Connect with us

ज्योतिष - वास्तु

शनि जयंती पर इन नौ राशियों पर बरसेगी शनि की कृपा हो जाएंगे मालामाल

Published

on

  • शनि जयंती ज्येष्ठ अमावस्या पर 3 जून सोमवार को मनाई जाएगी। इस दिन पूरे दिन और रात में सर्वार्थसिद्धि योग भी रहेगा। साथ ही वटसावित्री व्रत, भावुका अमावस्या और सोमवती अमावस्या का संयोग भी है। इस दिन बुध, मंगल और राहु का त्रिग्रही योग भी बन रहा है।इस दिन बुध, मंगल और राहु का त्रिग्रही योग भी बन रहा है। साथ ही केतु के साथ शनि की उपस्थिति होने के कारण इसका व्यापक असर प्रत्येक जातक पर पड़ने वाला है।
  • धनु राशि पर विराज मान शनि क्रमशःकुम्भ मिथुन और कन्या पर तीसरी सातवीं और दशम दृष्टी डाल रहें हैं इसलिए इन राशियों के जातकों को शनि जयंती पर जरुर “जीव सेवा और शनि मंत्र का जाप दान” आदि करना चाहिए
  • मंगल-बुध-राहु का त्रिग्रही योग ग्रह गोचर की गणना के अनुसार अमावस्या पर इस बार बुध, मंगल और राहु मिथुन राशि में त्रिग्रही युति बना रहे हैं। अमावस्या के दिन सात्विक ग्रह बुध के साथ मंगल और राहु की उपस्थिति होने के कारण लोगों में आपसी मतभेद, दुष्ट प्रवृत्तियों के लोगों का प्रभाव बढ़ने जैसी घटनाएं होंगी। योग के प्रभाव से भीषण गर्मी, बारिश, आंधी-तूफान की आशंका भी रहेगी। राजनेताओं के लिए यह समय कष्टप्रद रहेगा। प्रत्येक राशि वाले जातकों पर किसी न किसी प्रकार का कष्ट आ सकता है। इस दिन शनिदेव के साथ हनुमानजी की आराधना श्रेष्ठ फल प्रदान करेगी। जो लोग आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं उन्हें इस दिन हनुमान जी को बेसन के लड्डू या हलवे का भोग अवश्य लगाना चाहिए इससे आर्थिक सम्पन्नता आती है।शनि जयंती व सोमवती अमावस्या 3 को, सर्वार्थ सिद्धि योग में रखें व्रत और करें शनि पूजन पाएं जीवन में कल्याण
  • शनि जयंती हिंदू पंचांग के ज्येष्ठ मास की अमावस्या को मनाई जाती है। इस दिन शनिदेव की पूजा की जाती है। विशेषकर शनि की साढ़े साती, शनि की ढ़ैय्या आदि शनि दोष से पीड़ित जातकों के लिये इस दिन का महत्व बहुत अधिक माना जाता है। शनि काल पुरुष  की दसवीं व ग्यारहवी राशि मकर और कुंभ के अधिपति हैं। एक राशि में शनि लगभग 30 महीने यानि लगभग अढ़ाई वर्ष तक रहते हैं। शनि का महादशा का काल भी 19 साल का होता है। प्रचलित धारणाओं के अनुसार शनि को क्रूर एवं पाप ग्रहों में गिना जाता है और अशुभ फल देने वाला माना जाता है लेकिन असल में ऐसा है नहीं। क्योंकि शनि न्याय करने वाले देवता हैं और कर्म के अनुसार फल देने वाले कर्मफलदाता हैं इसलिये वे बुरे कर्म की बूरी सजा देते हैं अच्छे कर्म करने वालों को अच्छे परिणाम देते हैं।

शनि की अशुभ छाया के लक्षण :

1. पैरों से संबंधित कोई बीमारी हो सकती है।
2. कोई ऐसा व्यक्ति मिलता है जो आपसे आपकी क्षमता से अधिक काम करवाता है और आपको उस काम का श्रेय भी नहीं मिलता।
3. लगातार पैसों का नुकसान होता रहता है।
4. आपके घर के पालतू काले जानवर (जैसे- काला कुत्ता या भैंस) की मृत्यु हो सकती है।
5. बनते काम बिगड़ सकते हैं। बहुत मेहनत करने के बाद भी उसका थोड़ा ही फल मिलता है।
6. कोई झूठा आरोप लग सकता है, कोर्ट-कचहरी के चक्कर लगाने पड़ सकते हैं।
7. नौकरीपेशा लोगों को ऑफिस में परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
8. कोई महंगी चीज खो सकती है या चोरी हो सकती है।
9. घर की दीवारों पर पीपल के पौधे उगने शुरू हो जाते हैं।
10. बार-बार मकड़ियां घर के कोनों में अपना जाल बनने लगे तो समझिए भगवान शनि देव की आपके ऊपर काली छाया पड़ने वाली है।
11. चींटियों का आना भी शनि के अशुभ प्रभाव के बारे में हमें संकेत देता है
12. काली बिल्लियों का आपके घर के आस-पास रहना भी शनि के अशुभ छाया का संकेत होता है।

इन कारणों से पड़ता है शनि का अशुभ प्रभाव :

1- शनि की साढ़े साती या ढ़ैय्या  का असर होने पर शनि की छाया व्यक्ति पर पड़ने लगती है।
 
