Connect with us

छत्तीसगढ़

डी. पुरंदेश्वरी का विवादित बयान, ‘भाजपा थूक देगी तो बह जाएगी बघेल सरकार’

Published

on

छत्तीसगढ़ की भाजपा प्रभारी डी पुरंदेश्वरी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और उनके मंत्रिमंडल को लेकर विवादास्पद बयान दे दिया है. छत्तीसगढ़ के जगदलपुर में चल रहे भाजपा के चिंतन शिविर की समाप्ती पर डी पुरंदेश्वरी ने भाजपा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि अगर आप पीछे पलटकर थूकेंगे भी तो इसमें भूपेश बघेल और उनका पूरा मंत्रिमंडल बह जाएगा. पुरंदेश्वरी के इस विवादास्पद बयान के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा, “मैं इस बयान पर क्या प्रतिक्रिया दूं. मुझे नहीं पता था कि भारतीय जनता पार्टी में आने के बाद पुरंदेश्वरी की मानसिक स्थिति इस स्तर पर आ जाएगी. वो जब अर्जुन सिंह  के साथ राज्यमंत्री थीं तब तो ठीक थी. आसमान पर थूकोगे तो वह खुद के चेहरे पर ही गिरता है.’

2023 की रणनीति तैयार कर रही बीजेपी

जगदलपुर में आयोजित बीजेपी के चिंतन शिविर में मिशन 2023 की रणनीति तैयार की गई. बीजेपी अपने चिंतन शिविर के जरिए उस फार्मूले को ढूंढ रही है जो जीत का आधार बन सके. बीजेपी अपनी ख़ामियों को ढूंढ कर ज़मीन मज़बूत किए जाने की क़वायद में भी जुटने की तैयारी कर रही है, सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी चिंतन शिविर में जातिगत समीकरणों पर खूब रायशुमारी हुई. एसटी,एससी, ओबीसी सीटों की मौजूदा स्थिति और बीजेपी की पकड़ पर गहन चिंतन किया गया है. संभागों में एससी,एसटी और ओबीसी सीटों की स्थिति क्या है? ऐसी कितनी सीटों पर बीजेपी ने कब-कब, कितनी बार चुनाव जीता है या वोट प्रतिशत प्रतिद्वंदी राजनीतिक दलों से ज़्यादा है, इसका हिसाब किताब बैठक में किया गया है.

बीजेपी की बैठक में यह चर्चा भी की गई है कि जातिगत समीकरणों में फ़ंसी सीटों पर बीजेपी ने एक बार जीत दर्ज की है, दो बार जीत दर्ज की है या तीन बार जीत दर्ज की है, इसकी समीक्षा की गई. समीक्षा में ये पाया गया कि तीन बार जितने वाली ऐसी छह सीटें हैं, जहां बीजेपी की पकड़ मज़बूत है. समीक्षा में यह तथ्य भी सामने आया है कि ऐसी आरक्षित सीटें जहां एससी-सामान्य का मत प्रतिशत 70 से ज़्यादा है, वहां बीजेपी ने जीत दर्ज किया है.

Advertisement
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

छत्तीसगढ़

निजी स्कूल के 50 हजार छात्रों को झटका! भूपेश सरकार ने दिए ये निर्दश

Published

on

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में निजी स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे छात्रों को लेकर राज्य सरकार के शिक्षा विभाग ने बड़ा निर्देश दिया है. शिक्षा विभाग ने निजी स्कूलों को भी जल्द ऑफलाइन क्लास शुरू करने कहा है. राज्य सरकार ने अगस्त में स्कूलों में ऑफलाइन पढ़ाई की अनुमति दे दी थी. सरकारी स्कूल खुले और पढ़ाई भी हो रही है, लेकिन रायपुर अधिकांश निजी स्कूलों में अब भी ऑनलाइन क्लास चल रही है. इसे लेकर जिला शिक्षा विभाग ने निजी स्कूलों से कहा है कि वे जल्द से जल्द ऑफलाइन पढ़ाई शुरू करें. शासन के निर्देशों का पालन करते हुए बच्चों को बुलाएं. रायपुर में निजी स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई करने वाले छात्रों की संख्या 50 हजार से ज्यादा बताई जा रही है.

