Connect with us

देश - दुनिया

खास ग्राहकों को FD पर मिलेगा 0.80 फीसदी ज्‍यादा ब्‍याज

Published

on

देश के सबसे बड़े कर्जदाता स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया ने कोरोना संकट के बीच मई 2020 में स्‍पेशल फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट स्‍कीम शुरू की थी. इसके तहत वरिष्‍ठ नागरिकों को अतिरिक्‍त 0.30 फीसदी ब्‍याज दिया जाता है. इस योजना का नाम एसबीआई वीकेयर डिपॉजिट स्‍कीम है. ये योजना सितंबर 2021 में समाप्‍त होने वाली थी, जिसे अब 31 मार्च 2022 तक के लिए बढ़ा दिया गया है. बता दें कि एसबीआई ने इस स्‍कीम की अवधि 5वीं बार बढ़ाई है.

5 साल या ज्‍यादा के जमा पर मिलेगा फायदा

एसबीआई वीकेयर डिपॉजिट स्‍कीम के तहत वरिष्‍ठ नागरिकों को 5 साल या उससे ज्यादा की अवधि के खुदरा सावधि जमा ए लागू ब्याज दर से 0.30 फीसदी अतिरिक्‍त ब्याज दिया जाता है. आसान शब्‍दों में समझें तो वरिष्‍ठ नागरिक वीकेयर डिपॉजिट स्‍कीम में निवेश कर सामान्‍य से 0.80 फीसदी ज्‍यादा ब्‍याज हासिल कर सकते हैं. बता दें कि एसबीआई वरिष्‍ठ नागरिकों को फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर आम ग्राहकों के मुकाबले 0.50 फीसदी ज्‍यादा ब्‍याज देता है. बैंक फिलहाल 5 साल के डिपॉजिट पर सालाना 5.40 फीसदी ब्‍याज दे रहा है.

2 करोड़ से कम के जमा पर मिलेगा लाभ

एसबीआई सामान्‍य तौर पर वरिष्‍ठ नागरिकों को एफडी पर 5.90 फीसदी सालाना ब्‍याज उपलब्‍ध कराता है. अब अगर सीनियर सिटीजन ने वीकेयर डिपॉजिट स्‍कीम में एफडी कराई है तो उसे 0.30 फीसदी अतिरिक्‍त ब्‍याज मिलेगा. दूसरे शब्‍दों में कहें तो वरिष्‍ठ नागरिकों को 5 साल की एफडी पर 6.20 फीसदी सालाना ब्‍याज मिलेगा. ये दरें 8 जनवरी 2021 से प्रभावी हैं. यह ब्‍याज दर रिटेल टर्म डिपॉजिट यानी 2 करोड़ रुपये से कम के जमा पर हैं.

कब नहीं मिलेगा अतिरिक्‍त ब्‍याज का फायदा

एसबीआई की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, एसबीआई वीकेयर डिपॉजिट के तहत मिलने वाले अतिरिक्‍त ब्‍याज का फायदा नए अकाउंट और रिन्‍युअल कराने पर मिलेगा. इसमें एक शर्त भी है कि अगर आप मैच्‍योरिटी से पहले निकासी  करेंगे तो आपको अतिरिक्‍त ब्‍याज का फायदा नहीं मिलेगा. यही नहीं आपको 0.50 फीसदी तक का जुर्माना भी देना पड़ सकता है.

एसबीआई बीकेयर के लिए ब्याज दरें

– योजना के तहत वरिष्‍ठ नागरिकों को 7-45 दिन के डिपॉजिट पर 3.4 फीसदी ब्‍याज मिलेगा.
– इसके अलावा 46-179 दिन के फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर 4.4 फीसदी ब्‍याज दर लागू है.
– एसबीआई 180-210 दिन के फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर 4.9 फीसदी दे रहा है.
– 211 दिन से लेकर 1 साल से कम अवधि के डिपॉजिट पर 4.9 फीसदी ब्‍याज मिलेगा.
– 1 साल से लेकर 2 साल से कम अवधि के एफडी पर 5.5 फीसदी ब्‍याज दिया जाएगा.
– स्‍टेट बैंक 2 साल से लेकर 3 साल से कम के जमा पर 5.6 फीसदी ब्‍याज दे रहा है.
– इसके अलावा 3 साल से लेकर 5 साल से कम के डिपॉजिट पर 5.8 फीसदी ब्‍याज दर है.
– सबसे ज्‍यादा 6.20 फीसदी ब्‍याज 5 से लेकर 10 साल तक के डिपॉजिट पर मिलेगा.

