Connect with us

प्रदेश

इंदौर-भोपाल में नया प्रयोग: पुलिस को मिलेंगे मजिस्ट्रियल पावर, अप्रैल से लागू हो सकता है नया सिस्टम

Published

on

राजधानी सहित प्रदेश भर में बढ़ रही आपराधिक वारदातों के बीच सरकार ने लॉ एंड आर्डर की लेबोरेटरी में पुलिस कमिश्नर सिस्टम का नया प्रयोग करने की तैयारी कर ली है। यानी सरकार ने पुलिस को मजिस्ट्रियल पावर देने का मन बना लिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को एक बार फिर घोषणा की है कि भोपाल और इंदौर में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू होगा।

इसका मतलब यह होगा कि पुलिस को लाठीचार्ज और धारा 144 लागू करने के लिए कलेक्टर के आदेश का इंतजार नहीं करना होगा। गुंडों को जमानत मिलेगी या नहीं यह पुलिस की कोर्ट में तय होगा।मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में कानून और व्यवस्था की स्थिति बेहतर है पुलिस अच्छा काम कर रही है। पुलिस और प्रशासन ने मिलकर कई उपलब्धियां हासिल की हैं, लेकिन शहरी जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। भौगोलिक दृष्टि से भी महानगरों का विस्तार हो रहा है और जनसंख्या भी लगातार बढ़ रही है।

इसलिए कानून और व्यवस्था की कुछ नई समस्याएं पैदा हो रही हैं। उनके समाधान और अपराधियों पर नियंत्रण के लिए हमने फैसला किया है। प्रदेश के 2 बड़े शहरों में राजधानी भोपाल और स्वच्छ शहर इंदौर में हम पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू कर रहे हैं। ताकि अपराधियों पर और बेहतर नियंत्रण कर सकें।मुख्यमंत्री सचिवालय के अफसरों का कहना है कि दोनों शहरों में पुलिस कमिश्नर सिस्टम अगले साल अप्रैल माह से लागू होने की संभावना है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने विधानसभा में चार साल पहले यह घोषणा की थी, लेकिन आईएएस अफसरों के विरोध के बाद यह प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ पाई थी।

गृहमंत्री डा. नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि दोनों शहरों की आबादी बढ़ रही है। कानून व्यवस्था सुचारू रूप से जारी रखने और अपराध को नियंत्रित करने के लिए पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू करने का निर्णय लिया गया है। इस सिस्टम से सायबर क्राइम को रोकने में मदद भी मिलेगी। सरकार स्तर पर यह कवायद पिछले 10 साल से चल रही है, लेकिन आईएएस लॉबी इसका लगातार विरोध करती आई है।

लॉ एंड आर्डर और इन्वेस्टिगेशन विंग अलग : राजधानी पुलिस ने लॉ एंड आर्डर और इन्वेस्टिगेशन विंग अलग-अलग बनाने का प्रयोग भी किया। यह प्रयोग सबसे पहले हबीबगंज थाने में किया गया। हालांकि वक्त के साथ-साथ यह भी फाइलों में बंद होकर रह गया।

क्या रहेगी प्रक्रिया: अभी यह तय होना बाकी है कि मप्र में पुलिस आयुक्त प्रणाली देश के अन्य महानगरों जैसी ही होगी या उसे किन्हीं बदलावों के साथ स्वीकार किया जाएगा। लेकिन यह तय है कि जिन शहरों में इसे लागू किया जाएगा वहां पुलिस आयुक्त प्रशासनिक निर्णय लेने में सक्षम होगा।

2008 में एसएसपी सिस्टम : पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू करने का विरोध अप्रत्यक्ष तौर पर आईएएस लॉबी ने वर्ष 2008 में शुरु कर दिया था। ऐसे में कामयाबी हासिल नहीं होने की स्थिति में आईपीएस लॉबी ने एसएसपी सिस्टम की वकालत की और किसी तरह दिसम्बर 2009 में पहले इंदौर और फिर भोपाल में इसे लागू भी करा लिया था। इससे भी कोई बदलाव नहीं दिखा।
असर : आईएएस लॉबी विरोध में आई। अपराध का ग्राफ बढ़ता ही गया।

दिसंबर 2012 में डीआईजी सिस्टम लागू कर दिया : मुख्यमंत्री ने 2012 में 28 फरवरी को विधानसभा में पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू करने की घोषणा की थी। लेकिन इस पर बात नहीं बनी। सरकार ने 18 दिसंबर 2012 को दो महानगरों में एसएसपी सिस्टम समाप्त कर डीआईजी सिस्टम लागू करने की अधिसूचना जारी कर दी थी।
असर: अपराध कम नहीं हुए। सिर्फ डीआईजी और एसपी के पदों में वृद्धि हो गई। बड़े शहरों में दो से तीन एसपी बनाए गए।

