Connect with us

अन्य खबरे

किसने कहा भारत में कोरोना वायरस के फैलने की सम्भावना कम है मग़र शासन के निर्देशों का पालन जरुरी है ?

Avatar

Published

on

भारत के लोगो की जेनेटिक भिन्नता और वायरस  के डिफरेंट चेन के कारन भी भारत में इस वायरस के फैलने की सम्भावना कम है
वायरस  के डिफरेंट चेन के कारन भी भारत में इस वायरस के फैलने की सम्भावना कम  :
छत्तीसगढ़ मेडिकल असोसिएशन के प्रमुख डॉ महेश सिन्हा
सभी स्वास्थ्य या सेवा कर्मियों हजमत सूट की जरुरत नहीं है,पर सावधानी जरूर रखनी चाहिए पेशे के अनुसार सभी को परसनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट इस्तेमाल करना चाहिए ,बायो मेडिकल हेजार्ड का डिस्पोजल ठीक तरीके से यानि मेडिकल रूल्स के हिसाब से होना चाहिये
: रायपुर स्त्री रोग संगठन की सचिव डॉक्टर आशा जैन
छत्तीसगढ़ मेडिकल असोसिएशन के प्रमुख डॉ महेश सिन्हा ने भी कहा कि इटली सहित ज्यादातर देशो में डॉक्टर्स भी संक्रमित हुए इसकी सम्भावना हर जगह बनी हुई है,हजमत सूट एन -95 मास्क सहित परसनल  प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट की कमी भी लगभग पूरी दुनिया में है ,भारत में थोड़ी ज्यादा है,मग़र रायपुर स्त्री रोग संगठन की सचिव डॉक्टर आशा जैन जो इस पेशे में गुनी भी हैं अनुभवी भी हैं ने जो बड़ी बात बताई वह चौकानें वाली है वह बात है कि बायो हेजार्ड से पर्यावरणीय संकट ज्यादा है  सावधानी केवल डॉक्टर्स को नहीं वरन सभी के लिए आवश्यक है जो रेलवे स्टेशन या बस स्टैंड या हॉस्पिटल जहां भी मरीजों के संपर्क में आ सकते हैं या उनकी देखभाल में लगे हैं। 
शुरू शुरू में जब चीन में डॉक्टर्स की मौत हुई उसके बाद सभी ने हजमत सूट पहनना शुरू किया उसके बाद वहां किसी भी डॉक्टर को संक्रमण नहीं हुआ ,इसकी वजह है कोरोना की तासीर ,असल में कोरोना  कोरोना वायरस बहुत सूक्ष्म लेकिन प्रभावी वायरस है. कोरोना वायरस मानव के बाल की तुलना में 900 गुना छोटा है  हवा में संक्रमित व्यक्ति के छींक या थूक की बारीक़ बूंदों से फैलता है, कोरोना के संक्रमण फैलने की चार वजह हो सकती है. आप संक्रमित व्यक्ति के पास कितनी देर रहे ? आप उसके कितने पास गए ? क्या उस व्यक्ति के छींकने या खांसने की वजह से आपको छींटे पड़े ? आपने अपने चेहरे को कितनी बार छुआ ? आपके उम्र और स्वास्थ्य की वजह से भी कोरोना के संक्रमण का असर पड़ता है.ऐसे में सभी स्वास्थ्य या सेवा कर्मियों हजमत सूट की जरुरत है,पर उससे ज्यादा जरुरी बायो मेडिकल हेजार्ड का डिस्पोजल ठीक तरीके से यानि मेडिकल रूल्स के हिसाब से होना चाहिए,ये ही उतारे हुए ग्लब्स या बायो मेडिकल हेजार्ड भी संक्रमण की वजह बन सकते हैं। 
डॉक्टर सिन्हा ने कहा कि भारत के लोगो की जेनेटिक भिन्नता और वायरस  के डिफरेंट चेन के कारन भी भारत में इस वायरस के फैलने की सम्भावना कम है हालाँकि कुछ लोग ये आरोप लगा सकते हैं कि सरकार  छुपाना चाहती है मग़र मौतों को छुपाया नहीं जा सकता मतलब साफ़ है कि भारत में इसके फैलने की सम्भावना कम है ,उन्होंने एक और दमदार तर्क दिया कि जिस तरह से हमारी लाइफ स्टाइल है और जिस तरह की सोशल डिस्टेंसिंग का पैरा मीटर तोड़कर लोग बस अड्डों रेलवे स्टेशन और सड़कों और बाजारों में दिख रहें हैं यदि इस वायरस को फैलना होता तो अब तक बहुत खतरनाक स्तर पर पहुँच जाता ऐसे में दिखाई यही पड़ता है कि कुछ तो भारत में अलग है जिसके कारण यह भारत में नहीं फ़ैल रहा है मगर लोगो से अपील है की वे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें,भीड़  में ना जाएँ ,और अधिक से अधिक खुद को आइसोलेट करें, सफाई का ध्यान दें। 
