Connect with us

देश-दुनिया

कोरोना के संक्रमण के बीच गर्भवती महिलाओं को जान लेनी चाहिए जरुरी सात बातें ?

Published

on

कोरोना के संक्रमण के बीच गर्भवती महिलाओं को जान लेनी चाहिए जरुरी सात बातें ?

गर्भवती महिलाओं व मां का दूध पीने वाले बच्चों के लिए WHO की जरूरी सूचना,
 
वैश्विक महामारी का रूप ले चुका कोरोना वायरस या कोविड-19 (Covid-19) पूरी दुनिया के लिए अभी भी बड़ी चुनौती बना हुआ है। WHO के मुताबिक भारत समेत दुनिया के 195 देशों में कोरोना वायरस दस्तक दे चुका है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की तरफ से कोरोना वायरस से निपटने के लिए लगातार जरूरी दिशा-निर्देश जारी किये जा रहे हैं। डब्ल्यूएचओ ने अब कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए गर्भवती महिलाओं या हाल में बच्चों को जन्म देने जा रही महिलाओं समेत नवजात बच्चों और मां का दूध पीने वाले बच्चों के लिए आवश्यक सूचना जारी की है। डब्ल्यूएचओ द्वारा सवाल-जवाब के प्रारूम में जारी किया गया आठ बिन्दुओं का ये सुझाव बहुत महत्वपूर्ण है।
 
1. क्यो कोरोना वायरस से गर्भवती महिलाओं को ज्यादा खतरा है?
 
WHO: कोविड-19 (कोरोना वायरस) को लेकर दुनिया के तमाम देशों में फिलहाल कई तरह की रिसर्च चल रही हैं। इस वायरस से गर्भवती महिलाओं को होने वाले खतरे को लेकर भी बहुत से शोध चल रहे हैं। फिलहाल डाटा बहुत सीमित है, लेकिन अभी ऐसा कोई साक्ष्य उपलब्ध नहीं है जिसके आधार पर ये कहा जा सके कि कोरोना वायरस से गर्भवती महिलाओं को ज्यादा खतरा है। उन्हें भी इस वायरस से उतना ही खतरा है, जितना की किसी आम इंसान को है।हालांकि गर्भवास्था के दौरान महिलाओं के शरीर और प्रतिरोधक सिस्टम में काफी परिवर्तन होता है, ऐसे में उनमें फेफड़े के इंफेक्शन (Respiratory Infections) का खतरा काफी ज्यादा रहता है। इसे देखते हुए गर्भवती महिलाओं को ये सलाह दी जाती है कि वह कोरोना वायरस से बचाव के लिए ज्यादा सावधानी बरतें। अगर उन्हें कोरोना वायरस संक्रमण का कोई भी लक्षण जैसे कि बुखार, सर्दी-जुकाम या सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या नजर आए तो उन्हें इसे गंभीरता से लेना चाहिये और तत्काल डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिये।
 
2. गर्भवती महिलाएं खुद को कोविड-19 वायरस से कैसे सुरक्षित रखें?
 
WHO: गर्भवती महिलाओं को भी वही सावधानियां बरतनी हैं, जो कि किसी अन्य व्यक्ति के लिए जरूरी हैं। कोविड-19 के संक्रमण से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को निम्न उपाय अपनाने चाहिए :
 
A. एल्कोहल युक्त साबुन और पानी से निरंतर कम से कम 20 सेकेंड तक अपने हाथ धोती रहें।
 
B. दूसरों से दो मीटर से ज्यादा की दूरी बनाकर रखें। भीड़भाड़ वाले इलाकों में जाने से बचें।
 
C. अपनी आंख, नाक व मुंह को छुने से बचें। बिना हाथ धुले तो बिल्कुल भी न छुएं।
 
D. श्वसन प्रणाली को स्वस्थ रखें। इसका मतलब है कि साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। जब भी खांसी या छींक आए तो मुंह और नाक को कोहनी मोड़कर कवर लें। इसकी जगह पर टीशू पेपर का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। एक बार इस्तेमाल करने के बाद टीशू पेपर को तुरंत सुरक्षित तरीके से डिस्पोज कर दें।
 
