Connect with us

अन्य खबरे

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की जगह सदन के नेता होंगे ‘थावर चंद गहलोत’

Published

on

  • भारतीय जनता पार्टी के नेता थावर चंद गहलोत राज्यसभा में पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की जगह सदन के नेता होंगे. थावर चंद गहलोत मोदी सरकार में सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. थावर चंद गहलोत बीजेपी के दलित चेहरों में एक हैं जिन्हें दूसरी बार मोदी कैबिनेट का हिस्सा बनाया गया है. मोदी सरकार के पहले कार्यकाल 2014 में भी थावर चंद गहलोत सामाजिक न्याय और सशक्तीकरण मामलों के मंत्री रह चुके हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट में वित्त मंत्रालय संभाल रहे अरुण जेटली ने शपथग्रहण से पहले ही खत लिखकर ऐलान किया था कि स्वास्थ्य कारणों से उनका पद पर बने रहना संभव नहीं है. उन्होंने पीएम मोदी से अपील की थी कि उन्हें मंत्रिमंडल का हिस्सा दोबारा न बनाया जाए. थावर चंद गहलोत का जन्म 18 मई 1948 को मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले के नागदा गांव में हुआ था. इन्होंने उज्जैन की ही विक्रम विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई की.
  • थावर चंद गहलोत 1996 से 2009 के दौरान शाजापुर लोकसभा सीट से सांसद रहे हैं. मंत्री के तौर पर थावर चंद गहलोत ने समाजिक तौर पर पिछड़े, समाज के वंचित तबके और दिव्यांग लोगों के लिए कई लाभदायक स्कीम को ड्राफ्ट कर चुके हैं. अरुण जेटली स्वास्थ्य की वजह से पिछले कुछ महीनों से राजनीतिक रूप से सक्रिय नहीं है. उनका इलाज चल रहा है. 2009 में थावर चंद गहलोत को कांग्रेस पार्टी के सज्जन सिंह वर्मा से हार मिली. सज्जन सिंह वर्मा फिलहाल मध्य प्रदेश की कमलनाथ कैबिनेट में मंत्री हैं. सन् 2012 में थावर चंद गहलोत राज्यसभा सदस्य चुने गए, 2018 में उन्हें दोबारा राज्यसभा सदस्य चुना गया. राज्यसभा सदस्य के तौर पर उनका कार्यकाल 2024 में खत्म होगा. थावर चंद गहलोत, पीएम मोदी के काफी करीबी लोगों में से एक हैं. वहीं थावर चंद गहलोत अनुसूचित जाति से आने वाले बड़े चेहरों में से एक हैं. गुजरात में उन्हें बीजेपी के केंद्रीय ऑब्जर्वर नियुक्त किया था.

Disclaimer:

हमारे वेबसाइट www.etoinews.com पोर्टल की सामग्री केवल सूचना के उद्देश्यों के लिए है और किसी भी जानकारी की सटीकता, पर्याप्तता या पूर्णता की गारंटी नहीं देता है साथ ही किसी भी त्रुटि या चूक के लिए या किसी भी टिप्पणी, प्रतिक्रिया और विज्ञापनों के लिए जिम्मेदार नहीं है। आपको केवल एक सुविधा के रूप में ये न्यूज या लिंक प्रदान कर रहा है और किसी भी समाचार अथवा लिंक को हमारा वेबसाइट समर्थन नहीं करता है।

SHARE THIS

अन्य खबरे

सरकार के फैसलों से लोगों के जीवन में आया परिवर्तन- मुख्यमंत्री श्री बघेल

Published

on

By

सरकार के फैसलों से लोगों के जीवन में आया परिवर्तन- मुख्यमंत्री श्री बघेल

कुपोषण सबसे बड़ी चुनौती: मुख्यमंत्री द्वारा कुपोषण
दूर करने ’हरिक नानी बेरा’ का शुभारंभ’

तोकापाल में आयोजित वन अधिकार, सुपोषण एवं ग्राम विकास
कार्यशाला में हुए शामिल हुए मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री ने दी 123. 88 करोड़ रूपए के विकास कार्यों की सौगात

