Connect with us

अपनी इन गलतियों के कारण मुसीबतों में पड़े अनिल अंबानी, इस वजह से बिक रहीं उनकी कंपनियां

Published

on

साल 2008 में रिलायंस कम्युनिकेशंस ( RCom ) के चेयरमैन अनिल अंबानी दुनिया के छठवें सबसे अमीर शख्स थे। लेकिन अब ऐसी नौबत आ गई है कि शनिवार को उन्होंने रिलायंस कम्युनिकेशंस के निदेशक पद से इस्तीफा दे दिया। अनिल अंबानी अरबपतियों के क्लब से भी बाहर हो गए हैं।

दिवालिया कानून की प्रक्रिया से गुजर रही कंपनी 

मौजूदा समय में रिलायंस कम्युनिकेशंस दिवालिया कानून की प्रक्रिया से गुजर रही है। शुक्रवार को जारी तिमाही नतीजों के अनुसार कंपनी को 30 हजार करोड़ से अधिक का घाटा हुआ था। यह कॉर्पोरेट इतिहास में वोडाफोन-आइडिया के बाद दूसरा सबसे बड़ा घाटा है। कर्ज चुकाने के लिए कंपनी अपनी संपत्तियों को बेच रही है।

इन लोगों ने भी दिया इस्तीफा

अनिल अंबानी के अलावा छाया विरानी, रायना कारानी, मंजरी काकेर और सुरेश रंगाचर ने भी इस्तीफा दे दिया है। इनमें से अनिल अंबानी, छाया विरानी और मंजरी काकेर ने 15 नवंबर को इस्तीफा दिया। वहीं रायना कारानी ने 14 नवंबर और सुरेश रंगाचर ने 13 नवंबर को इस्तीफा दिया था।

11 साल में इतनी घटी संपत्ति

2008 में अनिल अंबानी के पास 42 अरब डॉलर की संपत्ति थी, जो 11 साल बाद यानी 2019 में घटकर 5230 मिलियन डॉलर यानी करीब 3651 करोड़ रुपये हो गई है। बता दें कि इस संपत्ति में गिरवी वाले शेयर की कीमतें भी शामिल हैं।

रिलायंस ग्रुप पर कुल 1.7 लाख करोड़ का कर्ज 

मार्च 2018 में रिलायंस ग्रुप का कुल कर्ज 1.7 लाख करोड़ रुपये था। 31 मार्च 2019 तक आरकॉम पर करीब 35,600 करोड़ रुपये का कर्ज था।  रिलायंस पावर पर 30,200 करोड़ रुपये, रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर पर 17,800 करोड़ रुपये, रिलायंस कैपिटल पर 38,900 करोड़ रुपये और रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग पर मार्च 2019 तक 7,000 करोड़ रुपये का कर्ज था।

आरकॉम की कुल देनदारियों में 23,327 करोड़ रुपये का लाइसेंस शुल्क और 4,987 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम इस्तेमाल शुल्क शामिल है। आरकॉम और उसकी अनुषंगियों ने 1,210 करोड़ रुपये के ब्याज और 458 करोड़ रुपये के विदेशी विनिमय उतार-चढ़ाव के लिए प्रावधान नहीं किया है।

आइए जानते हैं कैसे अनिल अंबानी कारोबारी जिंदगी में डूबते चले गए।

मुनाफे वाली कंपनी मिलने के बावजूद हुआ घाटा
साल 2005 में जब धीरूभाई अंबानी के 28,000 करोड़ रुपये के रिलायंस ग्रुप का बंटवारा हुआ था, तब मुनाफा कमाने वाला टेलिकॉम सेक्टर अनिल अंबानी को मिला था। साथ ही यह निर्णय लिया गया था कि आगामी 10 वर्षों तक बड़े भाई मुकेश इस क्षेत्र में दखल नहीं देंगे। लेकन तब भी कंपनी को घाटा होता चला गया।

CDMA टेक्नोलॉजी थी अनिल अंबानी की गलती

जानकारों का मानना है कि साल 2002 में रिलायंस इन्फोकॉम की शुरुआत हुई थी। तब अनिल अंबानी ने सीडीएमए टेक्नोलॉजी को चुना था। इस टेक्नोलॉजी की एक बड़ी समस्या थी कि यह केवल 2G और 3G को सपोर्ट करती है। लेकिन भारत में तब 4G की शुरुआत होने वाली थी। इसलिए निवेश के बाद भी वह तकनीक में पिछड़ गए। अन्य टेलिकॉम कंपनियों ने GSM टेक्नोलॉजी को चुना था।