पुलिस एक्ट के बारे में देश की स्थिति : देश के 71 शहरों में पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू है। देश के 19 महानगरों की आबादी 20 लाख से ज्यादा है। जिसमें से 14 महानगर ऐसे हैं, जहां पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू है। 20 लाख से ज्यादा आबादी वाले छह शहर जिनमें पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू नहीं है उसमें मध्यप्रदेश के भोपाल व इंदौर, बिहार का पटना और उत्तर प्रदेश का कानपुर, लखनऊ और गाजियाबाद शामिल हैं। जबकि 34 शहर ऐसे हैं जिनकी आबादी 10 से 20 लाख के बीच है। इनमें से 26 शहर ऐसे हैं जहां पुलिस कमिश्नर प्रणाली लागू है। देश में 31 शहर ऐसे भी हैं जहां की आबादी 10 लाख से कम है इसके बाद भी इन शहरों में यह व्यवस्था लागू है।

  • मजिस्ट्रेट के अधिकार मिल जाएंगे
  • प्रतिबंधात्मक कार्रवाई के मामलों में मजिस्ट्रेट के अधिकार डीसीपी और एसीपी के पास आ जाएंगे।
  • सरकार जरूरत के हिसाब से डीसीपी पदस्थ करेगी, जो एसपी रैंक के होंगे। –
  • आर्म्स, आबकारी और बिल्डिंग परमिशन की एनओसी देने जैसे अधिकार भी पुलिस के पास होंगे। –
  • कमिश्नर प्रणाली लागू करने की जद्दोजहद प्रदेश में बीते 10-12 सालों से चल रही है।
  • इस बीच ओडिशा, हरियाणा, पंजाब और राजस्थान में कमिश्नर प्रणाली लागू कर दी गई।

प्रदेश

बाबरी विध्वंस की बरसी पर मथुरा में कड़ी सुरक्षा, धारा 144 लागू

Published

on

By

बाबरी मस्जिद के विध्वंस की बरसी पर मथुरा में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। पूरे शहर में भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं। शहर को सुपरजोन, जोन और सेक्टरों में विभाजित किया गया है। कई सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। कानून और व्यवस्था की स्थिति पर नजर रखने के लिए ड्रोन और सीसीटीवी का इस्तेमाल किया जा रहा है।

वहीं 6 दिसंबर को सुरक्षा के मद्देनजर श्रीकृष्ण जन्मस्थान-शाही ईदगाह की ओर वाहनों का आवागमन रोक दिया गया है। सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस प्रशासन ने रूट डायवर्ट कर वाहनों को निकालने की व्यवस्था की है। जगह-जगह पर बैरियर लगाकर पुलिस व यातायात बल तैनात रहेगा। गोविंद नगर की ओर से श्रीकृष्ण जन्मस्थान और पोतरा कुंड की ओर से श्रीकृष्ण जन्म स्थान की ओर कोई भी वाहन नहीं जा सकेगा।

एसएसपी ने बताया कि सुरक्षा बढ़ा दी गई है। एसएसपी ने कहा कि मथुरा में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। 145 चौकियों पर सुरक्षा बलों को तैनात किया गया है। संदिग्ध लोगों और वाहनों पर नजर रखी जा रही है। मथुरा में पहले से ही दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 144 लागू है, जिसमें चार या अधिक लोगों के इकट्ठा होने पर रोक है। विशेष रूप से, कुछ समूहों ने पिछले महीने 6 दिसंबर को शाही ईदगाह में एक अनुष्ठान करने के लिए एक कॉल जारी किया था। हालांकि, अनुमति से इनकार कर दिया गया था।

डीगगेट की ओर होकर वृंदावन जाने वाले वाहनों को पुलिस ने भूतेश्वर चौराहे, गोवर्धन चौराहा होते हुए गोकुल रेस्टोरेंट से मसानी और छटीकरा की ओर से जाने की व्यवस्था की है। कोई भी भारी वाहन गोवर्धन चौराहे से शहर में प्रवेश नहीं करेगा। वृंदावन से आने वाले वाहन मसानी से गोकुल रेस्टोरेंट होते हुए गोवर्धन चौराहा से भूतेश्वर की ओर जायेंगे। भरतपुर गेट से डीग गेट की तरफ जाने वाले सभी वाहन पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगे।

प्रतिबंधित मार्ग :