Advertisement
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

देश

राजधानी दिल्ली में मंकीपॉक्स का दूसरा केस आया सामने,लगातार बढ़ रहा है ख़तरा

Published

on

By

देश की राजधानी दिल्ली में मंकीपॉक्स का दूसरा मरीज मिला है. दिल्ली में रहने वाला 35 साल का नाइजीरियाई शख्स मंकीपॉक्स वायरस से संक्रमित पाया गया है.दिल्ली में सोमवार को मंकीपॉक्स का दूसरा मामला सामने आया है. दिल्ली में रहने वाला 35 साल का नाइजीरियाई शख्स मंकीपॉक्स से संक्रमित पाया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक मरीज का हाल में यात्रा का कोई इतिहास भी नहीं रहा है. इसके साथ ही देश में Monkeypox संक्रमितों का कुल आंकड़ा बढ़कर छह पहुंच गया है.रविवार और सोमवार को भी अफ्रीकी मूल के संदिग्ध अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती हुए हैं, जिनकी रिपोर्ट आना बाकी अभी है. संदिग्धों को बुखार और त्वचा संबंधी दिक्कत है. यह मरीज पिछले एक साल से दिल्ली में रह रहे हैं. नाइजीरियाई नागरिक को इलाज के लिए दिल्ली सरकार द्वारा संचालित नोडल अस्पताल एलएनजेपी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है. संक्रमित व्यक्ति को पिछले पांच दिनों से छाले और बुखार है. यह दिल्ली में मंकीपॉक्स से संक्रमित पाया गया दूसरा व्यक्ति है.अभी तक कुल चार संक्रमित केसभारत में केरल से 13 जुलाई को मंकीपॉक्स का पहला मामला सामने आया था. इसके बाद अभी तक कुल 6 संक्रमित सामने आ चुके हैं. दुनिया भर में मंकीपॉक्स का कहर बढ़ता जा रहा है. अफ्रीका से निकलकर मंकीपॉक्स का संक्रमण बीते कुछ दिनों में ही 75 से अधिक देशों में पहुंच गया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने बीते दिनों 20 हजार से अधिक लोगों के मंकीपॉक्स से संक्रमित होने की पुष्टि की थी।

केरल में 22 साल के व्यक्ति की मौत

केरल में त्रिशूर के एक निजी अस्पताल में 22 वर्षीय व्यक्ति की कथित तौर पर मंकीपॉक्स के कारण मौत हो गई थी. केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने रविवार को कहा कि 22 वर्षीय युवक की मौत के कारणों की जांच करेंगे, जो हाल में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से लौटा था और एक दिन पहले कथित रूप से मंकीपॉक्स के कारण उसकी मौत हो गई थी।

इसे भी पढ़िये :-

पेट्रोल और डीजल के साथ सीएनजी के बढ़े दाम,महंगाई का बड़ा झटका

Continue Reading

देश

मंकीपॉक्स से 23 साल के युवक की मौत,बढ़ रहा है वायरस का खतरा

Published

on

By

Monkeypox Virus: मंकीपॉक्स के लक्षणों वाले एक मरीज की केरल में मौत हो गई है. ऐसे में इस वायरस से खतरा बढ़ गया है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि मंकीपॉक्स से बचाव के लिए सख्त कदम उठाने होंगे.दुनियाभर में मकीपॉक्स वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक, अब तक इस वायरस के 18 हजार से ज्यादा मामले आ चुके हैं और 75 देशों में मंकीपॉक्स फैल चुका है. इसे देखते हुए WHO ने इसे पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी भी घोषित किया है. इस बीच भारत में भी चार मामलों की पुष्टि हो चुकी है. चिंता वाली बात यह है कि केरल में मंकीपॉक्स के एक पॉजिटिव मरीज की मौत हो गई है. यह मरीज यूएई से भारत लौटा था और त्रिशुर के अस्पताल में इलाज करा रहा था. हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि युवक की मौत मंकीपॉक्स से हुई है या नहीं. अभी इसकी जांच की जा रही है. स्वास्थ्य विभाग रिपोर्ट आने का इंतजार कर रहा है.जिस युवक की मौत हुई है उसकी उम्र 23 साल थी. इतनी कम उम्र में मौत होने से मंकीपॉक्स के बढ़ते खतरे को लेकर चिंता भी बढ़ गई है. भले ही अभी मरीज की मौत के कारणों का पता नहीं चला है, लेकिन ये मरीज मंकीपॉक्स पॉजिटिव था और कुल चार मरीजों में से एक की मौत हो जाना यह दर्शा रहा है कि ये वायरस कितना खतरनाक है. एक्सपर्ट्स भी शुरुआत से कह रहे हैं कि मंकीपॉक्स से युवाओं को अधिक खतरा हो सकता है।