इंफ्रास्ट्रक्चर व मनोरंजन में भी हुआ घाटा

इसके अतिरिक्त इंफ्रास्ट्रक्चर और मनोरंजन में भी उनको फायदा नहीं हुआ। साल 2014 में उनकी पावर और इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनियां बड़े कर्ज में डूब गईं। कर्ज का भुगतान करने के लिए उनके पास केवल कंपनियों को बेचने का ही विकल्प बचा था। उन्होंने कंपनियों को बेचने की शुरुआत की पर बात नहीं बनी। अनिल अंबानी ने एक साथ बड़ा विस्तार किया था और उनकी मुख्य कंपनियां भी उसी दौर में घाटे में आ गईं, जिसकी वजह से वे मुसीबतों से घिर गए। 2005 में ऐडलैब्स और 2008 में उन्होंने 1.2 अरब डॉलर का करार ड्रीमवर्क्स के साथ किया था।

जियो के आने से हुआ और भी नुकसान

एक ओर अनिल अंबानी की कंपनियां घाटे में चल रही थी, वहीं दूसरी ओर उनके भाई मुकेश अंबानी ने टेलिकॉम क्षेत्र में प्रवेश किया। उन्होंने जियो कंपनी लॉन्च की, जिसकी वजह से अन्य सभी टेलिकॉम कंपनियों को झटका लगा। वोडाफोन-आइडिया और एयरटेल की भी इसकी वजह से काफी नुकसान हुआ। जियो के आते ही अनिल अंबानी की मुसीबतें भी और बढ़ गईं। पिछले कुछ सालों में अनिल अंबानी ने बिग सिनेमा, रिलायंस बिग ब्रॉडकास्टिंग और बिग मैजिक जैसी कंपनियों को बेचा है।

7,539 करोड़ रुपये है रिलायंस समूह का बाजार पूंजीकरण

11 जून तक रिलायंस समूह का बाजार पूंजीकरण 7,539 करोड़ रुपये था। अनिल अंबानी की कंपनियों में से सबसे अधिक बाजार पूंजीकरण रिलायंस कैपिटल का, 2,373 करोड़ रुपये था। वहीं रिलायंस कम्युनिकेशंस और रिलायंस पावर का बाजार पूंजीकरण क्रमश: 462 और 1,669 करोड़ रुपये था। रिलायंस नेवल एंड इंजीनियरिंग की बात करें, तो 11 जून तक इस कंपनी का मार्केट कैप 467 करोड़ रुपये था। रिलायंस होम फाइनेंस का पूंजीकरण 860 करोड़ रुपये, वहीं रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर का बाजार पूंजीकरण 1708 करोड़ रुपये था।
Advertisement
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

ज्योतिष

VASTU TIPS FOR KEYS:  घर में इस दिशा में भूलकर भी न रखे चाबी, नही तो घरो में पैदा हो सकती है उलझन की समस्या, वास्तु के अनुसार जाने इसे किस दिशा में  रखना होता है शुभ…

Published

on

 

 

Vastu Tips For Keys: चाबियों का इस्तेमाल सभी के घरों में किया जाता है। अलमारी से लेकर घर के दरवाजे और गाड़ियों की चाबी को रखने के लिए घर में एक स्थान सुनिश्चित होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि यदि गलती से चाबी खो जाती है, तो काफी परेशानी होती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि वास्तु शास्त्र में चाबियों को रखने के लिए भी कुछ नियम बताए गए हैं? जी हां, दरअसल चाबियों को गलत तरीके से रखने से भी आप कई तरह की समस्याओं को आमंत्रित कर सकते हैं। वहीं यदि आप वास्तु में बताए गए नियमों के अनुसार चाबियों को रखते हैं तो घर में सकारात्मकता आती है। वास्तु शास्त्र कहता है कि यदि घर में चाबियां सही जगह रखी हों तो ये शुभ फल देती हैं। ऐसे में आइए जानते हैं वास्तु के अनुसार घर में चाबियों को रखने के लिए क्या नियम है…