अब निजी स्कूलों के लिए जिला शिक्षा विभाग ने निर्देश जारी किए गए हैं. अधिकारियों का कहना है कि कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए स्कूलों में ऑफलाइन पढ़ाई हो रही है, लेकिन अधिकांश निजी स्कूलों में अभी भी ऑनलाइन पढ़ाई हो रही है. इस संबंध में पालकों से जानकारी मिली है. इसलिए निजी स्कूल भी कक्षा पहली से लेकर बारहवीं तक की ऑफलाइन पढ़ाई शुरू करें. जिला शिक्षा विभाग से निर्देश जारी होने के बाद संभावना है कि जल्द से जल्द निजी स्कूलों में भी ऑफलाइन पढ़ाई शुरू होगी. हालांकि, कुछ दिनों के बाद दिवाली की छुट्टियां शुरू हो रही हैं. शिक्षा विभाग के इस निर्देश को ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे उन छात्रों के लिए झटके के तौर पर देखा जा रहा है, जो पढाई के बहाने मौज कर रहे थे.

ऑफलाइन हो सकती है परीक्षा

बता दें कि निजी स्कूलों में खासकर सीबीएसई बोर्ड से जुड़े स्कूलों में कुछ दिनों पहले एग्जाम हुए. यह परीक्षा ऑनलाइन मोड में हुई, लेकिन अब ऑफलाइन पढ़ाई शुरू होने के बाद जब छह माही परीक्षाएं होंगी तो यह परीक्षाएं भी क्लासेस में भी देनी होगी. कुछ निजी स्कूलों ने बताया कि हाफ ईयरली एग्जाम ऑफलाइन होंगे. इसके लिए छात्रों को पहले ही सूचना दे दी गई है. ताकि वे तैयारी करें. इस परीक्षा के बाद पता चलेगा कि बच्चों का स्तर कैसा है. वहीं इस सम्बन्ध में निजी स्कूल एसोसिएशन ने भी जिला शिक्षा अधिकारी को चिट्ठी लिखी थी, जिसके बाद आदेश निकाला गया

इन नियमों का पालन करना होगा

स्कूलों में ऑफलाइन क्लास के लिए वार्ड पार्षद एवं स्कूल की पालक समिति की अनुशंसा जरूरी होगी. इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में पंचायत एवं स्कूल की पालक समिति की अनुशंसा स्कूलों को लेनी होगी. क्लास में क्षमता से आधे छात्र हों, सर्दी-बुखार वाले बच्चों को अनुमति नहीं होगी. छात्रों को कक्षाओं में एक दिन के अंतर में बुलाया जाए.

 

Continue Reading

छत्तीसगढ़

चिरायु छत्तीसगढ़” के तहत “मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना” शुरू की छत्‍तीसगढ़ में बाल हृदय रोगियों को निश्शुल्क इलाज

Published

on

By

भारत के मध्य और उत्तरी भागों में प्रति 1000 व्यक्तियों पर लगभग 19.14 की व्यापकता के साथ, सीएचडी बाल मृत्यु दर के प्रमुख कारणों में से एक है। इस दिशा में, छत्तीसगढ़ राज्य सरकार (जीओसीजी) ने 2018 से सीएचडी वाले बच्चों की पहचान करने और उनका इलाज करने के लिए ” राज्य सरकार के आदेश पर, टाटा ट्रस्ट इसे मजबूत करने में मदद कर रहा है चिरायु छत्तीसगढ़ पहल, सीएचडी से पीड़ित बच्चों की स्क्रीनिंग, जल्दी पता लगाने और उनका इलाज करने की क्षमता के विकास के माध्यम से।
सर्जरी की उच्च लागत सीएचडी के उपचार तक पहुंचने में बाधाओं में से एक है। इस दिशा में, छत्तीसगढ़ सरकार ने एसएसएसएसएच, नया रायपुर को हृदय और फेफड़े की मशीन के लिए धन उपलब्ध कराया है, जिसका उपयोग सर्जरी के दौरान हृदय को बायपास करने के लिए किया जाता है, जिससे सर्जनों को दोषों को ठीक करने के लिए समय मिलता है। यह वेंटिलेटर, इन्फ्यूजन पंप और अन्य उपकरणों के अतिरिक्त है, जिनका उपयोग आईसीयू के बाद की प्रक्रिया में बच्चों की देखभाल के लिए किया जाता है।
टाटा ट्रस्ट ने एसएसएसएसएच, नया में 1000 बाल चिकित्सा कार्डियक सर्जरी के लिए परिचालन लागत के 50% की प्रतिबद्धता के साथ इस कारण का समर्थन किया। बाल चिकित्सा कार्डियक सर्जरी या कैथ इंटरवेंशन, शायद, प्रदर्शन करने के लिए सबसे जटिल ऑपरेशनों में से एक है, यह देखते हुए कि सीएचडी वाले बच्चे आमतौर पर कम वजन वाले होते हैं, और कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली के साथ। सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त होते हैं जब सीएचडी का पता लगाया जाता है और जितनी जल्दी हो सके हस्तक्षेप किया जाता है। 3 दिन से कम उम्र के बच्चों को भी सर्जरी के लिए ले जाया जाता है ताकि उन्हें आगे स्वस्थ जीवन का उपहार दिया जा सके।
Continue Reading