क्योंकि इन लोगों को स्मॉलपॉक्स की वैक्सीन नहीं लगी है. चूंकि अब एक संक्रमित की मौत हुई है. ऐसे में यह आशंका जताई जा रही है कि मंकीपॉक्स वायरस युवाओं के लिए खतरनाक न साबित हो.इस बारे में नई दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के क्रिटिकल केयर डिपार्टमेंट के प्रोफेसर डॉ. युद्धवीर सिंह कहते हैं कि अगर यंग मरीज की मंकीपॉक्स कि वजह से मौत हुई है तो ये चिंता का कारण है. ऐसे में यह जरूरी है कि मरीज मौत के कारणों की सही जानकारी मिले और उसके आधार पर मंकीपॉक्स को लेकर रणनीति बनाई जाए.डॉ. सिंह बताते हैं कि मंकीपॉक्स यंग लोगों को परेशान कर सकता है. क्योंकि 1980 से पहले जन्मे लोगों को तो स्मॉलपॉक्स का टीका लग गया था, लेकिन 1980 में स्मॉलपॉक्स महामारी दुनियाभर मे खत्म हो गई थी. इसके बाद इस वायरस के खिलाफ टीकाकरण बंद हो गया था।

ऐसे में जो लोग 42 से कम उम्र के हैं उन्हें मंकीपॉक्स को लेकर सतर्क रहना होगा. क्योंकि ये वायरस शरीर में पहुंचने के बाद अन्य ऑर्गन को भी नुकसान पहुंचा सकता है.डॉ. सिंह के मुताबिक, मंकीपॉक्स से ब्रेन इंसेफेलाइटिस हो सकता है. इस बीमारी में दिमाग में सूजन आ जाती है और मरीज की हालत गंभीर हो जाती है. कई मामलों में निमोनिया होने की आशंका रहती है. ऐसे में यह देखना होगा कि जिस मरीज की मौत मौत हुई है उसको मंकीपॉक्स से कोई कॉम्पलिकेशन तो नहीं हुआ है. हालांकि इसमें से किसी भी थ्योरी को लेकर कोई मेडिकल स्टडी नहीं हुई है. ऐसे में इन सभी पहलुओं पर रिसर्च किए जान की जरूरत है।

मंकीपॉक्स में म्यूटेशन तो नहीं हो रहा?

डॉ. युद्धवीर कहते हैं कि जिस हिसाब से इस बात मंकीपॉक्स के मामले बढ़ रहे हैं. इसे देखते हुए इस वायरस के स्ट्रेन की जांच भी जरूरी है. क्योंकि अभी तक यह पता नहीं चल पा रहा है कि इस बार मंकीपॉक्स क्यों फैल रहा है. ऐसे में यह भी देखना होगा कि मंकीपॉक्स के वायरस में कोई म्यूटेशन तो नहीं हो रहा है. इससे इलाज और बचाव में मदद मिलेगी. चूंकि अभी भारत में मंकीपॉक्स को जो स्ट्रेन मिला है वो काफी पुराना है, लेकिन फिर भी ये वायरस क्यों फैल रहा है इसके कारणों की जांच भी करना जरूरी है.

कोविड की वजह से बढ़ी है परेशानी

स्वास्थ्य नीति और महामारी विशेषज्ञ डॉ. अंशुमान कुमार बताते हैं कि कोरोना वायरस ने दुनियाभर की आबादी को संक्रमित किया है. इसकी चपेट में आए लोगों की इम्यूनिटी कमजोर हुई है. इस वायरस ने लंग्स की क्षमता को भी प्रभावित किया है. कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता की वजह से मंकीपॉक्स भी आसानी से लोगों को संक्रमित कर रहा है. ऐसे में मंकीपॉक्स के तेजी से बढ़ने का एक कारण कोविड भी हो सकता है. हालांकि इसको लेकर अभी कोई मेडिकल प्रमाण नहीं है, लेकिन जिस तेजी से वायरस बढ़ रहा है उसको देखते हुए सख्त कदम उठाने होंगे.डॉ. अंशुमान के मुताबिक, इस समय लोगों को मंकीपॉक्स वायरस के बारे में जागरूक करना जरूरी है. इसके लक्षणों की पहचान के बारे में जानकारी देनी चाहिए. ये वायरस संक्रमित जानवरों ह्यूमन टू ह्यूमन ट्रांसमिशन और यौन संबंध बनाने से फैलता है. वायरस के बारे में जितनी जागरूकता बढ़ेंगी उतना ही अच्छा है।