ड्राइंग रूम न रखें
वास्तु शास्त्र के अनुसार, कभी भी ड्राइंग रूम में चाबियों को नहीं रखना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि ड्राइंग रूम में चाबियां रखने से बाहर से आने वाले लोग भी उन्हें देखते हैं, जिससे नजर लग जाती है।पूजा स्थान में ने रखें चाबियां
वास्तु के अनुसार घर में पूजा स्थल के आस पास चाबियां नहीं रखनी चाहिए, क्योंकि चाबियां घर से बाहर ले जाने और लाने की वजह से उसमें गंदे हाथ लगते रहते हैं। ऐसे में यदि आप पूजा स्थान में गंदी चाबियों को रखेंगे तो इससे आपको नकारात्मक प्रभाव देखने को मिल सकते हैं।

किचन में भी न रखें चाबियां
रसोईघर में भी चाबियों को रखना शुभ नहीं माना जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि किचन को भी एक शुद्ध स्थान माना जाता है। वास्तु के अनुसार, किचन में भी चाबियों को रखने से आपको बचना चाहिएदिशा का रखें ध्यान
चाबियां धातु की बनी होती हैं। ऐसे में यदि आप घर में चाबी रखने के लिए कोई जगह की तलाश में हैं तो चाबी को लॉबी में पश्चिम की दिशा की ओर रख सकते हैं।

इन बातों का रखें ध्यान 
घर में चाबियों को इधर-उधर रखने के बजाय की-हैंगर का ही इस्तेमाल करें। वास्तु के अनुसार लकड़ी का की-हैंगर काफी शुभ माना जाता है। चाबियों को रखने के लिए ऐसे की-रिंग का इस्तेमाल न करें, जिसमें भगवान की तस्वीर आदि लगी हो।

Continue Reading

छतीसगढ़

बढ़ रहे है कोरोना के केस, बच्चो को ज्यादा खतरा…

Published

on

By

देश में पिछले एक महीने से कोरोना संक्रमण के मामले में लगातार उतार-चढ़ाव का दौर जारी है। बुधवार को पिछले चार महीने में पहली बार एक दिन में सबसे ज्यादा लोगों में संक्रमण की पुष्टी की गई, इस दौरान 18,819 लोगों को संक्रमण का शिकार पाया गया। विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना के नए वैरिएंट्स ने सभी लोगों में संक्रमण के जोखिम को बढ़ा दिया है, इस खतरे को समझते हुए इससे बचाव को लेकर सावधानी बरतते रहना बहुत आवश्यक है। ओमिक्रॉन और इसके सब-वैरिएंट्स को बढ़ते संक्रमण के प्रमुख कारक के तौर पर देखा जा रहा है, इन्हें अध्ययनों में अति संक्रामक वैरिएंट्स के तौर पर वर्गीकृत किया गया है।

स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते हैं, फिलहाल कोरोना के संक्रमण से किसी को भी सुरक्षित नहीं माना जाता सकता है। भले ही आपने वैक्सीनेशन करा लिया है फिर भी संक्रमण से बचे रहने के लिए सभी लोगों को कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर का पालन करते रहना चाहिए।

अब तक के अध्ययनों में बताया जाता रहा है कि बच्चों में संक्रमण का खतरा कम होता है, हालांकि एक हालिया अध्ययन में वैज्ञानिकों ने पाया है कि नवजात बच्चे भी संक्रमण का शिकार हो सकते हैं, कैसे, आइए जानते हैं?

मां से बच्चों में संक्रमण का जोखिम

महाराष्ट्र में किए गए इस अध्ययन में डॉक्टर्स ने पाया कि अगर मां, कोरोना से संक्रमित है तो उससे नवजात शिशुओं में भी वायरस का संचरण हो सकता है, इतना ही नहीं अगर गर्भावस्था के दौरान महिला संक्रमित रही है तो बच्चा संक्रमण के साथ भी जन्म ले सकता है।

पुणे में 304 नवजात शिशुओं (301 माताओं से) पर किए गए इस शोध में विशेषज्ञों ने पाया कि 15 में से एक बच्चे को मां से कोविड-19 का संक्रमण हो सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि इस जोखिम को लेकर सभी को अलर्ट रहने की आवश्यकता है।

अध्ययन में क्या पता चला?