इधर मुंबई में : 4 डॉक्टर्स को कोरोना, मास्क-सौनिटाइजर ना होने से खतरे का माहौल
डॉक्टर्स हाई रिस्क पर हैं। बचाव के स्तर पर भी भारी कमी है क्योंकि लोगों ने सभी मास्क और सैनिटाइजर पहले ही खरीद लिया है। कायदे से तो इस महामारी से निपटने के लिए डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ को इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है। जब डॉक्टर खुद ही प्रोटेक्ट नहीं रहेगा तो सबको कैसे सुरक्षित रखेगा।
मुंबई में कोरोना से संक्रमित हुए 4 डॉक्टर, 85 वर्षीय यूरोलॉजिस्ट की मौत
बड़े पैमाने पर मास्क और सैनिटाइजर की खरीद से डॉक्टरों के लिए बढ़ा खतरा
प्राइवेट डॉक्टर भी आ रहे मदद के लिए आगे, सेफ्टी की कमी से हाई रिस्क पर डॉक्टर
मुंबई शहर में अब तक कोरोना वायरस के 108 पॉजिटिव केस आ चुके हैं, जिनमें से 4 डॉक्टर हैं। कथित तौर पर मरीजों के इलाज के दौरान ही डॉक्टर इस वायरस से संक्रमित हो गए। अब तक जिन चार लोगों की मौत हुई है, उनमें से एक 85 साल के रिटायर्ड यूरोलॉजिस्ट भी हैं। बड़े पैमाने पर मास्क और सैनिटाइजर की खरीद से डॉक्टरों के सामने खतरा पैदा हो गया है। संक्रमण के इस दौर में मेडिकल प्रोफेशनल्स को सबसे ज्यादा खतरा बना हुआ है। कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित चीन और इटली में पिछले कुछ महीनों में कई डॉक्टर्स की जान भी जा चुकी है। मुंबई में शनिवार को चौथा डॉक्टर भी कोरोना पॉजिटिव पाया गया। एक अधिकारी ने बताया कि वर्ली का यह डॉक्टर कहीं विदेश भी नहीं गया था। लेकिन सूरत में उसने कुछ लोगों से मुलाकात की थी, जो हाल ही में बाहर देश से वापस आए थे।डॉक्टरों के संक्रमित होने से मुंबई के डॉक्टरों में भी चिंता फैल रही है। मदद के लिए आगे आ रहे डॉक्टर भी उलझन में हैं। ऐसे ही एक डॉक्टर ने बताया, ‘डॉक्टर्स हाई रिस्क पर हैं। बचाव के स्तर पर भी भारी कमी है क्योंकि लोगों ने सभी मास्क और सैनिटाइजर पहले ही खरीद लिया है। कायदे से तो इस महामारी से निपटने के लिए डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ को इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है। जब डॉक्टर खुद ही प्रोटेक्ट नहीं रहेगा तो सबको कैसे सुरक्षित रखेगा।’
महाराष्ट्र मेडिकल काउन्सिल के अध्यक्ष डॉक्टर शिवकुमार उत्तुरे ने कहा, ‘बड़े पैमाने पर सेफ्टी सामानों की खरीद से डॉक्टरों को खतरा हो गया है।’ उन्होंने बताया कि आईएमए की तरफ से डॉक्टरों को क्लिनिक खोलने और अपॉइंटमेंट लेकर ही मरीजों को देखने को कहा है। एमएमसी ने टेलिफोन पर सलाह देने की व्यवस्था भी की है।
अधिकारियों ने सभी डॉक्टर्स की छुट्टियां कैंसल कर दी हैं। ऐसे में कई ऐसे प्राइवेट डॉक्टर हैं, जो आगे आकर मदद करना चाह रहे हैं। इसका पता बीएमसी की उस अपील से ही पड़ता है, जिसमें हॉस्पिटलों में मदद की गुजारिश के 24 घंटों के अंदर ही 75 प्राइवेट डॉक्टर्स ने साइन अप कर दिया। अब बीएमसी ने आईएमए से 150 और डॉक्टर्स की लिस्ट मांगी है। कलवा के रेडियोलॉजिस्ट डॉक्टर जिग्नेश ठक्कर ने बताया, ‘हममें से ऐसे कई लोग हैं, जो सरकार की मदद करना चाहते हैं। लेकिन प्राइवेट डॉक्टरों का पब्लिकक हेल्थ सिस्टम में व्यवस्थित तरीके से उपयोग करना जरूरी है।
Advertisement
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

अन्य खबरे

बॉडी में इस विटामिन की कमी से कोरोना होने का खतरा !