2- जब किसी जातक पर शनि की महादशा या अन्तर्दशा हो और कुंडली में शनि अशुभस्थ  हो ।
 
3-  कुंडली में शनि तीसरी सातवीं और दसवीं दृष्टी पूर्ण होती है,यानि कुंडली के जिन जिन भावों पर शनि की पूर्ण दृष्टी पड़ती है उन स्थानों पर हानि या कष्ट की सम्भावना होती है धनु राशि पर विराज मान शनि क्रमशःकुम्भ मिथुन और कन्या पर तीसरी सातवीं और दशम दृष्टी डाल रहें हैं इसलिए इन राशियों के जातकों को शनि जयंती पर जरुर “जीव सेवा और शनि मंत्र का जाप दान” आदि करना चाहिए

शनिदेव हैं दंडाधिकारी:

शनि जिन्हें कर्मफलदाता माना जाता है। दंडाधिकारी कहा जाता है, न्यायप्रिय माना जाता है। जो अपनी दृष्टि से राजा को भी रंक बना सकते हैं। हिंदू धर्म में शनि देवता भी हैं और नवग्रहों में प्रमुख ग्रह भी जिन्हें ज्योतिषशास्त्र में बहुत अधिक महत्व मिला है। शनिदेव को सूर्य का पुत्र माना जाता है। मान्यता है कि ज्येष्ठ माह की अमावस्या को ही सूर्यदेव एवं छाया (संवर्णा) की संतान के रूप में शनि का जन्म हुआ।शनिदेव की पूजा करने के लिये कुछ अलग नहीं करना होता। इनकी पूजा भी अन्य देवी-देवताओं की तरह ही होती है। शनि जयंती के दिन उपवास भी रखा जाता है। व्रती को प्रात:काल उठने के पश्चात नित्यकर्म से निबटने के पश्चात स्नानादि से स्वच्छ होना चाहिये। इसके पश्चात लकड़ी के एक पाट पर साफ-सुथरे काले रंग के कपड़े को बिछाना चाहिये। कपड़ा नया हो तो बहुत अच्छा अन्यथा साफ अवश्य होना चाहिये। फिर इस पर शनिदेव की प्रतिमा स्थापित करें। यदि प्रतिमा या तस्वीर न भी हो तो एक सुपारी के दोनों और शुद्ध घी व तेल का दीपक जलाये। इसके पश्चात धूप जलाएं। फिर इस स्वरूप को पंचगव्य, पंचामृत, इत्र आदि से स्नान करवायें। सिंदूर, कुमकुम, काजल, अबीर, गुलाल आदि के साथ-साथ नीले या काले फूल शनिदेव को अर्पित करें। इमरती व तेल से बने पदार्थ अर्पित करें। श्री फल के साथ-साथ अन्य फल भी अर्पित कर सकते हैं। पंचोपचार व पूजन की इस प्रक्रिया के बाद शनि मंत्र की एक माला का जाप करें। माला जाप के बाद शनि चालीसा का पाठ करें। फिर शनिदेव की आरती उतार कर पूजा संपन्न करें।

शनिदोष को दूर करने के कुछ विशेष उपाय :

– दशरथकृत शनि स्तोत्र का पाठ करें।
– अपने माता-पिता की सेवा करें। बुजुर्गों का अपमान नहीं करें।
– शनिवार को तिल के तेल का दीपक जलाएं।
– तिल के तेल से भगवान शनि का अभिषेक करें।
– काले उड़द, काले तिल या काले चने सामर्थ्य अनुसार दान करें।
– शनिवार का व्रत करके शनि व्रत कथा का पाठ करें।
 – शनिदेव के दस नाम प्रतिदिन लेने से होती है सभी मनोकामना पूरी होती है। इसे श्लोक के रूप में जप सकते हैं। यदि ऐसा नहीं कर सकें, तो हर नाम के साथ ओम और नम: का उच्चारण जरूर करें।

ये दस नाम सभी प्रकार से शनि के प्रकोप से रक्षा करते हैं :

ॐ कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:।
सौरि: शनैश्चरो मंद: पिप्पलादेन संस्तुत:।।
अर्थात: 1- कोणस्थ, 2- पिंगल, 3- बभ्रु, 4- कृष्ण, 5- रौद्रान्तक, 6- यम, 7, सौरि, 8- शनैश्चर, 9- मंद व 10- पिप्पलाद। इन 10 नामों से शनिदेव का स्मरण करने से सभी शनि दोष दूर हो जाते हैं।ये दस नाम सभी प्रकार से शनि के प्रकोप से रक्षा करते हैं

शनिदेव की पूजा करते समय इन बातों का जरूर रखें ध्यान :

1- शनिदेव की पूजा करते समय कभी भी उनकी प्रतिमा या तस्वीर को देखते समय उनकी आंखो में नहीं देखना चाहिए।
2- शनिदेव की पूजा करते समय मंदिर में हनुमानजी के दर्शन और पूजा भी करनी चाहिए।
3- शनि जयंती, शनि अमावस्या या शनिवार के दिन पूजा में ब्रह्मचर्य का पालन करना जरूर चाहिए।
4- शनि जयंती पर काले तिल और लोहे से बनी चीजों का दान करना चाहिए।
5- शनि देव की पूजा करने से पहले शरीर पर तेल मालिश कर स्नान करना चाहिए।
6- गाय और कुत्तों को भी तेल में बने खाने की चीजें खिलानी चाहिए।
7- शनि जयंती या अमावस्या के दिन सूर्यदेव की पूजा करें तो अच्छा है।यद्यपि कुछ आचार्य जन इससे सहमत नहीं होंगे पर सूर्य की पूजा से भी शनि प्रसन्न होते हैं,इस दिन सूर्य को अर्घ्य दें और पंजीरी का प्रसाद चढ़ाएं
8- शनि जयंती या शनि अमावस्या पर यात्रा को भी स्थगित कर देना चाहिए।
9- शनि जयंती या अमावस्या पर भूलकर भी बाल और नाखून नहीं काटना चाहिए। ऐसा करने से व्यक्ति की आर्थिक तरक्की में रुकावटें पैदा होने लगती है।
10- शनि अमावस्या पर किसी भी महिला  बच्चे या कमजोर व्यक्ति  का अपमान नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से शनि क्रोधित होते हैं।