पुणे के बीजे मेडिकल कॉलेज और ससून जनरल हॉस्पिटल तथा मुंबई के नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर रिसर्च इन रिप्रोडक्टिव हेल्थ के विशेषज्ञों ने यह अध्ययन किया। जून 2020 से दिसंबर 2021 तक किए गए अध्ययन में विशेषज्ञों ने पाया कि कोविड-19 संक्रमित रहे 20 में से छह शिशुओं में कोरोना के गंभीर लक्षण विकसित हुए और लंबे समय तक इन्हें आईसीयू में रखने की जरूरत पड़ी, हालांकि किसी भी बच्चे की मौत नहीं हुई।

अब तक माना जाता आ रहा था कि बच्चों में कोरोना संक्रमण का खतरा कम होता है, हालांकि इस अध्ययन में कई तरह की नई और हैरतअंगेज बातें पता चली हैं।

एसिम्टोमैटिक मां से भी हो सकता है संक्रमण

माताओं से नवजात शिशुओं में कोविड संचरण के अध्ययन में पाया गया कि भले ही मां में संक्रमण के एसिम्टोमैटिक लक्षण हों, फिर भी उनसे नवजातों में संक्रमण प्रसारित हो सकता है। अध्ययन में संक्रमित पाए गए शिशुओं में से, चार का जन्म एसिम्टोमैटिक लक्षण वाली माता से हुआ था।

बीजे गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज की प्रमुख शोधकर्ता डॉ आरती किनिकर कहती है, फिलहाल अच्छी बात यह है कि संक्रमण से ठीक हो चुके बच्चों (गंभीर लोगों सहित) के फॉलो-अप से पता चलता है कि वे सभी अब स्वस्थ हैं।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ?

इस अध्ययन के बारे में बीजे मेडिकल कॉलेज और ससून जनरल हॉस्पिटल के डीन  डॉ विनायक काले कहते हैं, मां से बच्चों में संक्रमण के जोखिम को लेकर महामारी की शुरुआत से ही चर्चा की जाती रही है, इस अध्ययन से काफी कुछ स्पष्ट होता है। हमने पाया कि मां अगर कोविड के सभी प्रोटोकॉल का पालन करती रहती है तो बच्चों में संक्रमण के खतरे को रोका जा सकता है। कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर का पालन करते हुए स्तनपान कराने को भी सुरक्षित पाया गया है हालंकि इस दौरान मास्क पहनना आवश्यक है। कोरोना के खतरे से बचाव को लेकर सभी लोगों को लगातार ध्यान देते रहने की आवश्यकता है।

Continue Reading

जॉब

10वीं पास उम्मीदवार के लिए भारतीय नौसेना में निकली बंपर भर्ती, जल्द करे आवेदन…

Published

on

 

Indian Navy Recruitment 2022: भारतीय नौसेना में नौकरी (Sarkari Naukri) पाने का सुनहरा मौका है. इसके (Indian Navy Recruitment 2022) लिए Indian Navy ने नौसेना डॉकयार्ड मुंबई के तहत अपरेंटिस के पदों (Indian Navy Recruitment 2022) पर भर्ती के लिए आवेदन मांगे हैं. इच्छुक एवं योग्य उम्मीदवार जो इन पदों के लिए अप्लाई करना चाहते हैं, वे Indian Navy की आधिकारिक वेबसाइट indiannavy.nic.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं. इन पदों (Indian Navy Recruitment 2022) के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 8 जुलाई है.

इसके अलावा उम्मीदवार सीधे इस लिंक https://indiannavy.nic.in/ के जरिए भी इन पदों (Indian Navy Recruitment 2022) के लिए अप्लाई कर सकते हैं. साथ ही इस लिंक http://www.davp.nic.in/WriteReadData/ADS/eng_10702_33_2223b.pdf पर क्लिक करके भी आधिकारिक नोटिफिकेशन (Indian Navy Recruitment 2022) देख सकते हैं. इस भर्ती (Indian Navy Recruitment 2022) प्रक्रिया के तहत कुल 338 पदों को भरा जाएगा.

महत्वपूर्ण तिथियां

ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि- 21 जून 2022 सुबह 10 बजे
ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि – 8 जुलाई 2022

रिक्ति विवरण

कुल पदों की संख्या- 338

योग्यता मानदंड

उम्मीदवारों के पास किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से न्यूनतम 50% अंकों के साथ 10वीं पास होना चाहिए. साथ ही 65% अंकों के साथ संबंधित ट्रेड में ITI पास होना चाहिए.