Editor

Published

on

By

कोरोना वायरस का प्रकोप हर दिन बढ़ता ही जा रहा है। भारत में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1  लाख 38  हजार के करीब पहुंच चुकी है, जबकि मरने वालों का आंकड़ा 2 हजार से अधिक हो गया है। अमेरिका, इंग्लैंड, इटली समेत दुनिया के तमाम देश इस बीमारी का इलाज ढूंढ़ रहे हैं, लेकिन अब तक कोई भी पुख्ता इलाज सामने नहीं आ पाया है। इस बीच एक अध्ययन में ये बात सामने आई है कि जिन देशों में विटामिन डी की कमी थी, वहां कोरोना वायरस से होने वाली मौतों की संख्या अधिक थी। ऐसे हमारे एक्सपर्ट डॉक्टर सुभाष सी पांडे ने बताया कि कितना जरूरी है हमारे लिए विटामिन डी।

शोध में ये बात आई सामने
इस शोध के अनुसार इटली और स्पेन जैसे देशों में विटामिन डी का औसत स्तर यूरोप के अन्य उत्तरी देशों की तुलना में बहुत कम था। इन दोनों ही देशों में कोविड-19 से हुई मौतों का आंकड़ा काफी अधिक था। शोधकर्ताओं के अनुसार इन देशों में मृत्यु दर इतना अधिक इसलिए था क्योंकि दक्षिणी यूरोप में लोग, खासकर बुजुर्ग सूरज की रोशनी में नहीं बैठते हैं। वहीं, स्किन पिगमेंटेशन भी शरीर में प्राकृतिक रूप से विटामिन डी को बनने से रोकती है। ये शोध यूरोप के 20 देशों में कोरोना वायरस के मामले और मृत्यु दर पर किया गया था। यूनाइटेड किंगडम के एंजलिया रस्किन यूनिवर्सिटी और क्वीन एलिजाबेथ हॉस्पिटल के वैज्ञानिकों द्वारा इस शोध का नेतृत्व किया गया था।

 

Continue Reading

अन्य खबरे

“बिहार का जिला सिवान जहां लोग सोनू सूद की मूर्ति बनवाने की तैयारी में हैं

Avatar

Published

on

     बिहार का जिला सिवान जहां लोग सोनू सूद की मूर्ति बनवाने की तैयारी में हैं

कोरोना वायरस लगातार देश में पांव पसार रहा है. इसकी दहशत को देखते हुए सरकार  ने 31 मई तक लॉकडाउन लागू कर रखा है. लॉकडाउन  के चलते मजदूरों को सबसे ज्यादा दिक्कतें आ रही हैं. प्रवासी मजदूर लगातार सरकार से अपने गांव में वापस जाने की गुहार लगा रहे हैं. इसी बीच बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद संकट के इस समय में मसीहा बनकर सामने आए हैं और लोगों की मदद कर रहे हैं. लोग ट्विटर के जरिए भी सोनू सूद से सहायता मांग रहे हैं, जिसका एक्टर पूरा रिस्पांस दे रहे हैं. 

संकट के समय में सोनू सूद  के इस काम की चारों तरफ सराहना हो रही है. हर कोई एक्टर की दरियादिली का कायल हो गया है. लोग लगातार सोशल मीडिया के जरिए उनके तारीफ कर रहे हैं. कोई सोनू के लिए कविता लिख रहा है, तो कोई उन्हें भगवान का दर्जा दे रहा है. अब हाल ही में एक शख्स ने सोनू सूद की नेकदिली से खुश होकर ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने बताया की बिहार के सिवान जिले में उनकी मूर्ति बनवाने की लोग तैयारी कर रहे हैं.

शख्स ने ट्वीट करते हुए सोनू सूद  को टैग किया और लिखा, “बिहार का जिला सिवान जहां लोग आपकी मूर्ति बनवाने की तैयारी में हैं. सलाम सर बहुत-बहुत प्यार आपको.” शख्स के इस ट्वीट का जवाब देते हुए सोनू सूद ने लिखा, “भाई उस पैसे से किसी गरीब की मदद करना.” सोनू सूद की इस स्वार्थहीन सहायता की लोग दिल से तारीफ कर रहे हैं और एक्टर के इस ट्वीट पर खूब रिएक्ट भी कर रहे हैं. 