ज्येष्ठ अमावस्या पर 3 जून सोमवार को शनि जयंती के विशेष अवसर:

ज्येष्ठ अमावस्या पर 3 जून सोमवार को शनि जयंती के विशेष अवसर पर आप सभी प्रकार के पाप श्राप और तापों का निदान कर सकते हैं  इस दिन पूरे दिन और रात में सर्वार्थसिद्धि योग भी रहेगा। साथ ही वटसावित्री व्रत, भावुका अमावस्या और सोमवती अमावस्या का संयोग भी है। इस दिन बुध, मंगल और राहु का त्रिग्रही योग भी बन रहा है।ये विशेष कर उन लोगों के लिए यह विशेष होगा जो शनि की साढ़ेसाती, शनि के ढैया या जन्मकुंडली में शनि की महादशा, अंतर्दशा या शनि की खराब स्थिति चल रही हो ,वे लोग इस खास योग में आ रही शनि जयंती पर शनि की पीड़ा शांत करने का मौका  ना चूकें ,शनि जयंती पर सर्वार्थसिद्धि योग,अमावस्या,सोमवार के दिन,रोहिणी नक्षत्र तथा वृषभ राशि के चंद्रमा की उपस्थिति में आ रही है। इस दिन सूर्यादय के समय से सर्वार्थसिद्धि योग भी प्रारंभ हो जाएगा। जिसका प्रभाव संपूर्ण दिन और रात में भी रहेगा। इस दिव्य योग में शनिदेव की आराधना जातक को विशेष फल प्रदान करेगी।

शारीरिक कष्टों से मुक्ति के लिए शनि वज्रपिंजर कवच का पाठ करें:

जो लोग शनि के कारण शारीरिक कष्टों से परेशान हों  वे शनि वज्रपिंजर कवच का पाठ करें,
श्रीब्रह्मोवाच – Shribrahmovach
श्रृणुध्वमृषय:सर्वे शनि पीडाहरं महत्।
कवचं शनिराजस्य सौरेरिदमनुत्तमम्।
कवचं देवतावासं वज्रपंजर संज्ञकम्।
शनैश्चर प्रीतिकरं सर्वसौभाग्य दायकम्।
विनियोग : ऊँ अस्य श्रीशनैश्चर वज्रपंजर कवचस्य कश्यप ऋषि:, अनुष्टुप् छन्द:, श्रीशनैश्चर: देवता, श्रीशनैश्चर प्रीत्यर्थे पाठे विनियोग:।
ऋष्यादिन्यास : शिरसि कश्यप ऋषये नम: । मुखे अनुष्टुप् छन्दसे नम: । हृदि श्रीशनैश्चर: देवतायै नम: । सर्वांगे श्रीशनैश्चर प्रीत्यर्थे पाठे विनियोगाय नम: ।
ध्यानम्
नीलाम्बरो नीलवपु: कीरीटी गृघ्रस्थित: त्रासक: धनुष्करो ।
चतुर्भुज: सूर्यसुत: प्रसन्न: सदा ममस्यात् वरद: प्रशान्त: ।।
श्रीब्रह्मोवाच –
श्रृणुध्वम्ऋषय सर्वे शनिपीड़ाहरं महत्
कवचं शनिराजस्य सौरेरिद मनुत्तमम
कवचं देवतावासं वज्रपंजर अंशकम्
शनैश्चर प्रीतिकरं सर्वसौभाग्यदायकम्
शिर: शनैश्चर: पातु भालं मे सूर्य नन्दन: ।
नेत्रे छायात्मज: पातु पातु कर्णौ यमानुज:।।3।।
नासां वैवस्वत: पातु मुखं मे भास्कर: सदा ।
स्निग्ध कण्ठश्च मे कण्ठं भुजौ पातु महाभुज: ।।4।।
स्कन्धौ पातु शनिश्चैव करौ पातु शुभप्रद: ।
वक्ष: पातु यमभ्राता कुक्षिं पात्वसितस्तथा ।।5।।
नाभिं ग्रह पति: पातु मन्द: पातु कटिं तथा ।
ऊरू ममान्तक: पातु यमो जानु युगं तथा ।।6।।
पादौ मन्द गति: पातु सर्वांग पातु पिप्पल: ।
अंगोपांगानि सर्वाणि रक्षेत् मे सूर्यनन्दन: ।।7।।
फलश्रुति 
इत्येतत् कवचं दिव्यं पठेत् सूर्यसुतस्य य: ।
न तस्य जायते पीडा प्रीतो भवति सूर्यज: ।।1।।
व्यय जन्म द्वितीयस्थो मृत्युस्थान गतोSपि वा
कालस्थ गतो वाSपि सुप्रीतस्तु सदा शनि: ।।2।।
अष्टमस्थे सूर्यसुते व्यये जन्म द्वितीयगे ।
कवचं पठतो नित्यं न पीडा जायते क्वचित् ।।3।।
इत्येतत् कवचं दिव्यं सौरेर्यन्निर्मितं पुरा ।
द्वादशाष्टम जन्मस्थ दोषान्नाशयते सदा ।
जन्मलग्नस्थितान् दोषान् सर्वान् नाशयते प्रभु ।।4।।
फलश्रुति का अर्थ है– श्रीशनि वज्रपंजर कवच का नित्य नियमित रुप से पाठ करने पर शनि ग्रह द्वारा पीड़ा नहीं होती है. यदि जन्म कुंडली में शनि ग्रह मारकेश हो, द्वितीय या सप्तम या आठवें भाव से संबंधित होकर मृत्यु देने वाला भी हो तब भी श्रीशनि वज्रपंजर कवच का पाठ करने से शनि का मारक प्रभाव खतम हो जाता है.
इस तरह से श्रीशनि वज्रपंजर कवच का नित्य पाठ करने वाला साधक सभी प्रकार के कष्टों, पीड़ाओं, दुखो और बाधाओं से मुक्ति पाता है.
शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए शनि जयंती के दिन शनि के वैदिक तथा बीज मंत्र :
ॐ शन्नोदेवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये शन्योरभिस्त्रवन्तु न:।
ॐ प्रां प्रीं प्रौं स: शनैश्चराय नम:
मंत्र- ॐ ऐं ह्लीं श्रीशनैश्चराय नम:।
कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:।
सौरि: शनैश्चरो मंद: पिप्पलादेन संस्तुत:।।
ऊं खां खीं खूं सः मंदाय स्वाहाः के 21 माला जाप करें। शनि स्तवराज, महाकाल शनि मृत्युंजय स्तोत्र का पाठ तथा मंदिर में शनिदेव का तेलाभिषेक करने से भी शारीरिक कष्टों से मुक्ति प्राप्ति होती है। जिन जातकों को निरंतर शारीरिक पीड़ा रहती है, वे शनि जयंती पर शनिवज्रपिंजर कवच के 11 पाठ करें और उसके बाद हर दिन एक पाठ नियमित करते जाएं। इससे समस्त प्रकार के शारीरिक कष्टों से मुक्ति मिलती है।

