Connect with us

अन्य खबरे

अहम पहचान बनाने वाली ‘स्मृति ईरानी’ ने बना दिया नामुमकिन को मुमकिन

Published

on

  • 2019 के लोकसभा चुनाव में पहली बार ऐतिहासिक रूप से भारतीय जनता पार्टी ने 300 सीटों के आंकड़े को पार कर दिया, लेकिन पार्टी की नेता चर्चा स्मृति ईरानी की जीत की हो रही है. क्योंकि कांग्रेस को सबसे बड़ा झटका स्मृति ईरानी ने ही दिया.टीवी के पर्दे से अपने करियर की शुरुआत कर सियासी गलियारों में अहम पहचान बनाने वाली स्मृति ईरानी ने नामुमकिन को मुमकिन बना दिया. जब उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को उनके ही गढ़ में शिकस्त दे दी. ये चमत्कार एक दिन में नहीं हुआ. इसके लिए स्मृति ईरानी ने लगातार मेहनत की.लोकसभा चुनाव के लिए देश के विभिन्न हिस्सों समेत अमेठी में प्रचार जोर-शोर से जारी था. सभी दलों के दिग्गज नेता अपने क्षेत्रों में लोगों से मिलने जुलने और जनसभा करने में व्यस्त थे. लेकिन इस दौरान केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का एक अलग चेहरा देखने को मिला.
  • स्मृति ईरानी अमेठी में प्रचार के लिए दौरे पर थीं. इसी दौरान वे वहां के गोवर्धनपुर गांव में खेत में लगी आग बुझाने के लिए वह पहुंच गईं. स्मृति ने हैंडपंप चलाकर पानी भरा और आग बुझाने में लोगों के साथ-साथ फायर ब्रिगेड की मदद की. फायर ब्रिगेड की गाड़ी देर से पहुंचने पर स्मृति ने अफसरों की क्लास भी ली.अमेठी में बीजेपी कार्यकर्ता और स्मृति ईरानी के खासे करीबी सुरेंद्र सिंह की रविवार को हत्या कर दी गई. अमेठी से सांसद बनीं स्मृति ईरानी को खबर मिली तो वे कुछ ही घंटों में दिल्ली में मृतक सुरेंद्र सिंह के शोक में डूबे परिवार से मिलने लखनऊ पहुंच गई और इतना ही नहीं, उन्होंने अंतिम यात्रा में सुरेंद्र सिंह के शव को कंधा भी दिया 2014 में अमेठी में मिली हार के बाद वे विचलित नहीं हुईं. बल्कि लगातार अमेठी के लोगों के दिल में जगह बनाने कोशिश करती रहीं और राहुल गांधी की सियासी जमीन ख‍िसका दी.
  • अमेठी में कांटे की टक्कर का अंदाजा तो सभी सियासी पंडित पहले से ही लगा चुके थे, लेकिन राहुल गांधी से स्मृति अमेठी छीन लेंगी, इसका किसी को अनुमान नहीं था. अमेठी से स्मृति ईरानी का जीतना 2019 का सबसे बड़ा उलटफेर माना जा रहा है.16 की उम्र में ही स्मृति की दिलचस्पी नाटक वगैरह में बढ़ने लगी.वह मुंबई में भी अपनी किस्मत आजमाने लगी थीं. जल्द ही वह मिस इंडिया कॉन्टेस्ट में सेलेक्ट कर ली गईं और टॉप 5 तक जगह बनाने में कामयाब रहीं. यहीं से मॉडलिंग की दुनिया में उनके संघर्ष के दिन शुरू हुए थे.स्मृति ईरानी के बेटे जोहर का जन्म साल 2001 में अक्टूबर महीने में हुआ था. उस समय समृति चर्चित टीवी सीरियल ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’ में काम करती थीं. एक इवेंट में स्मृति ने खुद एक्टिंग लाइफ की मुश्किलें शेयर करते हुए बताया था कि बेबी होने के 2 दिन बाद ही वो शूटिंग के लिए लौट गई थीं.