 

Continue Reading

अन्य खबरे

थायरॉयड की वजह से बढ़ता है वजन ,जानें क्या है सच ?

Avatar

Published

on

आपने कई बार ये बात नोटिस की होगी कि स्वस्थ और संतुलित भोजन करने और रोजाना व्यायाम करने के बावजूद अचानक से आपका वजन तेजी से बढ़ने लगता है. खासकर अगर आप महिला हैं तो इस तरह के मामले में आपको अपने शरीर में थायरॉयड के लेवल को चेक करवाना चाहिए. क्योंकि अगर शरीर में थायरॉयड का लेवल कम हो जाए अचानक से वजन बढ़ने लगता है. हर साल 25 मई को वर्ल्ड थायरॉयड डे मनाया जाता है. दुनियाभर में बड़ी संख्या में लोग थायरॉयड बीमारी से पीड़ित हैं. डॉक्टरों की मानें तो हर 10 में से 1 महिला को हाइपोथायरॉयडिज्म यानी थायरॉयड हार्मोन की कमी की समस्या है.

सबसे पहले आखिर थायरॉयड है क्या इसकी बात करते हैं. शरीर में मौजूद थायरॉयड ग्रंथि, तितली के आकार की ग्रंथि है जो हमारे गले में कंठ के ठीक नीचे स्थित होती है. यह ग्रंथि शरीर में दो तरह के हार्मोन का निर्माण करती है- टी3 (थाइरॉक्सिन) और टी4 (ट्रायोडोथाइरोनिन) और टीएसएच यानी थायरॉयड स्टिमुलेटिंग हार्मोन मेंनटेन करके रखता है.

थायरॉयड ग्रंथि शरीर के कई तरह के कार्यों को नियमित बनाए रखने में मदद करती है. लिहाजा अगर शरीर के इस अंगों में किसी तरह की गड़बड़ी हो जाए तो शरीर का सिस्टम सामान्य रूप से कार्य नहीं कर पाता. थायरॉयड बीमारी आमतौर पर 2 तरह से होती है- हाइपोथायरॉयडिज्म जहां थायरॉयड हार्मोन का उत्पादन कम हो जाता है और हाइपरथायरॉयडिज्म जहां थायरॉयड हार्मोन का अत्यधिक उत्पादन होने लगता है. रिपोर्ट्स की मानें तो वैसे लोग जो हाइपोथायरॉयडिज्म बीमारी से पीड़ित होते हैं, उनमें अचानक वजन बढ़ने की समस्या दिखने लगती है. आगे पढ़ें कि कैसे, थायरॉयड आपके वजन को प्रभावित करता है.

थायरॉयड और वजन के बीच क्या है कनेक्शन?

थायरॉयड हार्मोन शरीर के मेटाबॉलिज्म को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार माना जाता है. शरीर के मेटाबॉलिज्म को मेटाबॉलिक रेट के तौर पर काउंट किया जाता है. यह वह दर है, जिसमें आपका शरीर कितनी ऊर्जा खर्च करता है या कितनी कैलोरी बर्न करता है. आराम करते वक्त भी हमारा शरीर कैलोरीज बर्न करता है, क्योंकि आराम करते वक्त भी शरीर के फंक्शन को जारी रखने के लिए ऊर्जा की जरूरत होती है.इसे बेसल मेटाबॉलिक रेट (BMR) कहते हैं.

इस बारे में अब तक हो चुके अध्ययनों की मानें तो जब भी शरीर में थायरॉयड हार्मोन का लेवल कम होने लगता है शरीर में बीएमआर कम हो जाता है और जब थायरॉयड हार्मोन का लेवल बढ़ता है तो बीएमआर अधिक हो जाता है. जब भी शरीर में बीएमआर अधिक हो जाता है तो यह शरीर की जमा करके रखी हुई कैलोरीज का, सेवन की गई कैलोरीज की तुलना में ज्यादा तेजी से इस्तेमाल करने लगता है, जिस कारण व्यक्ति की चर्बी समाप्त होने लगती है और वह एकदम दुबला-पतला हो जाता है.

हाइपोथायरॉयडिज्म के कारण बढ़ता है वजन

हाइपोथायरॉयडिज्म के मामले में शरीर में सामान्य मात्रा में थायरॉयड हार्मोन की कमी होने लगती है. यह हार्मोन शरीर की विभिन्न क्रियाओं को करने के लिए बेहद जरूरी माना जाता है. साथ ही जब बीएमआर कम होने लगता है तो शरीर में कैलोरीज के बर्न होने की क्रिया भी धीमी हो जाती है, जिससे व्यक्ति का वजन तेजी से बढ़ने लगता है.