शनि देव का ग्रहों पर प्रभाव और राशिवार शनि के उपाय :

शनि देव को सभी ग्रहों में सबसे ताकतवर और प्रमुख ग्रह का दर्जा प्राप्त हैं। ऐसी मान्यता है कि अपनी दशा में वह जातक को उसके कर्मों का ही दंड या पुरस्कार देते हैं। इन्हें न्याय का देवता कहा जाता है, इसलिए इनके कोप से सभी लोग घबराते हैं। शनि जयंती के दिन सभी 12 राशियों पर शनि का कैसा और क्या प्रभाव रहेगा ?और क्या करें उपाय ? 

मेष राशि

यह समय इच्छाओं को दबाकर रखने का है, अपनी भावनाओं पर नियंट्रण रखें अन्यथा निजी स्तर पर नुकसान उठाना पड़ सकता है। अगर कहीं धन का निवेश करने का प्लान है तो बहुत अच्छी तरह सोच-विचार करने के बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचें। आने वाला समय में लाभ प्राप्ति की उम्मीद कर सकते हैं। शनि जयंती के दिन किसी गरीब या जरूरतमंद व्यक्ति को नमक या तेल का दान करें।

वृषभ राशि

वृषभ राशि पर शनि की ढैय्या चल रही है, इस समय शनि वक्री है इसलिए आपके ऊपर परेशानियों का प्रभाव थोड़ा कम रहेगा। वृषभ राशि के जातकों को समस्य आवश्यक वस्तुओं का लाभ होने के योग बने हुए हैं। किसी गरीब व्यक्ति को गुड़ चने का दान करें।

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातकों को शनि की वजह से कोई बुरा प्रभाव नहीं झेलना पड़ेगा। यह समय आपके लिए पूरी तरह सामान्य है आपको किसी गरीब व्यक्ति को वस्त्र या अन्य जरूरी चीजों का दान करना चाहिए।

कर्क राशि

कर्क राशि के जातकों के आर्थिक जीवन में सुधार आएगा, साथ ही अगर कोई पुराना विवाद चल रहा है तो उसमें भी आपको विजय मिलेगी। शनि की सामान्य दृष्टि होने की वजह से आपके व्यापार में भी वृद्धि की संभावना है। कुत्ते को रोटी और गाय को हरा चारा खिलाना आपके लिए अच्छा रहेगा।

सिंह राशि

शनि के वक्री होने से आपके कार्यों में देरी हो और व्यापार वर्ग के लोगों की आय में थोड़ी गिरावट आ सकती है। कोई जरूरी काम इस दौरान शुरू ना लें, सरकारी कार्य लटक सकता है। परिवार के साथ सौहार्द और सामंजस्य  बैठाकर चलने का प्रयत्न करें। आपको किसी गरीब और बुजुर्ग व्यक्ति की सहायता करनी चाहिए।

कन्या राशि

कन्या राशि के जातकों के ऊपर शनि की ढैय्या चल रही है, अभी शनि वक्री है इसलिए लाभ मिलने का उत्तम योग है। नया कार्य शुरू हो सकता है और मौजूदा काम समय पर पूर्ण होंगे। किसी को पैसे उधार ना ही दें तो बेहतर है। इस समय कोई जोखिम ना लेना आपके लिए हितकर है। गरीब व्यक्ति को चावल का दान अवश्य करें।