छत्तीसगढ़

राजधानी में दो महीने बाद फिर बढ़े कोरोना मरीज, 6 लोग मोबाइल बंद कर हुए गायब, एक की मौत

Published

on

राजधानी रायपुर में 2 महीने बाद एक बार फिर से कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा होते देखा गया है, यहां एक ही दिन में 10 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। जिनमें से 6 लोग मोबाइल बंद कर के गायब हो गए हैं। कोरोना से संक्रमित मरीजों में 4 लोग बाहर से लौटे हैं।

जानकारी के अनुसार महाराष्ट्र-ओड़िशा से लौटे 4 संक्रमित मरीज मिले हैं, सर्वाधिक मामले फाफाडीह में मिले हैं जहां 3 कोरोना के केस पाए गए हैं। बता दें कि बीते 18 दिन में 44 नए केस सामने आए हैं, त्यौहारी सीजन में भीड़ बढ़ने से कोरोना का खतरा भी बढ़ा हुआ है।

इधर राजनांदगांव जिले के खैरागढ़ में कोरोना से 1 मरीज की मौत हो गई है, छह माह बाद कोरोना से मौत का मामला सामने आया है, मृतक का कोविड टेस्ट 17 अक्टूबर को पॉजिटिव आया था। मृतक बैंक का कर्मचारी था।

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

छत्तीसगढ़31 mins ago

निजी स्कूल के 50 हजार छात्रों को झटका! भूपेश सरकार ने दिए ये निर्दश

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में निजी स्कूलों में ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे छात्रों को लेकर राज्य सरकार के शिक्षा विभाग...

छत्तीसगढ़1 hour ago

चिरायु छत्तीसगढ़” के तहत “मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना” शुरू की छत्‍तीसगढ़ में बाल हृदय रोगियों को निश्शुल्क इलाज

भारत के मध्य और उत्तरी भागों में प्रति 1000 व्यक्तियों पर लगभग 19.14 की व्यापकता के साथ, सीएचडी बाल मृत्यु...

छत्तीसगढ़2 hours ago

राजधानी में दो महीने बाद फिर बढ़े कोरोना मरीज, 6 लोग मोबाइल बंद कर हुए गायब, एक की मौत

राजधानी रायपुर में 2 महीने बाद एक बार फिर से कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा होते देखा गया है,...

छत्तीसगढ़3 hours ago

बाजार से लौट रही महिला अधिवक्ता को युवकों ने जान से मारने की धमकी दी

बाजार से लौट रही महिला अधिवक्ता को युवकों ने जान से मारने की धमकी दी। साथ ही उनके साथ गाली-गलौज...

छत्तीसगढ़23 hours ago

भूपेश बघेल सरकार की मंत्री अनिला भेड़िया बोलीं- ‘थोड़ी-थोड़ी पिया करो’

छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने अपने जन घोषणा पत्र में राज्य में पूर्ण शराबबंदी का वादा किया था....

#Exclusive खबरे

Calendar

October 2021
S M T W T F S
 12
3456789
10111213141516
17181920212223
24252627282930
31  

निधन !!!

Advertisement

Trending