इसे भी पढ़िये :-

AIIMS Rajkot की ओर से निकली असिस्टेंट प्रोफेसर समेत कई पदों पर भर्तियां,जानें आवेदन की तिथि

Continue Reading

देश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी साबर डेयरी की कई परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया

Published

on

By

गुजरात पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज साबर डेयरी की कई परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया. कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज साबर डेयरी का विस्तार हुआ है. सैकड़ों करोड़ रुपए के नए प्रोजेक्ट यहां लग रहे हैं. आधुनिक टेक्नॉलॉजी से लैस मिल्क पाउडर प्लांट और ए-सेप्टिक पैकिंग सेक्शन में एक और लाइन जुड़ने से साबर डेयरी की क्षमता और अधिक बढ़ जाएगी.आज साबर डेयरी का विस्तार हुआ है। सैकड़ों करोड़ रुपए के नए प्रोजेक्ट यहां लग रहे हैं। आधुनिक टेक्नॉलॉजी से लैस मिल्क पाउडर प्लांट और ए-सेप्टिक पैकिंग सेक्शन में एक और लाइन जुड़ने से साबर डेयरी की क्षमता और अधिक बढ़ जाएगी।

भग शून्य उत्सर्जन वाले इस संयंत्र में ऊर्जा की काफी कम खपत होती है. यह संयंत्र नवीनतम और पूरी तरह से स्वचालित बल्क पैकिंग लाइन से सुसज्जित है. प्रधानमंत्री साबर डेयरी में एसेप्टिक मिल्क पैकेजिंग प्लांट का भी उद्घाटन करेंगे. इसके अलावा वह साबर चीज एंड व्हे ड्रायिंग प्लांट परियोजना की आधारशिला भी रखेंगे. साबर डेयरी गुजरात को-ऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन (जीसीएमएमएफ) का एक हिस्सा है, जो अमूल ब्रांड के तहत दूध और दूध उत्पादों की एक पूरी श्रृंखला का उत्पादन और उसका विपणन करती है. इसके बाद पीएम मोदी गांधीनगर के गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक-सिटी (गिफ्ट सिटी) में देश के पहले अंतरराष्ट्रीय बुलियन एक्सचेंज की शुरुआत करेंगे. वह इस दौरान अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र प्राधिकरण के मुख्यालय भवन की आधारशिला भी रखेंगे।

इसे भी पढ़िये :-

असिस्टेंट सर्जन पदों पर भर्ती,नोटिफिकेशन जारी,जानें आवेदन की तिथि

Sukanya Samriddhi Yojana : बदल गए सुकन्या समृद्धि योजना के ये 5 नियन,जानिए बदलाव

खाद्य तेल की कीमतों में गिरावट,जानें कितना रुपये गिरे दाम

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

छत्तीसगढ़4 days ago

छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री दाई-दीदी क्लीनिक योजना चलाई जा रही,महिलाओं और बच्चियों को मिल रहा है आसानी से इलाज

छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री दाई-दीदी क्लीनिक योजना का लाभ प्रदेश की गरीब महिलाओं और बच्चियों को मिल रहा है. अब तक...

छत्तीसगढ़2 weeks ago

District Hospital : शाॅर्ट सर्किट के कारण बिजली चली गई जिससे नवजात बच्चे की मौत,लापरवाही से यह घटना सामने आई

कोरबा। जिला अस्पताल में एक बड़ी घटना घटी गई है.जहां शाॅर्ट सर्किट के कारण अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड की बिजली...

छत्तीसगढ़2 weeks ago

यात्रियों को बड़ा झटका : 20 ट्रेनों को किया रद्द,देखें लिस्ट

बिलासपुर : ट्रेनों के कैंसिल होने से रेल यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसी बीच SECR...

क्राइम न्यूज़2 weeks ago

CG Crime News : नाबालिग का अपहरण कर किया सामूहिक , दुष्कर्म

Manendragarh : कोरिया जिले के मनेंद्रगढ़ में एक नाबालिग का अपहरण कर सामूहिक दुष्कर्म करने की सनसनीखेज घटना सामने आयी...

छत्तीसगढ़3 weeks ago

CG News: खेलते-खेलते 6 साल का मासूम हुआ गायब, परिजन ने दर्ज कराई गुमशुदगी की रिपोर्ट

  भिलाई में 6 साल का बच्चा तीन दिनों से लापता है। अब तक पुलिस को उसका कोई सुराग नहीं...

#Exclusive खबरे

Advertisement

Calendar

August 2022
M T W T F S S
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031  
Advertisement
Advertisement

Trending