Disclaimer:
हमारे वेबसाइट www.etoinews.com पोर्टल की सामग्री केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और किसी भी जानकारी की सटीकता, पर्याप्तता या पूर्णता की गारंटी नहीं देता है साथ ही किसी भी त्रुटि या चूक के लिए या किसी भी टिप्पणी, प्रतिक्रिया और विज्ञापनों के लिए जिम्मेदार नहीं है। आपको केवल एक सुविधा के रूप में ये न्यूज या लिंक प्रदान कर रहा है और किसी भी समाचार अथवा लिंक को हमारा वेबसाइट समर्थन नहीं करता है।

SHARE THIS

अन्य खबरे

100 साल पुरानी इमारत गिरी, 12 की मौत

Published

on

“दक्षिण मुंबई के डोंगरी इलाके में करीब 100 साल पुरानी चार मंजिला इमारत ढह गई। इस हादसे में अब तक 12 लोगों के मारे जाने की सूचना है। 20 से अधिक लोग अब भी मलबे में दबे हैं। 

हादसा पूर्वान्ह करीब 11.40 बजे हुआ। जेजे हॉस्पिटल के नजदीक डोंगरी के नाम से जाने जाने वाले इलाके में स्थित केसरबाई बिल्डिंग का आधा हिस्सा भरभराकर गिर पड़ा। सूत्रों के अनुसार, हादसे के समय इमारत में करीब 15 परिवारों के 40 से अधिक लोग थे। दिन का समय होने के कारण ज्यादातर पुरुष काम पर निकल चुके थे। घटनास्थल से थोड़ी ही दूर डोंगरी पुलिस थाना भी है। हादसे के तुरंत बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से लोगों को मलबे से निकालने का काम शुरू कर दिया।

2017 में भी इसी इलाके की पाकमोडिया स्ट्रीट पर एक चार मंजिला इमारत ढह जाने से 33 लोग मारे गए थे। इस इलाके में ज्यादातर इमारतें 70 से 100 साल पुरानी हैं। माना जा रहा है कि पिछले 10 दिनों से मुंबई में हो रही भारी बरसात के कारण हुए जलभराव एवं तेज हवाओं ने केसरबाई इमारत को कमजोर कर दिया था। इस इलाके की एक दर्जन से ज्यादा इमारतों को म्हाडा द्वारा जर्जर बताकर खाली करने की नोटिस दी जा चुकी है। सैफी बुरहानी अपलिफ्टमेंट ट्रस्ट यहां से कुछ ही दूर स्थित भिंडी बाजार की अत्यंत घनी बस्ती की पुरानी इमारतों को हटाकर पूरे इलाके को नए सिरे से विकसित करने का काम शुरू कर चुका है। इसके बावजूद वर्षों से इसी क्षेत्र में रहते आ रहे ज्यादातर लोग इमारतें खाली करने को तैयार नहीं होते।

थोड़ी देर में दमकल विभाग एवं एनडीआरएफ ने भी पहुंचकर राहत और बचाव का मोर्चा संभाल लिया। लेकिन हादसे की जगह अत्यंत संकरी गलियों में होने के कारण जेसीबी जैसी भारी मशीनों का पहुंचना मुमकिन नहीं था। इससे बचावकार्य में दिक्कतें बढ़ गईं। स्थानीय लोगों ने मानव श्रृंखला बनाकर मलबा हटाने की शुरुआत की तो दबे लोगों को निकाला जा सका।

मलबे से निकाले गए घायलों को पास ही स्थित जेजे अस्पताल में भेजा गया। महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी (म्हाडा) के अध्यक्ष उदय सामंत के अनुसार हादसे में शाम तक 12 लोग मारे जा चुके थे। लेकिन पुलिस ने चार लोगों के ही मारे जाने की पुष्टि की है। दुर्घटना के कारणों को लेकर भी मुंबई महानगरपालिका एवं म्हाडा में आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। म्हाडा अध्यक्ष उदय सामंत ने स्वीकार किया कि म्हाडा ने में इस क्षेत्र की इमारतों की मरम्मत की जिम्मेदारी निजीक्षेत्र के एक ठेकेदार को दी थी। लेकिन 2012 से 2019 तक इस क्षेत्र में मरम्मत का कोई काम नहीं हुआ।