E. अगर आपको बुखार, सर्दी-जुकाम या सांस लेने में तकलीफ हो रही है तो तुरंत चिकित्सकीय मदद लें। अस्पताल जाने से पहले अस्पताल से फोन पर बात कर लें और उनके द्वारा बताई गई सावधानियों का पालन करें।
 
F. गर्भवती महिलाएं या जिन्होंने हाल में बच्चे को जन्म दिया है, अगर वो कोरोना वायरस से संक्रमित भी हैं तो वह अपना रूटीन ट्रीटमेंट जारी रखें।
 
3. क्या गर्भवती महिलाओं को कोविड-19 का टेस्ट कराना चाहिये ?
 
WHO: कोरोना वायरस का टेस्टिंग प्रोटोकॉल (Protocols) और अर्हता (Eligibility) इस बात पर निर्भर करती है कि आप कहां रहती हैं। WHO का सुझाव है कि अगर गर्भवती महिलाओं में कोरोना वायरस का लक्षण दिखे तो उन्हें टेस्ट में प्राथमिकता दी जानी चाहिये। अगर गर्भवती महिलाओं में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि होती है तो उन्हें इसके लिए विशेषज्ञ ट्रीटमेंट की जरूरत पड़ेगी।
 
4. क्या कोरोना वायरस गर्भवती महिला से उसके अजन्में या हाल में जन्में बच्चे तक पहुंच सकता है?
 
WHO: फिलहाल कहीं से ऐसी कोई खबर नहीं है कि कोविड-19 से संक्रमित किसी गर्भवती महिला से उसके गर्भ में मौजूद भ्रूण या हाल में जन्में बच्चे तक ये वायरस पहुंचा है। फिलहाल ये वायरस किसी गर्भवती महिला के गर्भ में मौजूद तरल या दूध (breastmilk) में नहीं पाया गया है।
 
 
 
 
5. गर्भावस्था या बच्चे को जन्म देने के दौरान किस तरह की सुविधा उपलब्ध होनी चाहिये?
 
WHO: सभी गर्भवती महिलाएं चाहें वह कोविड-19 से संक्रमित हों या संदिग्ध, को डिलीवरी से ठीक पहले, डिलीवरी के दौरान और इसके तुरंत बाद उच्च गुणवत्ता की चिकित्सकीय सुविधा मिलनी चाहिये। इसमें प्रसव के पूर्व (Antenatal), प्रसव के दौरान (intrapartum), प्रसव के बाद (postnatal) और मानसिक स्वास्थ्य देखभाल शामिल है। ऐसे माहौल में सुरक्षित और सकारात्मक प्रसव अनुभव के लिए निम्नलिखित चीजों को शामिल करें :
 
A. सम्मानपूर्वक और बेहद सावधानी के साथ आपका ट्रीटमेंट हो।
 
B. प्रसव के दौरान आपकी इच्छा के अनुसार कोई एक करीबी आपके साथ मौजूद हो।
 
C. मैटेरनिटी स्टॉफ (Maternity Staff) के साथ स्पष्ट संवाद हो।
 
D. प्रसव के दौरान दर्द निवारण के लिए उचित पेन रिलीफ स्ट्रेटिजी (Pain Relief Strategies) अपनाई जाए।
 
अगर कोविड-19 की पुष्टि हो चुकी है या संदेह हो तो हेल्थ वर्कर्स को भी संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सभी आवश्यक उपाय अपनाने चाहिये। इसमें हाथों की सफाई और सभी तरह के प्रोटेक्टिव क्लोदिंग (protective clothing) जैसे ग्लब्स, गाउन और मेडिकल मास्क शामिल हैं।
 
6. कोविड-19 संदिग्ध या संक्रमित महिलाओं को ऑपरेशन के जरिये ही डिलीवरी करानी चाहिये?
 