रायपुर, 17 अगस्त 2019

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा है कि विगत सात महीनों के कार्यकाल में नई सरकार ने अनेक अहम फैसलें लिए हैं। ये फैसले लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने वाला है। किसानों की कर्जमाफी, ढाई हजार प्रति क्विंटल की दर से धान खरीदी, तेंदूपत्ता की खरीदी दर में बढ़ोतरी आदि फैसलों से  आम नागरिकों की क्रय शक्ति बढ़ी है। यही वजह है कि जब देश का आटोमोबाईल सेक्टर मंदी के दौर से गुजर रहा है, छत्तीसगढ़ में इस सेक्टर में 25 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ना केवल लोगों की क्रय शक्ति बढ़ी है बल्कि राज्य सरकार ने यहां के नागरिकों के मान-सम्मान और स्वाभिमान बढ़ाने का भी काम किया है। उन्होंने कहा कि आज बस्तर और सरगुजा विकास प्राधिकरण की कमान स्थानीय विधायकों के पास है। हरेली, विश्व आदिवासी दिवस, छठ पूजा, तीजा और कर्मा जयंती पर राज्य सरकार द्वारा सार्वजनिक अवकाश देने से लोगों को अहसास हो रहा है कि प्रदेश में पहली बार छत्तीसगढ़ियों की सरकार है। मुख्यमंत्री श्री बघेल आज बस्तर के तोकापाल में वन अधिकार, सुपोषण और ग्राम विकास कार्यशाला को सम्बोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम में 123 करोड़ 88 लाख रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया। इसमें 68 करोड़ रूपए के विकास कार्यों का लोकार्पण और 55 करोड़ 87 लाख रूपए के विकास कार्यों का शिलान्यास किया गया। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने मंच से 68 करोड़ 57 लाख रूपए के विभिन्न विकास कार्यों की घोषणा भी की। उन्होंने बस्तर में कुपोषण दूर करने के लिए हरिक नानी बेरा अर्थात खुशहाल बचपन अभियान का शुभारंभ किया। शुभारंभ अवसर पर बच्चों को मूंगफली और गुड़ के लड्डू खिलाए। इसके साथ ही जिला प्रशासन द्वारा आम नागरिकों की सुविधा के लिए शासकीय कार्यालयों में शुरू किए जा रहे ’ मोचो ऑफिस-नगत आफिस’ ब्रोशर का विमोचन किया।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे देश के साथ-साथ प्रदेश में भी कुपोषण एक बड़ी चुनौती है। पिछले अठारह साल में प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय बढ़ी है, लेकिन गरीब और गरीब होते गए। प्रदेश में 37 प्रतिशत लोग कुपोषण के शिकार हैं। हमनें इस चुनौती को स्वीकार करते हुए कल दंतेवाड़ा में सुपोषित दंतेवाड़ा अभियान और आज यहां बस्तर जिले में हरिक नानी बेरा यानि खुशहाल बचपन अभियान का शुभारंभ किया है। उन्होंने कहा कि हमारी सबसे बड़ी लड़ाई कुपोषण के खिलाफ है। माताएं कमजोर होंगी, तो बच्चे भी कमजोर होंगे। इसलिए सशक्त छत्तीसगढ़ के निर्माण के लिए महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में आगामी 02 अक्टूबर से पूरे प्रदेश में कुपोषण मुक्ति महाअभियान प्रारंभ करने का निर्णय लिया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिला खनिज न्यास निधि का पैसा अब खनिज क्षेत्र के लोगों के स्वास्थ्य और शिक्षा पर खर्च किया जाएगा। बस्तर और दंतेवाड़ा में हाट-बाजारों में लोगों का निःशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण कर उनका उपचार किया जा रहा है। उन्हांेने कहा कि एनएमडीसी को सबसे ज्यादा आय बस्तर से होती है, इसलिए एनएमडीसी में होने वाली भर्ती के लिए परीक्षा अब बस्तर मंे होगी। बस्तर मंे कनिष्ठ कर्मचारी चयन बोर्ड का भी गठन किया जा रहा है, इससे स्थानीय लोगों को रोजगार के बेहतर अवसर मिलेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार ने धान का समर्थन मूल्य केवल 65 रूपए बढ़ाया है, लेकिन हम अपने संसाधनों से 2500 रूपए प्रति क्विंटल में धान खरीदी जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि जंगल में रहने वाले लोगों को जंगल से हटाने की कोशिश की जा रही है। हम इसका पुरजोर विरोध करेंगे। मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में विभिन्न योजनाओं के अन्तर्गत हितग्राहियों को सामग्री का वितरण किया। उन्होंने वन महोत्सव कार्यक्रम के तहत तोकापाल स्कूल परिसर में वृक्षारोपण भी किया।