इस हादसे के जिम्मेदार लोगों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। घटनास्थल पर पहुंचे मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने भी घटना की जांच कर दोषियों पर कार्रवाई का आश्वासन दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुर्घटना पर दुख जताते हुए घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है। शाम तक दो बच्चों एवं सात महिलाओं को मलबे से बाहर निकाला जा चुका था।

मुंबई महानगरपालिका से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार 1996 से अब तक इस क्षेत्र में 17 इमारतें ढह चुकी हैं, जिनमें 267 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। सर्वाधिक 61 लोग इस क्षेत्र से कुछ ही दूर स्थित बाबू गेनू रोड की एक इमारत ढहने से मारे गए थे। यह हादसा सितंबर 2013 में हुआ था। बीएमसी ने कुछ वर्ष पहले मुंबई की 791 इमारतों को अत्यंत खतरनाक घोषित किया था। इनमें से 186 इमारतें ध्वस्त की जा चुकी हैं और 117 खाली करवाई जा चुकी हैं। शेष में अभी भी लोग रह रहे हैं।

क्रेडिट और डिस्क्लेमर :”यह समाचार http://www.jagran.com से साभार लिया , इस खबर की पुष्टि का दावा etoinews.com नही करता “

SHARE THIS
Continue Reading

अन्य खबरे

रेगुलर नियुक्ति के आदेश न आने पर आक्रोश

Published

on

दी क्लास फोर्थ गवर्नमेंट यूनियन पंजाब जंगलात सब समिति की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में जंगलात, जंगली जीव और जंगलात निगम के दर्जा चार, डेलीवेजिज, काट्रैक्ट और आउटसोर्स कर्मचारी की लंबित मांगों पर विचार- विमर्श किया गया। इस मौके पर प्रधान दर्शन सिंह लुबाना, जंगलात प्रधान जगमोहन नौलक्खा ने कहा कि मुलाजिमों ने अकाली भाजपा सरकार के समय दस साल संघर्ष करके कच्चे कर्मचारियों को रेगुलर करवाने के लिए, इंप्लाइज वेलफेयर एक्ट 2016 बनाया था, जिसके तहत जंगलात कर्मचारियों को रेगुलर करने के लिए डॉक्टरी मुआयना के बाद भी नियुक्तियों के आदेश आज तक जारी नहीं किए।

यूनियन मौजूदा सरकार के 28 महीनों से लगातार कच्चे कर्मचारियों को रेगुलर करने की मांग करती आ रही है और इस संबंध में जंगलात मंत्री के साथ 23 मई 2017 को मीटिग भी की थी। इस बारे में संबंधित अधिकारियों को हिदायत की थी कि वर्करों को पक्का करने की कार्रवाई एक महीने में मुकम्मल की जाए। परंतु विभाग की अफसरशाही ने दो साल का समय बीत जाने पर भी कोई कार्रवाई नहीं की। नेताओं ने कहा कि मुलाजिमों की मांगों पर बातचीत करने के लिए मंत्री की दिवाली अब तक नहीं आई।

विभाग की अफसरशाही ने विभाग के 3799 दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों की वरिष्ठता सूची 27 मई को जारी करके इसमें बहुत सी समस्याएं खड़ी कर दीं हैं। इन समस्याओं के बारे में संगठन ने वन मंत्री सहित विभाग की रिव्यू स्क्रीनिग समिति को एतराज 22 जून को भेज दिए थे। मगर इसका कोई भी नोटिस न लेने पर यह फैसला किया गया है कि दर्जा चार और वन विभाग सहित वन निगम और जंगली जीव का कर्मचारी 20 जुलाई को वन मंत्री की रिहायशी के आगे धरना देकर रैली करेगा। इस मौके पर तिरलोचन माड़ू, बलविदर सिंह, तिरलोचन मंडोली, पवन कुमार, करनैल सिंह, जसविदर सिंह, केसर सिंह, हरजिदर सिंह, कृष्ण सिंह आदि मौजूद रहे।

