Connect with us

यूपी

यूपी चुनाव : मौर्य के साथ 6 अन्य विधायकों ने सपा में सदस्यता ग्रहण की

Published

on

पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के लिए प्रत्याशियों का एलान होना शुरू हो गया है। राजनीतिक उठापठक के बीच चुनाव जीतने के लिए राजनीतिक दलों ने पूरी ताकत झोंक दी है।14 जनवरी उप्र में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार से बगावत कर इस्तीफा देने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य ने कुछ पूर्व मंत्रियों के साथ समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के समक्ष पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

भाजपा विधायक जिन्होंने पहले अपना इस्तीफा दे दिया था, वे भी सपा प्रमुख अखिलेश यादव की उपस्थिति में पार्टी कार्यालय में समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए। नेताओं के दल बदलने का सिलसिला भी जारी है। इन सबके साथ राजनीतिक नेताओं की बयानबाजी और गुटबाजी भी अब सामने आने लगी है।

स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ 6 अन्य विधायकों ने सपा की सदस्यता ग्रहण की

स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ 6 अन्य विधायकों ने सपा की सदस्यता ग्रहण की. अपना दल (एस) के विधायक अमर चौधरी और बीजेपी के विधायक विनय शाक्य, रोशनलाल वर्मा, मुकेश वर्मा, भगवती सागर और बृजेश प्रजापति आज समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए.

अखिलेश यादव
सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने कहा कि हमारा गठबंधन 400 सीटें भी जीत सकता है. जनता बीजेपी सफाया करने के लिए तैयार बैठी है. बीजेपी ठोको राज चला रही है. स्वामी प्रसाद मौर्य जैसे ही हमारी पार्टी में आए उनके खिलाफ पता नहीं किस जमाने का वारंट निकाल दिया?

यूपी

मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव भाजपा में शामिल

Published

on

By

सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की छोटी बहू अपर्णा यादव बुधवार को भाजपा में शामिल हो गईं। उन्होंने पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह व उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की मौजूदगी में भाजपा की सदस्यता ली।इस मौके पर अपर्णा ने कहा कि वह मुख्यमंत्री योगी व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों से बेहद प्रभावित रही हैं। आगे पार्टी जो भी जिम्मेदारी तय करेगी वह उसे निभाएंगी।

इस मौके पर केशव प्रसाद मौर्य ने अखिलेश यादव पर तंज भी कसा और कहा कि अखिलेश यादव अपना परिवार नहीं संभाल पाए हैं।केशव ने कहा कि हम अपर्णा का अपने भाजपा परिवार में स्वागत करते हैं। वह समय-समय पर भाजपा सरकार की लोक कल्याणकारी योजनाओं का समर्थन करती रही हैं। केशव कहा कि अखिलेश यादव चुनाव में हार से इतने भयभीत हैं कि वह लड़ने के लिए विधानसभा सीट तक नहीं तय कर पा रहे हैं। वो कहते हैं कि विकास किया है।

अगर विकास किया है तो उसी सीट से चुनाव लड़ें, जहां विकास किया है।कयास लगाए जा रहे हैं कि अपर्णा लखनऊ कैंट सीट से चुनाव लड़ सकती हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में भी वह इसी सीट से चुनावी मैदान में थीं। हालांकि, उन्हें हार मिली थी। इसी सीट पर भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने भी अपने बेटे के लिए भाजपा से टिकट मांगा है। उन्होंने यहां तक कहा था कि अगर यह नियम है कि किसी सांसद के बेटे को टिकट नहीं दी जाएगी तो मैं प्रयागराज लोकसभा सीट से इस्तीफा भी देने के लिए तैयार हूं।विधानसभा चुनाव के ठीक पहले उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी को बड़ा झटका लगा।