आयु सीमा

उम्मीदवार की आयुसीमा 01 अगस्त 2001 से 31 अक्टूबर 2008 के बीच होनी चाहिए.

Continue Reading
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement

#Chhattisgarh खबरे !!!!

छत्तीसगढ़2 days ago

PM Kisan Yojana के तहत किसानो के फसे पैसे आ सकते है वापस इन तरीको से…

  PM Kisan Yojana: देश में जितनी भी लाभकारी और कल्याणकारी योजनाएं चल रही हैं, उनमें से कुछ को राज्य तो...

छत्तीसगढ़4 days ago

Health Tips: बदलते मौसम के साथ रखे, अपनी सेहत का इस प्रकार ध्यान….

जून के अंत तक प्राय: देश के ज्यादातर हिस्सों में मानसून आ जाता है। हालांकि मानसून के शुरुआती दिनों में...

छत्तीसगढ़1 week ago

CG NEWS: छत्तीसगढ़-ओडिशा सीमा पर जवानो और नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में 3 जवान शहीद…

  छत्तीसगढ़-ओडिशा की सीमा पर मंगलवार को सुरक्षाबलों की नक्सलियों से मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ में CRPF के 3 जवान शहीद...

छत्तीसगढ़1 week ago

चपरासी के पदों पर बंपर भर्ती,उम्मीदवार 2 जुलाई तक करे आवेदन…

छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग ने चपरासी पद के रिक्त पद को भने के लिए अनुभवी उम्मीदवारों के लिए आवेदन जारी...

छत्तीसगढ़2 weeks ago

बढ़ा कोरोना की खतरा, सीकर में 38 हजार 482 पॉजिटिव केस मिले, एवं 69 हजार 131 केस नगेटिव..

  सीकर में एक बार फिर कोरोना का खतरा बढ़ता जा रहा है।सीकर में शनिवार को कोरोना से एक मरीज...

#Exclusive खबरे

Calendar

July 2022
M T W T F S S
  1 2 3
4 5 6 7 8 9 10
11 12 13 14 15 16 17
18 19 20 21 22 23 24
25 26 27 28 29 30 31

निधन !!!

Advertisement

Trending

  • Tech & Auto7 days ago

    MINI PORTABLE WASHING MACHINE: मार्केट में आते ही धूम मचा रही है ये पोर्टेबल मिनी वाशिंग मशीन कीमत जान आप भी हो जायेंगे हैरान…

  • व्यापर6 days ago

    PM KISAN YOJANA : किसानो के लिए किस्त के बाद आया सबसे बड़ी खुशखबरी…जानिए

  • Tech & Auto7 days ago

    INVERTER AC TIPS : इन्वर्टर या नॉन इन्वर्टर एसी में जाने कौन सी AC होती है खास, इसकी खूबियां जान आप भी हो जायेगे हैरान…

  • देश7 days ago

    केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी : 1 जुलाई से बढ़ने जा रहा है DA में 6 फीसदी बढ़ोतरी,पढ़िये पूरी खबर

  • Tech & Auto6 days ago

    INVERTER AC TIPS : इन्वर्टर या नॉन इन्वर्टर एसी में जाने कौन सी AC होती है खास, इसकी खूबियां जान आप भी हो जायेगे हैरान…

  • Tech & Auto6 days ago

    OnePlus Nord 2T का स्मार्टफ़ोन लांच,मिल रहा 12GB रैम के साथ दमदार फीचर्स

  • देश6 days ago

    केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी : 1 जुलाई से बढ़ने वाला है DA में 6 फीसदी बढ़ोतरी,पढ़िये पूरी खबर

  • देश5 days ago

    केंद्रीय कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी : 1 जुलाई से बढ़ने जा रहा है DA में 6 फीसदी बढ़ोतरी,पढ़िये पूरी खबर

  • Tech & Auto5 days ago

    MINI PORTABLE WASHING MACHINE: मार्केट में आते ही धूम मचा रही है ये पोर्टेबल मिनी वाशिंग मशीन कीमत जान आप भी हो जायेंगे हैरान…

  • देश - दुनिया7 days ago

    काम की बात: इस दिन से बदल जायेंगे आधार-पैन कार्ड, SBI, RTO, TDS, से जुड़े नियम, जल्द देखे ये पूरे नियम…