WHO: बिल्कुल नहीं। ऑपरेशन से प्रसव तभी होना चाहिये जब चिकित्सकीय रूप से उसकी आवश्यकता हो। हर महिला के प्रसव की कंडीशन अलग-अलग होती है। प्रसव किस तरह से हो ये महिला की इच्छा, चिकित्सकीय स्थितियों और अलग-अलग प्रसव कंडीशन पर निर्भर करता है।
 
7. क्या कोविड-19 से संक्रमित मां, बच्चे को अपना दूध पिला सकती है?
 
WHO: हां, कोविड-19 से संक्रमित मां भी बच्चे को अपना दूध पिला सकती है, अगर वह चाहे तो। इसके लिए उन्हें कुछ सावधानी बरतनी होगी :
 
A. बच्चे को दूध पिलाने से पहले श्वसन संबंधी साफ-सफाई (Respiratory Hygiene) का अवश्य ध्यान रखें। मास्क जरूर पहनें।
 
B. बच्चे को छूने से पहले और बाद में साबुन व पानी से हाथ जरूर धोएं।
 
C. उन स्थान या सामान को नियमित साफ और संक्रमणरोधी करें, जहां आपने छुआ है।
 
8. कोरोना संक्रमित महिला बच्चे को सीधे अपना दूध नहीं पिलाना चाहे तो उसे क्या करना चाहिये?
 
WHO: संक्रमण की वजह से अगर मां की तबियत इतनी खराब है कि वह बच्चे को सीधे अपना दूध नहीं पिला सकती तो इसके कई विकल्प हैं। इसके लिए आप किसी भी संभव व सुरक्षित तरीके का इस्तेमाल कर सकती हैं, जो आपको स्वीकार्य हो। इसमें अपना दूध निकालकर बच्चे को पिलाना (Expressing Milk), स्वस्थ होने तक बच्चे को दूध पिलाना छोड़कर फिर से शुरू करना (Relactation) और किसी अन्य महिला का दूध पिलाना (Donor Human Milk) शामिल है।
Advertisement
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

देश-दुनिया

SBI की नई सर्विस, अब घर बैठे मिलेगी पैसे जमा करने-निकालने की सुविधा

Published

on

देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) ने कोरोना वायरस से अपने ग्राहकों को बचाने के लिए एक खास सुविधा शुरू की है. इस सुविधा के तहत ग्राहक अपने बैंकिंग कार्य घर बैठे ही निपटा सकते हैं. अगर ग्राहकों को नकदी की आपात जरूर होती है, तो बैंक ग्राहकों को घर पर भी नकदी डिलीवर करने को तैयार है. एसबीआई अपने ग्राहकों को घर पर बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध करा रहा है. इस समय यह सुविधा केवल सीनियर सिटीजंस और दिव्यांग लोगों के लिए है.

जानिए SBI डोरस्टेप बैंकिंग सर्विसेज की कुछ खास बातें:

1. इन सेवाओं में नकदी देने, नकदी लेने, चेक देने, ड्राफ्ट की डिलिवरी, टर्म डिपॉजिट एडवाइज की डिलिवरी, लाइफ सर्टिफिकेट और केवाईसी डॉक्यूमेंट्स देने जैसी सुविधाएं शामिल हैं.

2. कार्यकारी दिनों में सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक 1800111103 नंबर पर कॉल कर सेवाओं के लिए रिक्वेस्ट की जा सकती है.

3. सर्विस रिक्वेस्ट के लिए रजिस्ट्रेशन होम ब्रांच पर होगा.

4. डोरस्टेप बैंकिंग सेवाएं केवल पूरी तरह केवाईसी हो चुके ग्राहकों के लिए ही उपलब्ध है.

5. गैर-वित्तीय लेनदेन के लिए 60 रुपये और जीएसटी प्रति विजिट शुल्क लगेगा. वित्तीय लेनदेन के लिए 100 रुपये और जीएसटी प्रति विजिट शुल्क लगेगा.

6. नकदी निकासी और नकदी जमा के लिए प्रति दिन प्रति लेनदेन 20,000 रुपये की सीमा निर्धारित है.

7. इन सेवाओं के लिए खाताधारक को होम ब्रांच से 5 किमी के दायरे में रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर के साथ मौजूद रहना होगा.