बस्तर जिले के प्रभारी और आदिम जाति तथा स्कूली शिक्षा मंत्री डॉ प्रेमसाय सिंह ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने लोहण्डीगुड़ा में किसानों की अधिग्रहित जमीन को वापस करने का ऐतिहासिक फैसला लिया है। राज्य सरकार आदिवासियों के साथ है। तेंदूपत्ता का दर 4000 रूपए मानक बोरा किया गया है। बैंक सखी के माध्यम से हितग्राहियों को उनके घर में पेंशन और  योजनाओं की राशि दी जा रही है। वाणिज्यिक कर (आबकारी) मंत्री श्री कवासी लखमा ने कहा कि आदिवासियों ने जंगल को बचाए रखा है, इसलिए आदिवासियों के जंगल से बेदखली के किसी भी कोशिश का पुरजोर विरोध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले सात महीनों में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने आम जनता के हित में ऐतिहासिक और साहसिक निर्णय लिए हैं। सांसद बस्तर श्री दीपक बैज ने कहा कि प्रदेश मंे नई सरकार के गठन के बाद आउट सोर्सिंग बंद हुआ है। राशन कार्ड का नवीनीकरण किया जा रहा है। अब पात्र सभी परिवारों को 35 किलो चावल मिलेगा। उन्होंने कहा कि पहली बार बस्तर की आवाज दिल्ली तक पहुंची है। बस्तर के हित की लड़ाई जारी रहेगी। विधायक श्री मोहन मरकाम ने भी कार्यक्रम को सम्बोधित किया।
इस अवसर पर विधायक बस्तर श्री रेखचंद जैन, विधायक नारायणपुर श्री चंदन कश्यप, बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री लखेश्वर बघेल, पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री अरविन्द्र नेताम, पूर्व विधायक श्रीमती फूलोदेवी नेताम, मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार श्री राजेश तिवारी सहित बड़ी संख्या में क्षेत्र के जनप्रतिनिधि और ग्रामीणजन उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री द्वारा 68.57 करोड़ रूपए के विकास कार्यों की घोषणा
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने तोकापाल में आयोजित कार्यक्रम में 68 करोड़ 57 लाख 49 हजार रूपए के विभिन्न विकास कार्यों की घोषणा की। उन्होंने 24 करोड़ की लागत से तोकापाल में एकलव्य आवासीय विद्यालय भवन का निर्माण, 18 करोड़ 17 लाख 27 हजार रूपए की लागत से विकासखण्ड तोकापाल के अन्तर्गत रायकोट  सालेपाल मार्ग में 23 किलोमीटर सड़क का चौड़ीकरण, 3 करोड़ 96 लाख 70 हजार रूपए की लागत से बड़ेबादेनार से कावड़गांव मार्ग का निर्माण, 21 करोड़ 63 लाख 52 हजार रूपए की लागत से डिलमिली से पखनार मार्ग का निर्माण तथा 80 लाख रूपए की लागत से कोपागुड़ा में फार्मर गेस्ट हॉउस के निर्माण की घोषणा की।
मुख्यमंत्री द्वारा 68 करोड़ रूपए के विकास कार्यों का लोकार्पण
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने तोकापाल में आयोजित कार्यक्रम में 68 करोड़ 01 लाख 9 हजार रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण किया। जिन विकास कार्यों का लोकार्पण किया गया उनमें-2 करोड़ 7 लाख 27 हजार रूपए के तोकापाल में नवीन आई.टी.आई भवन का निमार्ण कार्य, 1 करोड़ 5 लाख 48 हजार रूपए के तोकापाल में छात्रावास भवन का निर्माण कार्य, 62 लाख 83 हजार रूपए के नवीन हाईस्कूल भवन एर्राकोट 13 लाख 20 हजार रूपए के एन.आर.सी भवन निर्माण कार्य, 1 करोड़ 92 लाख 72 हजार रूपए के शासकीय पॉलीटेक्निक जगदलपुर में 50 सीटर कन्या छात्रावास एवं अधीक्षिका सह चौकीदार आसावगृह का निर्माण कार्य, 3 करोड़ 27 लाख 75 हजार रूपए के शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय जगदलपुर के रूरल हेल्थ ट्रेनिंग सेन्टर-छात्रावास का भवन निर्माण कार्य, 39 लाख 80 हजार रूपए के इंदिरा गांधी कृषि महाविद्यालय कुम्हरावण्ड जगदलपुर पहुंच मार्ग लम्बाई 800 मीटर निर्माण कार्य,3 करोड़ 29 लाख  39 हजार रूपए के नगरनार नदी बोडना से बसेली मार्ग के 1.9 किलोमीटर गुलझोड़ी नाला पर उच्चस्तरीय पुल निर्माण कार्य, 25 लाख 30 हजार रूपए के उप स्वास्थ्य केन्द्र भवन बुरूंगपाल (नहरमुण्डा) का निर्माण कार्य, 1 करोड़ 12 लाख 35 हजार रूपए, के 21 स्थानों पर सोलर हाई मास्ट संयेत्रों की स्थापना कार्य, 4 करोड़ 88 लाख रूपए के बास्तानार में 44 जीएडी क्वाटर्स निर्माण तथा 48 करोड़ 97 लाख रूपए के 200/132/33 के.व्ही. विद्युत उपकेन्द्र, महुपालबरई (परचनपाल) जगदलपुर निर्माण कार्य शामिल है।
मुख्यमंत्री श्री बघेल द्वारा 55 करोड़ 87 लाख रूपए
के कार्यों का भूमिपूजन