मुलायम सिंह की छोटी बहू अपर्णा यादव बुधवार को भाजपा में शामिल हो गईं। उन्हें दिल्ली के पार्टी मुख्यालय में उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पार्टी की सदस्यता दिलाई। बताया जा रहा है कि वे लखनऊ कैंट से टिकट नहीं मिलने से अखिलेश से नाराज थीं। अपर्णा मुलायम सिंह यादव के छोटे बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं।अपर्णा ने भाजपा की सदस्यता लेने के बाद पीएम मोदी और सीएम योगी का आभार जताया। उन्होंने कहा कि मैं राष्ट्र की आराधना करने निकली हूं। मुझे आपका सहयोग बहुत जरूरी है। स्वच्छ भारत मिशन, महिलाओं के स्वावलंबन ओर पार्टी की अन्य योजनाओं से बहुत प्रभावित रही हूं। जो भी कर सकूंगी, पूरी क्षमता से करूंगी।

अपर्णा के भाजपा में आने से पार्टी का कद बढ़ेगा
अपर्णा को पार्टी की सदस्यता दिलाते हुए स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि अपर्णा के भाजपा में आने से पार्टी का कद बढ़ेगा। केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि मोदी जी के नेतृत्व में देश-प्रदेश का विकास हो रहा है। अखिलेश यादव सांसद और मुख्यमंत्री के तौर पर असफल रहे। बार-बार कहते थे कि हर योजना हमने शुरू की है।अपर्णा यादव के भाजपा में शामिल होने की खबरें पिछले तीन दिनों से चल रही थीं।

तब अपर्णा के करीबियों ने दावा किया कि अब अपर्णा भाजपा में शामिल नहीं होंगी। परिवार में सब-कुछ ठीक है। शिवपाल ने भी अपर्णा को परिवार की पार्टी में रहने की सलाह दी थी। साथ ही अखिलेश ने भी कहा था कि परिवार में सब ठीक है। फिर अचानक ऐसा क्या हुआ कि अपर्णा पार्टी भाजपा में शामिल हो गईं।अपर्णा के साथ मुलायम सिंह यादव।

अखिलेश का परिवार के किसी भी सदस्य को टिकट देने से इंकार

अपर्णा यादव के भाजपा में शामिल होने के पीछे अखिलेश यादव का वो फैसला है, जिसने परिवार में भूचाल ला दिया है। सूत्रों का दावा है कि अखिलेश यादव ने फैसला किया है कि इस बार किसी भी कीमत पर परिवार के किसी भी सदस्य को टिकट नही देंगे। अखिलेश के इस फैसले के बाद ही अपर्णा ने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया।

मुलायम ने भी अखिलेश से मांगी थी अपर्णा के लिए टिकट

मुलायम परिवार के सूत्रों की मानें तो अपर्णा हर कीमत पर इस बार विधानसभा का चुनाव लड़ना चाहती हैं। इसको लेकर अपर्णा लगातार मुलायम सिंह यादव पर दबाव डाल रही थींं। सूत्रों का तो यह भी दावा है कि मुलायम सिंह यादव ने अपर्णा के टिकट के लिए अखिलेश से भी बात की थी,लेकिन कोई नतीजा नही निकला।

जब अपर्णा की भाजपा ज्वाइन करने की बात शुरु हुई तो फिर परिवार में कलह मच गई और अपर्णा ने अपना फैसला टाल दिया। कहा गया कि अब अपर्णा परिवार और पार्टी में ही रहेंगी, लेकिन आज अपर्णा आखिरकार भाजपा में शामिल गईं।अपर्णा, मुलायम सिंह यादव के साथ कई जनसभा में जा चुकी हैं

शिवपाल यादव ने भी अपर्णा के लिए अखिलेश से की मुलाकात

भाजपा सूत्रों का दावा है कि अपर्णा से पार्टी में शामिल होने के लिए बातचीत लगातार चल रही थी। इसे बेहद गोपनीय रखा गया। अपर्णा लगातार सीएम योगी के संपर्क में थी। मंगलवार की शाम करीब 3 बजे शिवपाल यादव अखिलेश से मिलने समाजवादी पार्टी के दफ्तर पहुंचे। उस दौरान उनकी कार में अपर्णा के छोटे भाई अमन विष्ट भी मौजूद थे। शिवपाल यादव ने परिवार के सदस्यों के टिकट को लेकर भी बात की। खबर है कि उस दौरान अखिलेश ने परिवार के किसी भी सदस्य को भी टिकट देने से साफ इनकार कर दिया। इसके बाद अपर्णा ने सिग्नल ग्रीन कर दिया।