तुला राशि

आपको शांति बनाए रखनी चाहिए, शनि के वक्री रहते आपको सावधान रहने की सलाह दी जाती है। विवादों से पूरी तरह दूर रहें, व्यापारी वर्ग को संभलकर रहना चाहिए। किसी गरीब व्यक्ति को खाने-पीने की वस्तु का दान करें।

वृश्चिक राशि

इस राशि के जातकों के लिए शनि की स्थिति थोड़ी कमजोर है। ऐसा कोई काम ना करें जिससे आपकी परेशानी बढ़ जाए, सावधानी की पूर्ण आवश्यकता है। निर्धन को अन्न और पक्षियों के लिए जल की आवश्यकता करें।

धनु राशि

धनु राशि के जातकों के लिए गोचर और साढ़ेसाती चलती रहेगी, आपको धन-लाभ की भी पूर्ण संभावना है। इस दौरान आपकी आय अच्छी रहने वाली है और व्यवसाय में लाभ की स्थिति भी निर्मित होगी। बुजुर्गों को अन्न या फल का दान करें।

मकर राशि

शनि आपकी राशि के स्वामी है, साढ़ेसाती के चलते आपके लिए शनि के अनुकूलता बनी रहेगी। समझदारी और थोड़ी मुश्किल से आपके सभी कार्य समय पर पूर्ण होंगे। फिर भी संभलने की आवश्यकता है, विवादों में पड़ने के लिए सही समय नहीं है। पक्षियों के लिए जल, अन्न और हरी घास का प्रबंध करें।

कुम्भ राशि

शनि आपकी राशि के स्वामी है,शनि इन दिनों  गोचर में एकादश भाव में हैं इसके चलते आपके लिए शनि के अनुकूलता बनी रहेगी। समझदारी और थोड़ी मुश्किल से आपके सभी कार्य समय पर पूर्ण होंगे। वाणी पर संयम रखें क्रोधन करें और अहंकार ना रखें,विवादों से बचें,गाय को चारा खिलाएं,बीमार को दवा का दान करें,अपने सह कर्मियों को सहयोग करें

मीन राशि

आपके कार्य क्षेत्र का विस्तार होगा, शनि के अनुकूल प्रभाव की वजह से आपकी आय में लगातार वृद्धि होगी और कारोबार में भी वृद्धि होगी। गरीब व्यक्ति को फल और दवाई का दान करें। समय पर सभी काम पूरे हो जाएंगे, चिंता ना करें। अविवाहितों को विवाह का प्रस्ताव भी मिल सकता है।

SHARE THIS

अन्य खबरे

सुबह की सुर्खियाँ,Morning News Headlines 24 /06/2019

Published

on

सुधि पाठकों की ,,,,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये उसे छोड़ आगे बढ़ जाएँ,देश विदेश और अपने प्रदेश की,सभी ख़ास खबरों का ख़ास संकलन,रोज सुबह सुबह पढ़े सिर्फ हमारे पोर्टल में ,,,,,,,,,