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने तोकापाल में आयोजित कार्यक्रम में 55 करोड़  87 लाख 56 हजार रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का शिलान्यास और भूमिपूजन किया। जिन विकास कार्यों का शिलान्यास और भूमिपूजन किया गया, उनमें 1 करोड़ 51 लाख 28 हजार रूपए के कोड़ेनार से कुमापारा घाटरोड तक 1.2 किलोमीटर क्रांकिट रोड़ का निमार्ण कार्य, 3 करोड़ 96 लाख रूपए के महारानी अस्पताल, जगदलपुर में ट्रांजिट हॉस्टल निर्माण कार्य,9 करोड़ 46 लाख 55 हजार रूपए के जगदलपुर कोंटा मार्ग 35 किलोमीटर, दरभा से चांदामेटा डामरीकृत सड़क लम्बाई 33 किलोमीटर निमार्ण कार्य, 2 करोड़ 25 लाख 38 हजार रूपए के जगदलपुर कोंटा रोड के बुदुपारा से भादुपारा तक लम्बाई 3 किलोमीटर डामरीकृत सड़क निमार्ण कार्य,87 लाख 70 हजार रूपए के जगदलपुर कोंटा रोड में पदरपारा रोड से लखमापारा तक 2.5 किलोमीटर डामरीकृत सड़क निमार्ण कार्य,1 करोड़ 31 लाख 34 हजार रूपए से जगदलपुर कोंटा रोड से बुदुपारा तक 6.40 किलोमीटर डामरीकृत सड़क निमार्ण कार्य,1 करोड़ 21 लाख 16 हजार रूपए से जिला बस्तर विकासखण्ड तोकापाल के सिरिसगुड़ास में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भवन का निर्माण कार्य,2 करोड़ 32 लाख 8 हजार रूपए सेे प्रदेश के विभिन्न जेलों में 50-50 बंदी क्षमता वाले 30 बैरकों का निर्माण कार्य। इसमें जगदलपुर में 6 बैरकों का निर्माण होगा। 4 करोड़ 30 हजार रूपए से महारानी अस्पताल जगदलपुर का नवीनीकरण कार्य लैब व मातृशिशु केन्द्र का निर्माण।2 करोड़ 86 लाख 40 हजार रूपए से जगदलपुर में चिकित्सकों के लिये ट्रांजिट क्वाटर्स का निर्माण कार्य, 2 करोड़ 65 लाख 98 हजार रूपए सेे किसानों की आय को 3 गुना करने के लिये इन्द्रावती नदी के किनारे ग्राम चितालूर के 200 किसानों के लगभग 300 एकड़ निजी भूमि एवं 200 एकड़ शासकीय पर 19298 वृक्षारोपण एवं फेसिंग कार्य, 70 लाख रूपए की लागत से नैननार, बिरगाली, वाहनपुर, ककनार, बीसपुर, नकटीसेमरा और ककालगुर में उचित मूल्य दुकान सह गोदाम निर्माण।18 लाख 90 हजार रूपए से डिमरापाल में बाजार शेड निर्माण।