अपर्णा यादव को मिल सकती है कैंट विधानसभा की सीट

अपर्णा यादव भाजपा से कैंट सीट की दावेदारी भी कर रही है। अपर्णा यादव ने 2017 का विधानसभा चुनाव लखनऊ कैंट सीट से समाजवादी पार्टी के टिकट पर लड़ा था।उन्हें बीजेपी की रीता बहुगुणा जोशी के हाथों हार का सामना करना पड़ा था। उनके लिए अखिलेश यादव ने प्रचार भी किया था। जोशी के सांसद चुने जाने के बाद हुए उप चुनाव में भी बीजेपी ने यह सीट जीत ली थी। पार्टी में शामिल होने के बाद अपर्णा को कैंट सीट मिल सकती है।

 

Continue Reading

यूपी

बीजेपी सांसद रीता बहुगुणा जोशी बेटे मयंक जोशी को लखनऊ कैंट से टिकट के लिए सांसदी भी छोड़ने को तैयार

Published

on

By

बीजेपी सांसद रीता बहुगुणा जोशी अब बेटे मयंक जोशी को लखनऊ कैंट से टिकट के लिए सांसदी भी छोड़ने को तैयार हो गई हैं। उन्होंने इस बारे में भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर अपनी बात कही है। भाजपा ने सांसदों को टिकट देने से इनकार किया है। पार्टी ने एक परिवार एक टिकट का ऐलान किया है।
 राजनीति से संयास लेने को भी तैयार माँ डॉ. रीता बहुगुणा जोशी बेटे को टिकट देने के लिए

डॉ. रीता बहुगुणा जोशी कैंट से अपने बेटे मयंक जोशी के लिए टिकट मांग रही हैं. परिवारवाद का आरोप न लगे, इसके लिए खुद सक्रिय राजनीति से संन्यास तक लेने को तैयार हैं. उन्होंने बकायदा आलाकमान को भी लिखा है. सूत्रों के मुताबिक, पत्र में उन्होंने मयंक जोशी के मल्टीनैशनल कंपनी की नौकरी छोड़कर साल 2019 में लखनऊ आने और बीजेपी संगठन के लिए किए गए कामों की पूरी सूची भी भेजी है.  पिछले दिनों लखनऊ कैंट सीट से डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा के चुनाव लड़ने की खबर सामने आने के बाद सांसद रीता ने पार्टी के तमाम पदाधिकारियों से भी मुलाकात की. केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात के लिए वह दिल्ली भी जा चुकी हैं.

लखनऊ कैंट से दो बार रह चुकी हैं विधायक 
रीता बहुगुणा जोशी लखनऊ कैंट विधानसभा सीट से लगातार दो बार विधायक रहीं हैं.  कांग्रेस में रहते हुए पहली बार वर्ष 2012 के चुनाव में उन्होंने इस सीट से BJP के सुरेश तिवारी को हराया था. इसके बाद वर्ष 2017 में बीजेपी में शामिल होने के बाद वह इस सीट से दोबारा विधायक चुनीं गईं और योगी मंत्रिमंडल में वह कैबिनेट मंत्री भी बनीं. इन दोनों ही चुनाव में उनका पूरा चुनाव प्रबंधन पुत्र मयंक जोशी ने ही संभाला. साल 2019 में लोक सभा चुनाव लड़ने के लिए उन्हें ये सीट खाली करनी पड़ी थी. बाद में उपचुनाव में पार्टी ने उनके बेटे के बजाय किसी और को टिकट दिया था.

रीता बहुगुणा जोशी  उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय एच.एन.बहुगुणा की बेटी हैं. उनकी मां स्वर्गीय कमला बहुगुणा पूर्व सांसद थीं. रीता बहुगुणा ने 1995-2000 तक इलाहाबाद के मेयर का पद संभाला. वह 2012 के राज्य चुनावों में लखनऊ छावनी के लिए विधान सभा की सदस्य चुनी गईं.