8. ज्वाइंट अकाउंट वाले ग्राहक इन सेवाओं का लाभ नहीं उठा सकेंगे.

9. गैर-व्यक्तिगत और नाबालिग खाते भी इस सुविधा के योग्य नहीं होंगे.

10. निकासी चेक या फिर पासबुक द्वारा ही की जा सकेगी.

दुनियाभर के लोग कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहे हैं. इसी मकसद से भारत सरकार ने भी 21 दिन का देशव्यापी लॉकडाउन लगाया हुआ है. इस लॉकडाउन में आवश्यक सामानों और सेवाओं को छोड़कर बाकि सभी सेवाओं को बंद कर दिया गया हैं. यूं तो बैंकों को लॉकडाउन के दौरान आवश्यक सेवाओं में शामिल किया गया है. इस दौरान बैंकों ने कुछ ब्रांचों को खोल तो रखा है लेकिन अपने ऑफिस के घंटो को घटा दिया है. इस समय बैंकों ने अपने ग्राहकों से अनुरोध किया है कि वो बैंक ब्रांच नहीं आने की कोशिश करें. जब तक कोई जरूरी काम नहीं हो तब तक बैंक न आयें. बैंक ग्राहकों अपने बैकिंग कार्यों को घर बैठे ही निपटाने की सलाह दे रहे हैं.

ये बैंक भी दे रहा हैं डोर स्टेप सर्विस

एसबीआई के अलावा एचडीएफसी, आईसीआईसीआई बैंक, एक्सिस बैंक और कोटक बैंक भी अपने ग्राहकों को डोर स्टेप बैंकिंग सर्विसेज मुहैया करा रहे हैं.

Continue Reading

देश-दुनिया

भारत में जल्द हो सकती है सस्ती इलेक्ट्रिक कार Ora R1 की एंट्री

Published

on

दुनिया की सबसे सस्ती इलेक्ट्रिक का पेश करने वाली कंपनी Great Wall Motor वैसे तो भारत में एंट्री कर चुकी है. लेकिन अब कंपनी अपनी Ora R1 को लॉन्च करने की तैयारी में है. हालांकि, अभी तक सिर्फ अटकलें चल रही है. आपको बता दें कि Ora R1 इलेक्ट्रिक कार की शुरुआती कीमत महज 8,600 अमेरिकी डॉलर है. अगर भारतीय रुपये में बात करें तो कीमत करीब 6.45 लाख रुपये बैठती है. कंपनी ने इस कार में 35KW की क्षमता का इलेक्ट्रिक मोटर लगाया है. एक बार चार्ज होने के बाद ये कार 351 किलोमीटर तक चल सकती है.

क्या है कार की खासियत Ora R1 को दुनिया की सबसे सस्ती इल्केट्रिक कार कहा जाता है. कंपनी ने इसे ऑल इलेक्ट्रिक ME प्लेफॉर्म पर तैयार किया है. इसमें 33kWh का लीथियम आयन बैटरी पैक और 33kW का इलेक्ट्रिक मोटर दिया गया है. कंपनी का दावा है कि R1 को फुल चार्जिंग के बाद 351 किलोमीटर तक चलाया जा सकता है.

Great Wall Motors ने एलान किया है कि वह भारतीय बाजार में अपने ब्रांड Haval को अगले साल 2021 में लॉन्च कर देगी. इसके बाद कंपनी इलेक्ट्रिक कार के अपने सब-ब्रांड GWM EV को उतारेगी.

इस बार के ऑटो एक्स्पो में ग्रेट वॉल मोटर्स (Great wall Motors) ने अपने इंटेलिजेंट और नेक्स्ट जनरेशन टेक्नोलॉजी से लैस वाहनों से लोगों का अपना ध्यान खीचा. कंपनी ने अगले कुछ साल में भारत में 7 हजार करोड़ रुपये का निवेश करने की योजना बनाई है. इससे 3 हजार से अधिक लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद है.