1 करोड़ 91 लाख 17 हजार रूपए से ग्राम तुरेनार में पोेल्ट्री एवं हैचरी सेन्टर निर्माण, विकासखण्ड जगदलपुर के कार्यालय भवन निर्माण, ट्रेनिंग सेन्टर, हैचिंग हाउस, बुडर हाउस एवं सीसी सड़क निर्माण तथा नाली निर्माण कार्य, 1 करोड़ 24 लाख 75 हजार रूपए से जिला पंचायत परिसर में ट्रांजिस्ट हॉस्टल का निर्माण, 2 करोड़ 49 लाख  50 हजार रूपए से आड़ावाल एजुकेशन हब में ट्रांजिस्ट हॉस्टल का निर्माण, 1 करोड़ 56 लाख रूपए सेे रूर्बन क्षेत्र के 13 ग्रामों में सोलर लाईट की स्थापना, 46 लाख 15 हजार रूपए से ग्राम ताईपदर जनपद पंचायत जगदलपुर में स्टामडेम निर्माण, 13 करोड़ 85 लाख 50 हजार रूपए से जगदलपुर जिले के सात विकासखण्डों के सात नालों के उपचार के लिए जलसंवर्धन और भू-संरक्षण के विभिन्न संरचनाओं का निर्माण, 37 लाख 78 हजार रूपए से दरभा विकासखण्ड के 6 ग्राम पंचायतों के 357 हितग्राहियों के 336 एकड़ बाड़ी में सिचाई सुविधा 34 लाख 37 हजार रूपए से दरभा विकासखण्ड के 6 ग्राम पंचायतों के 353 हितग्राहियों के 338 एकड़ बाड़ी में सिंचाई सुविधा शामिल है।
हरिक नानी बेरा का शुभारंभ
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने तोकापाल में जिला प्रशासन द्वारा कुपोषण को दूर करने के लिए शुरू की गई ’हरिक नानी बेरा’ अर्थात खुशहाल बचपन का शुभारंभ किया। इस कार्यक्रम के तहत जिले के 70 हजार बच्चों और नौ हजार माताओं को नियमित पोषण आहार के अलावा अतिरिक्त पोषण आहार के तहत सप्ताह में दो दिन अंडा और दो दिन गुड़ और मूंगफली के लड्डू दिए जाएंगे। योजना का संचालन महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने बच्चों को मूंगफली और गुड़ के लड्डू खिलाकर योजना का शुभारंभ किया।
200/132/33 के.व्ही. विद्युत उपकेन्द्र का लोकार्पण
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने तोकापाल में आयोजित कार्यक्रम में बस्तर के महुपालबरई (परचनपाल) में 48 करोड़ 97 लाख रूपए की लागत से निर्मित 200/132/33 के.व्ही. विद्युत उपकेन्द्र का भी लोकार्पण किया। इस उपकेन्द्र के लोकार्पण से बस्तर की बारसूर विद्युत उपकेन्द्र से निर्भरता समाप्त हो जाएगी। बस्तर और बकावण्ड विकासखण्ड को निर्बाध बिजली मिलेगी और वर्षों पुरानी लो-वोल्टेज की समस्या से लोगों को निजात मिलेगी।