Continue Reading

यूपी

गैंगस्टर नाहिद हसन को कैराना से उम्मीदवार बनाकर , पार्टी के सामने बड़ा संकट

Published

on

By

जेल में बंद गैंगस्टर नाहिद हसन को कैराना से उम्मीदवार बनाकर समाजवादी पार्टी मुश्किल में घिर गई है। एडवोकेट अश्विनी उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट में पीआईएल दाखिल कर मांग की है कि सपा की मान्यता रद्द करने का निर्देश दिया जाए। याचिका में कहा गया है कि समाजवादी पार्टी ने कैराना में एक गैंगस्टर को टिकट देकर सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देश का उल्लघंन किया है इसलिए उसकी मान्यता खत्म की जाए सपा ने उम्मीदवार का आपराधिक रिकॉर्ड अपने ट्विटर अकाउंट और वेबसाइट पर जारी नहीं किया।
यह भी कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट चुनाव आयोग को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दे कि सभी राजनीतिक पार्टियां हर उम्मीदवार के क्रिमिनल केस से संबंधित जानकारी और उन्हें टिकट देने की वजह अपने आधिकारिक वेबसाइट पर होम पेज पर प्रकाशित करें।13 जनवरी को सपा ने प्रत्याशियों की पहली सूची जारी की तो कैराना से प्रत्याशी नाहिद हसन का नाम पहले नंबर पर था। 48 घंटे नहीं बीते और गैंगस्टर केस में सपा के विधायक नाहिद हसन को 14 दिन की जेल हो गई है। यह मुकदमा फरवरी 2021 में दर्ज किया गया था। अब पार्टी के सामने बड़ा संकट बन गया।
यूपी में 10 फरवरी से वोटिंग शुरू
यूपी में 10 फरवरी से वोटिंग शुरू हो जाएगी। कुल सात चरणों में वोट पड़ेंगे। आखिरी वोटिंग सात मार्च को होगी। इस ‘चुनाव मंथन’ का अमृत ठीक एक महीने बाद यानी 10 मार्च को निकलेगा। इस दिन यूपी समेत सभी पांच राज्यों (उत्तराखंड, पंजाब, गोवा, मणिपुर भी) के नतीजे आएंगे। चुनाव में आपके काम के कुछ लिंक्स हम नीचे दे रहे हैं। इनमें आपको अपने इलाके में वोटिंग की तारीख, चुनाव का शेड्यूल समेत सभी जानकारियां मिल जाएंगी।
Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

छत्तीसगढ़23 hours ago

छत्तीसगढ़ के सुकमा में भारतीय सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़,बीजापुर इलाके में चार माओवादियों की ढेर ; जवानों को बड़ी कामयाबी मिली

छत्तीसगढ़ के सुकमा में भारतीय सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ चल रही है। राज्य के बस्तर इलाके में दो...

छत्तीसगढ़4 days ago

छत्तीसगढ़ : डीपी शुक्ल उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय भकूर्रा नवापारा में 96 % बच्चों का कोविड टीकाकरण

15 से 18 आयु वर्ग के किशोरों के लिए इन दिनों वैक्सीनेशन अभियान तेजी से चल रहा है। इसमें स्कूलों...

छत्तीसगढ़4 days ago

छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी में परिचारक पदों पर भर्ती प्रस्तावित शारीरिक दक्षता परीक्षा स्थगित

छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत वितरण कंपनी में परिचारक पदों पर भर्ती के लिए प्रस्तावित शारीरिक दक्षता परीक्षा स्थगित कर दी गई...

छत्तीसगढ़6 days ago

जवानों से भरी बस में हादसा : पुलिस जवानों से भरी बस को ट्रक ने मारी टक्कर ,हादसे में 20 पुलिसकर्मी घायल

पुलिस जवानों से भरी बस को शिवरीनारयण क्षेत्र में ट्रक ने टक्कर मार दी। हादसे में 20 पुलिसकर्मी घायल हुए...

छत्तीसगढ़6 days ago

बीते 24 घंटों में छत्‍तीसगढ़ कोरोना के 6,015 नये केस , SI सहित 20 पुलिसकर्मी पाजिटिव

छत्‍तीसगढ़ प्रदेश में कोरोना की रफ्तार लगातार बढ़ता जा रहा है।कोरोना की रफ़्तार रुकने की नाम नई रही है प्रदेश...

#Exclusive खबरे

Calendar

January 2022
S M T W T F S
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  

निधन !!!

Advertisement

Trending