Continue Reading

देश-दुनिया

LIC की खास पॉलिसी: 150 रुपये खर्च कर पाएं 19 लाख

Published

on

LIC देश की सबसे भरोसेमंद बीमा कंपनी है. सरकार के द्वारा संचालित इस कंपनी की पॉलिसी में निवेश पर ग्राहकों को कई फायदे दिए जाते हैं. बढ़ती महंगाई के इस दौर में हम सभी के लिए यह जरूरी है कि अपनी मेहनत की गाढ़ी कमाई का कुछ हिस्सा कैसे भी करके हम बचत कर किसी पॉलिसी में निवेश में करें. हर कि‍सी का सपना होता है कि उनके बच्‍चों का भवि‍ष्‍य अच्‍छा हो. भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) की भी ऐसी ही एक स्कीम है, जो बच्‍चों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए तैयार की गई है. हम बात कर रहे हैं एलआईसी की ‘न्‍यू चि‍ल्‍ड्रन्‍स मनी बैक प्‍लान’ की. आइए जानते हैं इस पॉलिसी की खास बातें…

इस पॉलिसी की खास बातें

(1) इस बीमा को लेने की न्यूनतम आयु 0 वर्ष है
(2) बीमा लेने की अधिकतम आयु 12 वर्ष

(3) न्यूनतम बीमा राशि 1,00,00 रुपए
(4) अधिकतम बीमा राशि की कोई सीमा नहीं
(5) प्रीमियम वेवर बेनिफिट राइडर- ऑप्शन उपलब्ध

मनी बैक इंस्टॉलमेंट- पॉलिसीधारक को 18, 20 और 22 वर्ष की उम्र पूरी होने पर सम एश्योर्ड का 20 फीसदी रकम मिलेगा.

मैच्युरिटी बेनिफिट पॉलिसी मैच्योरिटी के समय (बीमाधारक की पॉलिसी अवधि के दौरान मृत्यु नहीं होने पर) पॉलिसीधारक को बीमा राशि का बचा हुआ 40 फीसदी बोनस के साथ मिलेगा.

डेथ बेनिफिट- पॉलिसी अवधि के दौरान पॉलिसीधारक की मृत्यु की स्थिति में बीमा राशि के अलावा निहित साधारण प्रत्यावर्ती बोनस और अंतिम अतिरिक्त बोनस दिया जाता है. डेथ बेनिफिट कुल प्रीमियम पेमेंट का 105 फीसदी से कम नहीं होगा

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

देश-दुनिया1 hour ago

कोरोना से जुड़ी हर जानकारी देने के लिए, दिल्ली सरकार ने जारी किया व्हाट्सएप्प नंबर

कोरोना बीमारी संबंधित जानकारी के अलावा सरकार की ओर से उठाएं गए राहत कार्यों की जानकारी अब आपको वाट्सऐप पर...

Etoi Exclusive12 hours ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 04/04/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

छत्तीसगढ़15 hours ago

निराशा के अन्धकार पर हमारे विश्वास का प्रकाश विजयी हो

भारतीय जनता पार्टी की छत्तीसगढ़ प्रदेश इकाई ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा रविवार 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9...

छत्तीसगढ़15 hours ago

सरकार ने एनएमडीसी की पांच खानोंके फॉरेस्ट क्लीयरेंस की अवधि को 15 साल के लिए बढ़ाया

छत्तीसगढ़ सरकार ने देश की नवरत्न कंपनी एनएमडीसी की बस्तर संभाग स्थित पांच लौह खानों की फॉरेस्ट क्लीयरेंस की अवधि को 15...

छत्तीसगढ़15 hours ago

कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए मोहन मरकाम ने नगर निगम को सौंपा 1 ट्रक सब्जी

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने आज कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए रायपुर नगरनिगम को एक मिनी ट्रक सब्जी...

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive2 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 03/04/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Etoi Exclusive2 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 02/04/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Etoi Exclusive3 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 01/04/2020

  सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़...

Etoi Exclusive5 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 31/03/2020

  सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़...

Etoi Exclusive6 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 30/03/2020

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे...

Calendar

April 2020
M T W T F S S
« Mar    
 12345
6789101112
13141516171819
20212223242526
27282930  

निधन !!!

Advertisement

Trending