– धौलीप्याऊ तिराहा से स्टेट बैक चौराहे की तरफ सभी चार पहिया/भारी वाहन प्रतिबंधित।
– टैंक चौराहे से स्टेट बैंक चौराहे की ओर सभी चार पहिया/भारी वाहन प्रतिबंधित।
– कृष्णापुरी तिराहा (सदरबाजार) से सभी भारी वाहन प्रतिबंधित।
– गोकुल बैराज तिराहा से टैंक चौराहे की ओर सभी भारी वाहन प्रतिबंधित।
– गोकुल रेस्टोरेण्ट से मसानी की ओर सभी भारी वाहन प्रतिबंधित।
– वृंदावन / मसानी से मथुरा शहर की ओर सभी छोटे /भारी वाहन प्रतिबंधित।
– गोवर्धन चौराहे से भूतेश्वर चौराहे की ओर सभी छोटे/ भारी वाहन प्रतिबंधित।

डायवर्जन :

-जिन वाहनों को गोकुल रेस्टोरेंट से मसानी होते हुए यमुना एक्सप्रेस-वे को जाना है वो वाहन टाउन शिप से गोकुल बैराज, लक्ष्मीनगर होते हुए यमुना एक्सप्रेस-वे जाएंगे।
– इसी प्रकार से जिन वाहनों को यमुना एक्सप्रेस-वे से वृंदावन से मसानी होते हुए मथुरा को आना है वो वाहन राया कट से लक्ष्मीनगर होते हुए आ सकेंगे।

– गोविंद नगर गेट से जन्म भूमि की ओर किसी भी वाहन को आने-जाने की अनुमति नहीं होगी। डीग गेट से जन्म स्थान के सामने की सड़क पोतरा कुंड तक, पोतरा कुंड महाविद्या कॉलोनी पोतरा कुंड रेलवे क्रॉसिंग के पास तथा जगन्नाथ पुरी पोतरा कुंड के सामने जगन्नाथपुरी की ओर से पोतरा कुंड की दूसरी साइड से किसी भी प्रकार के वाहन को आने-जाने की अनुमति नहीं दी गयी है।
– भूतेश्वर तिराहे से आगे कोई भी वाहन डींगगेट/ श्रीकृष्ण जन्म स्थान की ओर नहीं जायेगा। गणेशरा कट/जन्मभूमि लिंक रोड़ से कोई भी वाहन किसी भी दशा में पोतरा कुण्ड की और नहीं जाने दिया जाएगा।

Continue Reading

प्रदेश

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की देखभाल करेगी योगी सरकार, हर महीने देगी 4 हजार रुपये

Published

on

By

उत्तर प्रदेश में कोरोना महामारी से अनाथ हुए बच्चों की देखभाल के लिए राज्य सरकार हर महीने चार हजार रुपए देगी। शनिवार को इसके लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बाल सेवा योजना की शुरुआत की। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना के दौरान जिन बच्चों ने अपने माता-पिता को खो दिया है उनकी पूरी जिम्मेदारी सरकार उठाएगी। कोरोना के दौरान अनाथ हुई बेटियों की शादी में भी सरकार 1.10 लाख रुपए देगी।

मुख्यमंत्री ने क्या ऐलान किया?

  1. कोविड में अनाथ हुए बच्चों की पढ़ाई, विवाह का खर्च सरकार की तरफ से दी जाएगी।
  2. ऑनलाइन पढ़ाई के लिए ऐसे बच्चों को लैपटॉप और टैबलेट सरकार देगी।
  3. हर महीने ऐसे बच्चों की परवरिश के लिए 4 हजार रुपए दिए जाएंगे।
  4. जिन बच्चों की उम्र 10 साल से कम है और जिनके गार्जियन नहीं हैं, उन्हें राज्य के बाल संरक्षण गृह में रखा जाएगा, सरकार उनकी देखरेख करेगी।
  5. अनाथ बालिकाओं की शादी हेतु सरकार 1.10 लाख रुपए सहायता के रूप में देगी।

555 बच्चों को किया जा चुका है चिन्हित : कोरोनाकाल में अनाथ हुए 555 बच्चों को अब तक चिन्हित किया जा चुका है। इसके अलावा सभी जिलों के डीएम से भी रिपोर्ट मांगी गई है। महिला कल्याण विभाग के निदेशक मनोज कुमार राय ने बताया की सभी जनपदों के डीएम को ऐसे सभी बच्चों की सूची तैयार कर भेजने के आदेश दिए हैं। जिससे ऐसे सभी बच्चों के संबंध में सूचनाएं संबंधित विभागों, जिला प्रशासन को पूर्व से प्राप्त सूचनाओं, चाइल्ड लाइन, विशेष किशोर पुलिस इकाई, गैर सरकारी संगठनों, ब्लॉक तथा ग्राम बाल संरक्षण समितियों, कोविड रोकथाम के लिए विभिन्न स्तरों पर गठित निगरानी समितियों और अन्य बाल संरक्षण हितधारकों के सहयोग व समन्वय किया जा रहा है।