क्रेडिट और डिस्क्लेमर :”यह समाचार http://www.jagran.com से साभार लिया , इस खबर की पुष्टि का दावा etoinews.com नही करता “

SHARE THIS
Continue Reading

अन्य खबरे

जल संचय अभियान

Published

on

नोवामुंडी पद्मावती जैन सरस्वती शिशु विद्या मंदिर स्कूल में मंगलवार को दैनिक जागरण के जल संरक्षण अभियान को सफल बनाने के उद्देश्य को लेकर जागरण जल सेना का गठन किया गया। विद्यालय के प्रधान शिक्षिका सीमा पालित की अध्यक्षता में नव गठित जागरण जल सेना ने मिलकर बूंद-बूंद पानी संचय के लिए शपथ ली। प्रिया घोष ने बताया कि जल को बचाना हमारी जरुरत है। यदि समय रहते जल बचाने के प्रति ध्यान नहीं दिया गया तो आने वाले 10 सालों में बूंद-बूंद पानी के लिए तरसना पड़ जाएगा।

जल संचय के लिए जागरण जल सेना गठन कर लिया गया है। जल सेनाओं का दायित्व बनता है कि भविष्य तक के लिए पानी बचाने के लिए लोगों में जागरूकता लाने में काम करे।मीनू नायक ने बताया कि वर्षात के मौसम में अधिकतर जल बहकर निकल जाती है।यदि इसे रोकने के लिए शोकता बना कर रोका जाए तो जल बचाने के लिए एक बेहतर पहल हो सकती है।श्रेया यादब ने बताया कि जल संचय के कई ऐसे तरीके हैं जिससे एक-एक बूंद पानी को रोका जा सकता है।स्कूली छात्र घर से टिफिन के साथ पीने के लिए बोतल में पानी भरकर लाते हैं।छात्र जलपान के बाद बोतल के पानी को पीते हैं इससे बचे पानी को कहीं डाल देते हैं।यदि बोतल में बचे पानी को सभी बच्चे एक ड्रम में डालकर रखते हैं तो नियमित रूप में एक ड्रम पानी बच सकती है।इस पानी को स्कूल परिसर में पर्यावरण सुरक्षा के लिए लगाए गए पौधे पर डालते हैं तो निश्चित ही पौधे नियमित रूप सिचित होगी।साथ ही बेकार गिराए जाने वाले पानी संचय होगी।

फाल्गुनी सिंह ने बताया कि बर्षात के पानी को एक जगह जमा करने के लिए मेड़ बनाकर रोका जा सकता है।घर के छत की पानी बर्षात के मौसम में बहकर निचले हिस्से में चली जाती है।इसे भी रोककर जल संचय हो सकती है।पिया गोप ने बताया कि डीप बोरिग भी जल स्तर को कम करने का एक साधन है।डीप बोरिग वैसे स्थान पर लगाया जाए जहां जहां की आबादी काफी अधिक है।कम आबादी वाले क्षेत्र में डीप बोरिग नहीं कर सामान्य चापाकल से काम चला लेना चाहिए।अक्सर देखा जाता है कि एक से दो परिवार वाले लोग भी डीप बोरिग लगाकर पानी बर्बाद करने में दो कदम आगे चल रहे है।

क्रेडिट और डिस्क्लेमर :”यह समाचार http://www.jagran.com से साभार लिया , इस खबर की पुष्टि का दावा etoinews.com नही करता “

SHARE THIS
Continue Reading

ब्रेकिंग खबरे !!!!

Advertisement

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive1 week ago

रोहित-राहुल के शतक की बदौलत भारत की श्रीलंका पर शानदार जीत

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer Post Views: 56 SHARE THIS

Etoi Exclusive3 weeks ago

कौन होगा छत्तीसगढ़ का पीसीसी चीफ ?