SHARE THIS
Continue Reading

अन्य खबरे

लोहण्डीगुड़ा बनेगा नया राजस्व अनुभाग

Published

on

By

लोहण्डीगुड़ा बनेगा नया राजस्व अनुभाग

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने की घोषणा

आसना में होगी बस्तर लोक नृत्य और साहित्य अकादमी की स्थापना

मुख्यमंत्री शामिल हुए चित्रकोट में आयोजित वन अधिकार,ग्राम विकास एवं सुपोषण कार्यशाला में

    रायपुर, 17 अगस्त 2019

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज बस्तर जिले के चित्रकोट में “बनावां नंगत बस्तर” वन अधिकार, ग्राम विकास एवं सुपोषण कार्यशाला में शामिल हुए। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने लोहंडीगुड़ा में अनुविभागीय कार्यालय (राजस्व) खोलने की घोषणा की। साथ ही लोहंडीगुड़ा में महाविद्यालय खोलने के लिए आगामी बजट में प्रावधान करने की भी घोषणा की। उन्होंने ककनार और बिन्ता घाटी में निर्माणधीन सड़क को जल्द पूर्ण करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

मुख्यमंत्री ने इसके साथ ही 32 करोड़ 11 लाख 43 हजार रूपए के विभिन्न विकास कार्यों की घोषणा की। इनमें 19 करोड़ 6 लाख रूपए की लागत से बड़ांजी से आंजर तक सड़क निर्माण, 3 करोड़ 44 लाख रूपए की लागत से बेलर से तारागांव तक सड़क निर्माण, 2 करोड़ 57 लाख रूपए की लागत से एरमुर से कस्तूरपाल सड़क निर्माण, 2 करोड़ 93 लाख रूपए की लागत से टाकरागुड़ा से भाटपाल तक 2.25 किलोमीटर सड़क निर्माण, 3 करोड़ रूपए की लागत से बस्तर विश्वविद्यालय परिसर में 100 सीटर बालक छात्रावास निर्माण, 60 लाख रूपए की लागत से आसना में बस्तर लोक नृत्य एवं साहित्य अकादमी की स्थापना, 50 लाख रूपए की लागत से पुराना कृषि उपज मंडी परिसर में रैयत बाजार एग्री प्लाजा का निर्माण शामिल है।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने चित्रकोट में लगभग 125 करोड़ 49 लाख रूपए के विभिन्न विकास कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया। उन्होंने 97 करोड़ 24 लाख 35 हजार रुपए के 14 निर्माण कार्यों का लोकार्पण और 28 करोड़ 25 लाख 44 हजार रुपए के 10 कार्यों का शिलान्यास किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री बघेल ने कहा कि बस्तर में जल संरक्षण की सम्भावना बहुत है यहाँ नदियाँ, नाले बहुत हैं, नालों पर बंधान, चेकडेम आदि का निर्माण कर बस्तर में पानी की कमी नहीं होने देना है, इसलिए सुराजी योजना के तहत नरवा योजना से सभी लोगो को जोड़ना है। उन्होंने कुपोषण को एक अभिशाप बताते हुए कहा कि इससे एक पीढ़ी ही नहीं बल्कि कई पीढ़ियां कमजोर हो जाती हैं। उन्होंने कहा कि कमजोर छत्तीसगढ़ और कमजोर बस्तर कभी भी विकसित क्षेत्रों का मुकाबला नहीं कर सकता, इसलिए इस समस्या का समूल नाश आवश्यक है। उन्होंने कुपोषण की समस्या के समाधान के लिए सभी लोगों को एकजुट होकर कार्य करने की अपील की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बस्तर में हरिक नानीबेरा यानी खुशहाल बचपन कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया है, जिसके माध्यम से बच्चों को अण्डा, मंूगफल्ली लड्डू आदि दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में दो अक्टूबर से कुपोषण को समाप्त करने के लिए सुपोषण अभियान चलाया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि डॉक्टरों की कमी के कारण लोगों को शीघ्र चिकित्सा सुविधा नहीं मिल पाती है। इस समस्या के समाधान के लिए हाट बाजारों में क्लीनिक चलाने की योजना प्रारंभ की गई है। इसके माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य परीक्षण कर उपचार की सुविधा दी जा रही है। छत्तीसगढ़ की सरकार आम जनता की सरकार है। यह सरकार द्वारा ऋण माफी, 2500 रुपए समर्थन मूल्य पर धान खरीदी, 4000 प्रति मानक बोरा तेन्दूपत्ता खरीदी करने के साथ ही, लघु वनोपज की संख्या 7 से बढ़ाकर 15 कर दी गई है। उन्होंने कहा कि देश में पहली बार लोहण्डीगुड़ा क्षेत्र में उद्योगपतियों से किसानों की जमीन वापसी का ऐतिहासिक कार्य छत्तीसगढ़ की सरकार ने किया है, जिसकी चर्चा पूरे देश-विदेश में हो रही है।