  1. “शोपियां में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने चार आतंकियों को मार गिराया” is locked शोपियां में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने चार आतंकियों को मार गिराया
  2. चमकी के खिलाफ नीतीश सरकार का पहला एक्शन
  3. महरौली मर्डर की वारदात में अब नया खुलासा- नींद की गोलियां देकर सुलाया फिर आरी से काट दीं गर्दन
  4. डेढ़ हजार किलोमीटर की यात्रा कर शादी समारोह में योग कराने पहुचे बाबा रामदेव
  5. भारत ने अफगानिस्तान को हराकर वर्ल्ड कप में अपनी जीत का अर्धशतक पूरा किया
  6. मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल 23 जून को करेंगे 68 करोड़ रूपए लागत के रेल्वे ओव्हरब्रिज का लोकार्पण
  7. नए सिरे से रणनीति बनाने और बसपा में बड़े बदलाव के लिए पार्टी की बड़ी बैठक मायावती के घर
  8. मुख्यमंत्री ने वरिष्ठ पत्रकार श्री वासुदेवन के आकस्मिक निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया
  9. मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली में अगले चार दिन तक बारिश की संभावना…
  10. 10 रुपये का नोट दिखाकर बच्ची को बहला फुसला कर एकांत स्थान पर ले चार वर्षीय बच्ची के साथ रेप की झकझोर देने वाली खबर
  11. मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज 23 जून को कुरूद दौरे पर
  12. नच बलिए-9 में पति के साथ ठुमके लगाती नजर आएगी रेस्लर गीता फोगाट
  13. बुजुर्ग दंपति और एक नौकरानी की गला रेतकर हत्या
  14. criticized BJP office-bearers for hate speech and the government for reportedly protecting cow vigilante groups.
  15. सौर सुजला का कमाल, ग्रामीण किसान हुआ मालामाल
  16. अब बेटियों की शादी में नहीं होगी पैसे की कमी : राज्य सरकार ने बढ़ा दी व्यय सीमा की राशि
  17. “साइबर हमले से राकेट और मिसाइल हमले में इस्तेमाल होने वाले कंप्यूटरों को भारी नुकसान” is locked साइबर हमले से राकेट और मिसाइल हमले में इस्तेमाल होने वाले कंप्यूटरों को भारी नुकसान
  18. वैज्ञानिक रिसर्च से हुई साबित- दिल के लिए फायदेमंद है ऑफिस से छुट्टियां लेकर कहीं घूमने जाना
  19. 23 जून 1980 को दिल्ली में अशोक होटल के पीछे टू सीटर विमान के दुघर्टनाग्रस्त होने से का उदयमान सितारा हुआ था अस्त
  20. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानि एम्स (AIIMS) खोजेगा अब ‘चमकी बुखार’ का इलाज
  21. राज्य के शिक्षित बेरोजगार युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने प्लेसमेंट कैम्प 24 को
  22. कोहली और जसप्रीत क्यों नहीं खेलेंगे वेस्टइंडीज के खिलाफ?
  23. “6 साल की बच्ची के रेपिस्ट को IPS ने मारी गोली” is locked 6 साल की बच्ची के रेपिस्ट को IPS ने मारी गोली
  24. ‘पंचम दा’ का नाम सुनते ही जेहन में उभरता है ऐसा सर्जक जो शक्ल-सूरत से बेहद सहज साधारण प्रतीत होता है पर जिसका राजघराने से ताल्लुक है
  25. एयर इंडिया के एक कप्तान को चोरी के आरोप में सस्पेंड किया
  26. डॉ. मुखर्जी जयंती से प्रारंभ होगा भाजपा का सदस्यता महापर्व
  27. “3 जुलाई से हर बुधवार छत्तीसगढ़ माटी के सपूत भूपेश बघेल करही सबसे भेंट मुलाकात” is locked 3 जुलाई से हर बुधवार छत्तीसगढ़ माटी के सपूत भूपेश बघेल करही सबसे भेंट मुलाकात
  28. राम कथा के दौरान टेंट गिरने से 16 की मौत लगभग 55 अन्य घायल।
  29. कर्जमाफी में वादाखिलाफी के बीजेपी के आरोप पर कांग्रेस का पलटवार
  30. बैंक से मिलने वाला लोन सस्ता मिलेगा या महंगा ये कैसे तय होता है?
  31. प्रदेश की आर्थिक स्थिति को लेकर रमन के बयानबाजी पर कांग्रेस का पलटवार
  32. स्टेशनों को वाई-फाई से लैस करने के बाद अब रेलवे की योजना ट्रेनों के भीतर भी वाई-फाई.
  33. बेरोजगार हुए किंग खान
  34. ब्रेन ट्यूमर के इलाज में बड़ी सफलता
  35. अब मिलना सम्भव होगा सेहत भरा टमाटर!
  36. चाउमीन और सॉस खाना ख़तरनाक!!!
  37. दिनांक 24/06/2019 का पंचांग एवं राशिफल
  38. जीवन में आ रहे संकटों के रुख मोड़ सकते हैं कपूर
  39. क्या ग्रीनलैंड अपने वर्तमान स्वरूप में ही रहेगा?
  40. घरों में दौड़ा करंट, लोग झुलसे, फुंके विद्युत उपरकण।
  41. ‘गार्डेन ऑन मूव्स’ ग्लोबल वार्मिग की समस्या से निपटने में असरदार होगा?
  42. सुबह की सुर्खियाँ,Morning News Headlines 24 /06/2019
  43. अमहारा प्रांत में तख्तापलट की कोशिश, इथोपिया में सेना प्रमुख और प्रांतीय अध्यक्ष की गोली मारकर हत्या।
  44. “मंगल पर गैसों का बुलबुला, मीथेन के प्रमाण – क्या है लाल ग्रह पर सूक्ष्मजीवों की उपस्थिति?” is locked मंगल पर गैसों का बुलबुला, मीथेन के प्रमाण – क्या है लाल ग्रह पर सूक्ष्मजीवों की उपस्थिति?
  45. पदोन्नति पर ब्रेक – छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट ने पदोन्नति में आरक्षण नीति बनाने का दिया था निर्देश
  46. बंशीलाल नेताम, बीजापुर जिला पुलिस बल पीटीआई पहुंचे कालानाग पर्वत, उत्तराखंड के शिखर पर
  47. पश्चिम बंगाल के वीरभूम में नानूर का माहौल गर्म

SHARE THIS
Continue Reading

ज्योतिष - वास्तु

जीवन में आ रहे संकटों के रुख मोड़ सकते हैं कपूर  

Published

on

हिन्दू धर्म में कपूर को एक बहुत पवित्र वस्तु माना गया हैं। हवन और पूजा मै इसका उपयोग किया जाता है। कपूर जलाने से घर की नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। ज्योतिष शास्त्र, वास्तु शास्त्र, सामुद्रिक शास्त्र, ऐसी ही कुछ विधाएं हैं जिनके प्रयोग से हम जीवन में आ रहे संकटों के रुख मोड़ सकते हैं। रोजाना संध्या के समय घर के हर कमरे में कपूर जलाने से रोग-शोक नष्ट होते हैं। घर में बुरी ऊर्जा का वास होने से दुख-क्लेश बढ़ता है, इसके छुटकारा पाने के लिए कपूर का प्रयोग करें। इसके लिए थोड़े से गंगा जल में कपूर मिलाकर मेन गेट पर छिड़क दें, ऐसा करने से किसी भी तरह की बुरी नजर और नकारात्मक प्रभाव घर में प्रवेश नहीं करता।

