2019

  Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer     दिनांक 12/08/2019 का पंचांग एवं राशिफल श्रावण सोम...

Etoi Exclusive1 week ago

नेशनल कॉन्फ्रेंस ने अनुच्छेद 370 को खत्म करने के मोदी सरकार के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के केंद्र सरकार के फैसले...

Etoi Exclusive4 weeks ago

पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर(etoi news)20/07/2019 द‍िल्‍ली कांग्रेस की अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित...

Etoi Exclusive1 month ago

सिर्फ एक रुपये लेकर किसने जाधव को फांसी से बचाया ?

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर। जासूसी के केस में बंद कुलभूषण जाधव के मामले में...

Etoi Exclusive1 month ago

रोहित-राहुल के शतक की बदौलत भारत की श्रीलंका पर शानदार जीत

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer Post Views: 27 SHARE THIS Related

Advertisement
August 2019
M T W T F S S
« Jul    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293031  
Advertisement

निधन !!!

Advertisement

Trending