नड्‌डा ने दिए थे बेसहारा बच्चों के लिए योजना लाने का निर्देश : भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्‌डा ने बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को 22 मई को चिट्ठी लिखी थी। पार्टी अध्यक्ष ने पत्र में कहा था कि 30 मई को केंद्र सरकार के 7 साल पूरे हो रहे हैं। इस अवसर पर हमारे मुख्यमंत्री किसी भी प्रकार का कोई उत्सव या कार्यक्रम नहीं करेंगे। नड्‌डा ने भाजपा के मुख्यमंत्रियों से कहा था कि देश महामारी के दौर से गुजर रहा है, ऐसे में कोरोना से बेसहारा हुए बच्चों के लिए कार्यक्रम करें और जरूरतमंदों की मदद करें। उन्होंने पत्र में लिखा था कि मैं मुख्यमंत्रियों से निवेदन करना चाहूंगा कि वे महामारी में अनाथ हुए बच्चों के लिए कोई योजना बनाएं जिससे वे आगे अपने पैरों पर खड़े हो सकें।

Continue Reading

प्रदेश

सीएम शिवराज सिंह चौहान हरिद्वार पहुंचे,विश्वविद्यालय में आयोजित पौधारोपण व अन्य कार्यक्रमों में भाग लेंगे

Published

on

By

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हरिद्वार पहुंचे। गायत्री तीर्थ शांतिकुंज में देव संस्कृति विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति डॉ चिन्मय पंड्या ने उनका स्‍वागत किया। दोपहर वे गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के स्‍वर्ण जयंती वर्ष के तहत देव संस्कृति विश्वविद्यालय में आयोजित पौधारोपण व अन्य कार्यक्रमों में भाग लेंगे।

गायत्री तीर्थ शांतिकुंज के प्रमुख डा. प्रणव पंड्या से भी शिष्टाचार भेंट करेंगे। इसके बाद वह पतंजलि योग पीठ में व्‍याख्‍यान में भाग लेंगे। सीएम शिवराज शुक्रवार को कनखल स्थित हरिहर आश्रम में श्रीपंच दशनाम जूना अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि के आश्रम में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेंगे।

सीएम शिवराज ने ट्वीट कर लिखा पावन मां गंगा के तट पर स्थित हरिद्वार में श्री प्रज्ञेश्वर महादेव जी महाकाल मंदिर में दर्शन-पूजन कर देशवासियों के कल्याण, सुख-समृद्धि की कामना की। श्री महादेव जी की कृपा हम सभी पर बनी रहे, सभी की मनोकामनाएं पूर्ण हों।

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

छत्तीसगढ़2 days ago

बड़ी उपलब्धि: कायाकल्प स्वच्छ अस्पताल योजना में जिला अस्पताल को 89.1% अंक हासिल कर छत्तीसगढ़ में मिला पहला स्थान, डॉ राजीव तिवारी ने स्वास्थ्य कर्मियों का जताया आभार

जिला अस्पताल में पदस्थ अस्थि रोग विशेषज्ञ डॉ राजीव तिवारी ने कहा कि हमारे बलरामपुर जिला अस्पताल  के सभी स्वास्थ्य...

छत्तीसगढ़2 days ago

छत्तीगढ़ के बेटे का हुआ इसरो में चयन : बचपन का सपना हुआ साकार,मां ने बताई अपने बेटे की इमोशनल जर्नी.

बिलासपुर : कहते हैं, जिंदगी में कुछ करने के लिए लगन और मेहनत की आवश्यकता होती है। सफलता जरूर मिलेगी।...

छत्तीसगढ़5 days ago

उत्तर भारत में कोहरे और चक्रवात का असर, आधा दर्जन से अधिक ट्रेनों को चक्रवात के कारण रद

उत्तर भारत में घने कोहरे के कारण जहां कई ट्रेनों का संचालन रद करने के साथ मार्ग परिवर्तित किया गया...

छत्तीसगढ़5 days ago

छत्तीसगढ़ में खराब मौसम का अलर्ट जारी, जवाद चक्रवात के कारण ये 7 ट्रेनें रद्द

अंडमान सागर और उसके आसपास एक कम दबाव का क्षेत्र बन रहा है। मौसम विभाग का कहना है कि यह...

छत्तीसगढ़6 days ago

धान बेचने में मदद के लिए किसान सहयोग समिति का गठन,छत्‍तीसगढ़ में धान खरीदी शुरू, दतरेंगा में अभी तक 16 किसानों ने 384 क्विंटल धान बेचा

छत्‍तीसगढ़ में एक दिसंबर से धान खरीदी शुरू हो गई है। बुधवार को दतरेंगा धान खरीदी केंद्र में सुबह से खरीदी...

#Exclusive खबरे

Calendar

December 2021
S M T W T F S
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293031  

निधन !!!

Advertisement

Trending