इस अवसर पर उद्योग मंत्री श्री कवासी लखमा, बस्तर सांसद श्री दीपक बैज, कोंडागाँव विधायक मोहन मरकाम ने भी सभा को सम्बोधित किया।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में हितग्राहियों को वन अधिकार मान्यता पत्र, नवीनीकृत राशन कार्ड सहित कृषि उद्यानिकी विभाग द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओ के तहत सामग्री का वितरण किया। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने यहां राष्ट्रीय आजीविका मिशन (बिहान) बस्तर के अंतर्गत लोहंडीगुड़ा ब्लाक के महिला समूहों के स्टॉल का अवलोकन कर उनके कार्यों की सराहना की।

कार्यक्रम में स्कूल शिक्षा मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, बस्तर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री लखेश्वर बघेल, जगदलपुर विधायक श्री रेख चंद जैन, नारायणपुर विधायक श्री चंदन कश्यप, मुख्यमंत्री के संसदीय सलाहकार श्री राजेश तिवारी, कलेक्टर डॉ. अय्याज तम्बोली, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री इंद्रजीत चंद्रवाल सहित जनप्रतिनिधिगण एवं बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

SHARE THIS
Continue Reading

अन्य खबरे

मुख्यमंत्री ने राजधानी रायपुर में दो दिवसीय राष्ट्रीय पत्रकार सम्मेलन का किया शुभारंभ

Published

on

By

समाज को जागरूक करने में पत्रकारों का महत्वपूर्ण योगदान – श्री बघेल

मुख्यमंत्री ने राजधानी रायपुर में दो दिवसीय राष्ट्रीय पत्रकार सम्मेलन का किया शुभारंभ

रायपुर, 17 अगस्त 2019

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज राजधानी रायपुर में छत्तीसगढ़ पत्रकार संघ के तत्वाधान में आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय पत्रकार सम्मेलन का दीप प्रज्जवलित कर शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने छत्तीसगढ़ जर्नलिस्ट यूनियन द्वारा प्रदत्त गणेश शंकर विद्यार्थी पत्रकारिता अलंकरण से रायपुर प्रेस क्लब के अध्यक्ष श्री दामू आम्बेडारे को सम्मानित किया, साथ ही संघ की ओर से सामाजिक समरसता, नारी सशक्तिकरण और पर्यावरण चेतना आदि के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले लोगों को भी इस अवसर पर सम्मानित किया गया।
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पत्रकारों के राष्ट्रीय सम्मेलन के आयोजन पर प्रसन्नता व्यक्त की और इस महत्वपूर्ण अवसर के लिए छत्तीसगढ़ पत्रकार संघ को बधाई तथा शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि पत्रकारों का कार्य बहुत ही संघर्ष और चुनौतीपूर्ण होता है। समाज को जागरूक करने सहित नवीन विचारधारा तथा देश के नव-निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान होता है। उन्होंने कहा कि घटना की जानकारी की तत्परता से उपलब्धता के लिए पत्रकारों को कठिन से कठिन परिस्थिति में कार्य करना पड़ता है। उन्होंने प्रदेश के झीरम कांड का उल्लेख करते हुए जिक्र किया कि ऐसी विषम परिस्थिति में भी सबसे पहले पहुंचने वाले पत्रकार ही थे। इस तरह घटनास्थल से पल-पल की खबरें शीघ्रता से लेकर पूरे समाज को अवगत कराने में इनका महत्वपूर्ण योगदान होता है।
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने आगे कहा कि प्रदेश में पत्रकारों के हित में राज्य सरकार द्वारा वर्तमान में अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं। इनमें पत्रकारों की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए पत्रकार सुरक्षा कानून के लिए समिति गठित कर दी गई है। इसी तरह इनके सम्माननिधि में भी बढ़ोत्तरी कर दी गई है। इसके तहत वरिष्ठ मीडियाकर्मी को प्रतिमाह 5 हजार से बढ़ाकर दस हजार रूपए किया गया है। यह राशि पहले पांच वर्ष के लिए थी, इसे अब आजीवन कर दिया गया है। सम्माननिधि के लिए पहले न्यूनतम आयु 62 वर्ष थी, इसे भी घटाकर अब 60 वर्ष कर दी गई है। इसके अलावा पत्रकारों को स्वयं अथवा उनके आश्रित परिवार के सदस्यों की बीमारियों के इलाज के लिए दी जाने वाली न्यूनतम राशि पांच हजार से बढ़ाकर दस हजार रूपए और अधिकतम राशि 50 हजार से बढ़ाकर दो लाख रूपए कर दी गई है। मुख्यमंत्री श्री बघेल ने यह भी बताया कि प्रदेश में अब राज्य तथा जिला स्तर ही नहीं अपितु ब्लॉक स्तर पर भी पत्रकारों की अधिमान्यता का प्रावधान किया गया है।
राजधानी रायपुर में आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय पत्रकार सम्मेलन में छत्तीसगढ़ के अलावा देश के अन्य प्रांतों से भी पत्रकार बड़ी संख्या में शामिल हुए है। सम्मेलन में स्वागत भाषण इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट के महासचिव श्री परमानन्द पाण्डे ने दिया। इस अवसर पर संघ के पदाधिकारी श्री ईश्वर दुबे, श्री सतीश बौद्ध, श्री मल्लिकार्जुन, श्री मनीष चौबे, श्री संजय दुबे, श्री पवन बंजारे सहित पत्रकार बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