आज पुरे प्रदेश के राजनैतिक पंडितों के दिमाग में बहुत से प्रश्न तैर रहें होंगे उनमें से ज्यादा तर प्रश्न...

Etoi Exclusive1 month ago

सुर्ख़ियाँ

etoinews.com के बीते दो घंटे की सुखियाॅ क्या रहीं विशेष खबरे और क्या था उनको खबरो के पीछे और क्या...

Etoi Exclusive1 month ago

मोदी का स्पेस विजन चंद्रयान 2

सम्पादकीय ,,,,, भारत बनेगा अंतरिक्ष का सुपरपावर  ? क्या बनाएगा अपना स्पेस स्टेशन ?   Click Here To Read Astrological...

Etoi Exclusive1 month ago

मोदी हैं तो मुमकिन है:पाम्पियो :अमेरिकी विदेश मंत्री

सम्पादकीय ,,,,, मोदी हैं तो मुमकिन है                          ...

Advertisement
Advertisement
July 2019
M T W T F S S
« Jun    
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031  
Advertisement

निधन !!!

निधन1 month ago

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर गिरीश कर्नाड का निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer बॉलीवुड के मशहूर एक्टर गिरीश कर्नाड का सोमवार को 81 साल...

Uncategoried4 months ago

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर आज होगा राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर का सोमवार को अंतिम संस्कार होगा। पैंक्रियाटिक कैंसर से पिछले एक...

निधन5 months ago

पैसों की तंगी झेल रहे बॉलीवुड के खलनायक की मौत, घर में मिली लाश

शक्ति कपूर बोले- काम न मिलने से डिप्रेशन में थे महेश आनंद, सेट पर भी पीते थे शराब Click Here...

निधन6 months ago

निधन – फत्तेचंद अग्रवाल सक्ती

सक्ति (कन्हैया गोयल) 31/01/2019 शक्ति शहर की प्रतिष्ठित फर्म काशीराम फत्तेचंद के संचालक सजन अग्रवाल, पवन अग्रवाल एवं नवलकिशोर अग्रवाल...

दिल्ली6 months ago

पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का 89 साल की उम्र में निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer नई दिल्ली 29 जनवरी 2019 भारत के पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज...

निधन6 months ago

श्रीमती कमला सिंह का निधन

जांजगीर-चाम्पा (हरीश राठौर) 28/01/2029 भैंसदा के प्रतिष्ठित ठाकुर परिवार के स्व. पलटन सिंह की धर्मपत्नी श्रीमती कमला सिंह का 28 जनवरी...

निधन6 months ago

जलसंसाधन विभाग के मुख्य अभियंता विजय श्रीवास्तव पंचतत्व में विलीन

27 जनवरी को आयोजित जेष्ठ पुत्रमयंक का वैवाहिक कार्यक्रम स्थगित बिलासपुर (अमित मिश्रा) 27/01/2019 हसदेव कछार जल संसाधन विभाग बिलासपुर...

निधन6 months ago

रायपुर : श्रीमती माणक बाई ललवाणी (जैन) का निधन

रायपुर,14/01/2019 रायपुर निवासी श्रीमती माणक बाई ललवाणी  (जैन) 95 वर्ष, घर्मपत्नी स्व.पन्नालाल ललवाणी का स्वर्गवास आज हो गया हैं जिनकी...

निधन6 months ago

रायपुर : श्रीमती बिदामी बाई बुरड़ का निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर,14/01/2019 आनन्द नगर विनायक इनक्लेव, रायपुर निवासी श्रीमती बिदामी बाई पत्नी...

निधन6 months ago

छोटेलाल कौशिक का निधन

जांजगीर-चाम्पा (हरीश राठौर) 09/01/2019 ग्राम डोंगाकोहरौद के मालगुजार छोटेलाल कौशिक का गत् 4 जनवरी को हो गया। अचानक वे 3...

Advertisement

Trending

Breaking News