कपूर का प्रयोग –

  1. धन प्राप्ति के लिए रोज रात को कटोरी में तीन कपूर की डली एक लौंग के साथ जलाये।
  2. अगर कोई काम पूरा नहीं हो रहा है तो शनिवार के दिन पानी में कपूर का तेल मिलाकर नहाये, सारे बिगड़े काम बन जायेंगे।
  3. घर के अंदर सकारात्मक उर्जा और शांति के लिए कपूर घी मैं भिगो कर जलाये।
  4. बुधवार के दिन कर्पूर व मिश्री का दान करने से धन लाभ होता है।
  5. सूर्यास्त के समय कर्पूर का दीप जलाकर उसे पुरे घर में घुमाएं और अंत में घर के मंदिर में स्थापित कर दें। इससे देवी लक्ष्मी का घर मैं वास रहता है।
  6. घर के हर शयनकक्ष में कपूर जलाने से रोग-दोष नष्ट होते हैं।
  7. बुरी बला घर मैं ना प्रवेश कर सके इसके लिए गंगाजल मैं थोड़ा सा पिसा कपूर मिलाकर प्रवेश द्वार पर छिड़क दे।
  8. पितृ दोष से शांति के लिए थोड़ा देसी कपूर १ कांच की कटोरी मै बाथरूम मै रख दे।
  9. शास्त्रों के अनुसार देवी-देवताओं का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए प्रतिदिन सुबह और शाम घर में पूजा के समय कर्पूर (कपूर) जरूर जलाएं।
  10. कालसर्पदोष से मुक्ति हेतु-प्रतिदिन सुबह, शाम कर्पूर जलाएं…

SHARE THIS
Continue Reading

ज्योतिष - वास्तु

दिनांक 24/06/2019 का पंचांग एवं राशिफल

Published

on

  • रायपुर (etoi news) 23.06.2019
  • दिनांक 24.06.2019 का पंचाग
  •  शुभ संवत 2076 शक 1941
  •  सूर्य उत्तरायणयन का …आषाढ़ कृष्ण पक्ष…. सप्तमी तिथि… रात्रि 11 बजकर 13 मिनट तक .. सोमवार … पूर्वा भाद्रपद नक्षत्र..  रात्रि 01 बजकर 01 मिनट तक … आज चन्द्रमा … कुंभ राशि में… आज का राहुकाल दिन को 07 बजकर 05 मिनट से 08 बजकर 45 मिनट तक होगा …

आज के राशियों का हाल तथा ग्रहों की चाल-

मेष राशि –

परिवार से संबंधित चिंता…

छोटी-छोटी बातों पर झुझलाहट…

सूर्य के उपाय –

     ऊॅ धृणि सूर्याय नमः का पाठ करें, सूर्य नमस्कार करें..

     गुड़.. गेहू… दान करें..

 

वृषभ राशि –

मानसिक तथा आर्थिक सबल…

संतान के आलस्य पूर्ण व्यवहार से तनाव….

संतान के धन हानि से कष्ट…

चंद्रमा के उपाय –

     ऊॅ श्रां श्रीं श्रौं सः चंद्रमसे नमः का जाप करें…

     दूध, चावल, का दान करें…

         

मिथुन राशि –

कुछ दिनों से परेशान रोग से राहत…

पुरानी उधारी मांगने से विवाद….

दैनिक दिनचर्या में आकस्मिक चोट…

मंगल के दोषों को दूर करने के लिए –

     ऊॅ अं अंगारकाय नमः का जाप करें…

     मसूर की दाल, गुड दान करें..

    

कर्क राशि –

नये अवसर की प्राप्ति….

आय में वृद्धि….

सामाजिक यश….

उदर विकास …

शुक्र से संबंधित कष्टों से बचाव के लिए –

     ऊॅ शुं शुक्राय नमः का जाप करें…

     चावल, दूध, दही का दान करें…

 

सिंह राशि –

भौतिक वस्तु में निवेश…

पारिवारिक निकटता से मन प्रसन्न रहेगा….

व्यक्तिगत या वैधानिक विवादों में फंस सकते हैं….

शनि के उपाय –

     ‘‘ऊॅ शं शनैश्चराय नमः’’ की एक माला जाप कर दिन की शुरूआत करें..

     उड़द या तिल दान करें…

 

कन्या राशि –

कार्यक्षेत्र में अचानक परिवर्तन…

गुणवत्ता और कौशल में वृद्धि…

उत्साह तथा कौशलपूर्ण कार्यो से लाभ…

केतु के उपाय-

     ऊॅ कें केतवें नमः का जाप कर दिन की शुरूआत करें…

     सूक्ष्म जीवों की सेवा करें…

    

तुला राशि –

संतानपक्ष से शुभ समाचार की प्राप्ति…

आकस्मिक खर्च से तनाव…

जीवनसाथी के स्वास्थ्य से चिंता…

बृहस्पति कृत दोषों की निवृत्ति के लिए –

     ऊॅ गुरूवे नमः का जाप करें…

     पीली वस्तुओं का दान करें…

     गुरूजनों का आर्शीवाद लें..

 

वृश्चिक राशि –

दिन व्यर्थ के कार्यो में जायेगा…

आज के कार्यो में बाधा..

घरेलू विवाद संभव…

राहु के उपाय –

     ऊॅ रां राहवे नमः का एक माला जाप कर दिन की शुरूआत करें..

     सूक्ष्म जीवों को आहार दें..