SHARE THIS
Continue Reading

#Chhattisgarh खबरे !!!!

छत्तीसगढ़29 mins ago

’परख’ कार्यक्रम के तहत् चार प्रधानपाठकों का चयन

                   ’परख’ कार्यक्रम के तहत् चार प्रधानपाठकों का चयन   Click Here...

अन्य खबरे34 mins ago

सरकार के फैसलों से लोगों के जीवन में आया परिवर्तन- मुख्यमंत्री श्री बघेल

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer सरकार के फैसलों से लोगों के जीवन में आया परिवर्तन- मुख्यमंत्री...

अन्य खबरे49 mins ago

लोहण्डीगुड़ा बनेगा नया राजस्व अनुभाग

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer लोहण्डीगुड़ा बनेगा नया राजस्व अनुभाग मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने की...

छत्तीसगढ़51 mins ago

किसानों का ऋण दो घंटे के भीतर माफ करने वाला पहला राज्य – श्री ताम्रध्वज साहू

        किसानों का ऋण दो घंटे के भीतर माफ करने वाला पहला राज्य – श्री ताम्रध्वज साहू...

अन्य खबरे55 mins ago

मुख्यमंत्री ने राजधानी रायपुर में दो दिवसीय राष्ट्रीय पत्रकार सम्मेलन का किया शुभारंभ

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer समाज को जागरूक करने में पत्रकारों का महत्वपूर्ण योगदान – श्री...

Advertisement

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive7 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें सुबह की सुर्खियाँ 12/08/2019

  Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer     दिनांक 12/08/2019 का पंचांग एवं राशिफल श्रावण सोम...

Etoi Exclusive1 week ago

नेशनल कॉन्फ्रेंस ने अनुच्छेद 370 को खत्म करने के मोदी सरकार के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के केंद्र सरकार के फैसले...

Etoi Exclusive4 weeks ago

पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का निधन

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर(etoi news)20/07/2019 द‍िल्‍ली कांग्रेस की अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित...

Etoi Exclusive1 month ago

सिर्फ एक रुपये लेकर किसने जाधव को फांसी से बचाया ?

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer रायपुर। जासूसी के केस में बंद कुलभूषण जाधव के मामले में...

Etoi Exclusive1 month ago

रोहित-राहुल के शतक की बदौलत भारत की श्रीलंका पर शानदार जीत

Click Here To Read Astrological Articles & Contact Astrologer Post Views: 48 SHARE THIS Related

Advertisement
August 2019
M T W T F S S
« Jul    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293031  
Advertisement

निधन !!!

Advertisement

Trending