साथ ही कई रिपोर्ट्स में यह बात भी सामने आयी है कि हाइपोथायरॉयडिज्म के मरीजों में अतिरिक्त वजन बढ़ने की समस्या इसलिए भी होती है, क्योंकि शरीर में नमक और पानी का अतिरिक्त संग्रहण होने लगता है. हाइपोथायरॉयडिज्म से पीड़ित मरीज में कई और लक्षण भी नजर आते हैं. जैसे- हद से ज्यादा ठंड लगना, जोड़ों में लगातार दर्द रहना, आलस और सुस्ती महसूस होना आदि. हालांकि, वजन अचानक से जरूर बढ़ने लगता है लेकिन बहुत ज्यादा नहीं बढ़ता.

हाइपोथायरॉयडिज्म के इलाज से वजन घटाने में मिलेगी मदद

रिपोर्ट्स में यह बात भी सामने आयी है कि हाइपोथायरॉयडिज्म से पीड़ित मरीज जब एक बार अपनी थायरॉयड की दवाइयां लेना शुरू कर देता है और डॉक्टर द्वारा बताए गए डाइट और एक्सरसाइज के रूटीन को फॉलो करने लगता है तो कम समय के अंदर ही वह व्यक्ति अपने पहले वाले शेप में वापस आ जाता है. अगर दवाइयों का सेवन करने के बाद भी वजन लगातार बढ़ता रहे तो इसका मतलब है कि वजन बढ़ने का कारण सिर्फ थायरॉयड बीमारी नहीं बल्कि कुछ और भी है.

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

छत्तीसगढ़44 mins ago

पूर्व सीएम अजीत जोगी, डॉक्टरों ने दिया ताजा हेल्थ अपडेट

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की ताजा मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक उनके ब्लड प्रेशर और हार्ट रेट में हो...

छत्तीसगढ़52 mins ago

छत्तीसगढ़ में लाख की खेती को मिलेगा कृषि का दर्जा

रायपुर,(etoi news) 25 मई 2020 छत्तीसगढ़ में लाख की खेती को अब कृषि का दर्जा मिलेगा। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल...

छत्तीसगढ़54 mins ago

छत्तीसगढ़: सिम्स के 15 वार्ड बॉय और 23 डॉक्टर समेत नर्सिंग स्टाफ क्वॉरेंटाइन किए गए

बिलासपुर। अभी-अभी खबर मिल रही है कि बाहर से आए हुए कोरोनावायरस कोविड-19 के संक्रमण से संदिग्ध प्रवासी श्रमिकों के...

छत्तीसगढ़2 hours ago

आज से घरेलू विमान सेवा शुरू, स्वामी विवेकानंद एयरपोर्ट पर 4 शहरों से कनेक्टिविटी की शुरुआत

दो महीने बाद देश में आज से घरेलू विमान सेवा शुरू हो गई है। दिल्ली से पुणे के लिए पहली...

छत्तीसगढ़2 hours ago

सरकार का बड़ा फैसला, गर्मी की छुट्टियों में भी बच्चों को मिलेगा मिड-डे-मील का सूखा राशन

जिला शिक्षा अधिकारियों को जारी निर्देश में कहा गया है कि राज्य शासन द्वारा ग्रीष्मावकाश में भी बच्चों को मध्यान्ह...

#Exclusive खबरे

Etoi Exclusive21 hours ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 25/05/2020

सुधि पाठकों की,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये, उसे छोड़  आगे बढ़ जाएँ ,देश...

Etoi Exclusive2 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 24/05/2020

सुधि पाठकों की,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये, उसे छोड़  आगे बढ़ जाएँ ,देश...

Etoi Exclusive3 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 23/05/2020

सुधि पाठकों की,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये, उसे छोड़  आगे बढ़ जाएँ ,देश...

Etoi Exclusive4 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 22/05/2020

सुधि पाठकों की,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये, उसे छोड़  आगे बढ़ जाएँ ,देश...

Etoi Exclusive5 days ago

देश दुनिया की पढ़ें ख़ास ख़बरें,,,, सुबह की सुर्खियाँ 21/05/2020

सुधि पाठकों की,आपको जो हेड लाइन पसंद आये,उसे एक बार क्लिक करें और पसंद ना आये, उसे छोड़  आगे बढ़ जाएँ ,देश...

Calendar

May 2020
M T W T F S S
 123
45678910
11121314151617
18192021222324
25262728293031

निधन !!!

Advertisement

Trending