 

धनु राशि –

धार्मिक छोटी यात्रा तथा पारिवारिक सुख…

यात्रा के दौरान वाहन से कष्ट…

स्वास्थ्य हानि तथा धन हानि…

बृहस्पति के उपाय –

     ऊॅ गुरूवे नमः का जाप करें…

     पीली वस्तुओं का दान करें…

 

मकर राशि –

धन तथा ऊॅर्जा परिवार के बीच खर्च हेागा…

लोगों का अच्छा सहयोग प्राप्त होगा…

उत्साह तथा तंदुरूस्त रहेंगे

मंगल के उपाय –

     ऊॅ अं अंगारकाय नमः का जाप करें…

     हनुमानजी की उपासना करें..

         

कुंभ राशि –

भागीदारी में लाभ…

संपत्ति से संबंधित विवादों की समाप्ति…

आलस्य तथा शारीरिक कष्ट…

चंद्रमा के लिए –

     ऊॅ नमः शिवाय का जाप करें…

     दूध, चावल, का दान करें…

 

मीन राशि –

शुभ समाचार की प्राप्ति….

नये प्रकार के कार्यो में अच्छी सफलता…

विरोधियों द्वारा प्रशंसा……

सूर्य के उपाय –

      सूर्य नमस्कार करें..

      गुड़.. गेहू… दान करें..

 

 

SHARE THIS
Continue Reading

ब्रेकिंग खबरे !!!!

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive2 weeks ago

सुर्ख़ियाँ

etoinews.com के बीते दो घंटे की सुखियाॅ क्या रहीं विशेष खबरे और क्या था उनको खबरो के पीछे और क्या...

Etoi Exclusive2 weeks ago

मोदी का स्पेस विजन चंद्रयान 2

सम्पादकीय ,,,,, भारत बनेगा अंतरिक्ष का सुपरपावर  ? क्या बनाएगा अपना स्पेस स्टेशन ?   Click Here To Read Astrological...

Etoi Exclusive2 weeks ago

मोदी हैं तो मुमकिन है:पाम्पियो :अमेरिकी विदेश मंत्री

सम्पादकीय ,,,,, मोदी हैं तो मुमकिन है                          ...

Etoi Exclusive4 weeks ago

देखें मोदी की नई सरकार में कौन कौन से चेहरे शामिल हैं ?

मोदी का नया मंत्रिमंडल,नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री पद की दूसरी बार शपथ ले ली है। उनके साथ ही कैबिनेट मंत्रियों...

Etoi Exclusive4 weeks ago

रामदेव के सहयोगी बालकृष्ण ने गांजा और भांग को भारत में वैध करने की मांग उठाई

रामदेव के सहयोगी बालकृष्ण ने गांजा और भांग को भारत में वैध करने की मांग उठाई “नारकोटिक ड्रग्स और साइकोट्रोपिक...

Calendar

June 2019
M T W T F S S
« May    
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
Advertisement

निधन !!!

निधन2 weeks ago

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर गिरीश कर्नाड का निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer बॉलीवुड के मशहूर एक्टर गिरीश कर्नाड का सोमवार को 81 साल...

Uncategoried3 months ago

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर आज होगा राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर का सोमवार को अंतिम संस्कार होगा। पैंक्रियाटिक कैंसर से पिछले एक...

निधन4 months ago

पैसों की तंगी झेल रहे बॉलीवुड के खलनायक की मौत, घर में मिली लाश

शक्ति कपूर बोले- काम न मिलने से डिप्रेशन में थे महेश आनंद, सेट पर भी पीते थे शराब Click Here...

निधन5 months ago

निधन – फत्तेचंद अग्रवाल सक्ती

सक्ति (कन्हैया गोयल) 31/01/2019 शक्ति शहर की प्रतिष्ठित फर्म काशीराम फत्तेचंद के संचालक सजन अग्रवाल, पवन अग्रवाल एवं नवलकिशोर अग्रवाल...

दिल्ली5 months ago

पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का 89 साल की उम्र में निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer नई दिल्ली 29 जनवरी 2019 भारत के पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज...

निधन5 months ago

श्रीमती कमला सिंह का निधन

जांजगीर-चाम्पा (हरीश राठौर) 28/01/2029 भैंसदा के प्रतिष्ठित ठाकुर परिवार के स्व. पलटन सिंह की धर्मपत्नी श्रीमती कमला सिंह का 28 जनवरी...

निधन5 months ago

जलसंसाधन विभाग के मुख्य अभियंता विजय श्रीवास्तव पंचतत्व में विलीन

27 जनवरी को आयोजित जेष्ठ पुत्रमयंक का वैवाहिक कार्यक्रम स्थगित बिलासपुर (अमित मिश्रा) 27/01/2019 हसदेव कछार जल संसाधन विभाग बिलासपुर...

निधन5 months ago

रायपुर : श्रीमती माणक बाई ललवाणी (जैन) का निधन

रायपुर,14/01/2019 रायपुर निवासी श्रीमती माणक बाई ललवाणी  (जैन) 95 वर्ष, घर्मपत्नी स्व.पन्नालाल ललवाणी का स्वर्गवास आज हो गया हैं जिनकी...

निधन5 months ago

रायपुर : श्रीमती बिदामी बाई बुरड़ का निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर,14/01/2019 आनन्द नगर विनायक इनक्लेव, रायपुर निवासी श्रीमती बिदामी बाई पत्नी...

निधन5 months ago

छोटेलाल कौशिक का निधन

जांजगीर-चाम्पा (हरीश राठौर) 09/01/2019 ग्राम डोंगाकोहरौद के मालगुजार छोटेलाल कौशिक का गत् 4 जनवरी को हो गया। अचानक वे 3...

Trending

Breaking News